26 फरवरी, 2021 ..
समग्र

चुनाव और रैलिया हो रही है तो सरकारी भर्तियां क्यों नहीं?

प्रियंका सौरभ

हरियाणा सरकार ने पिछले एक साल से नई भर्तियों पर रोक लगा रखी है, बहाना है कोरोना. जबकि इस दौरान चुनाव, रैलियां और आंदोलन खुलेआम जारी है. यही नहीं बेरोजगार युवाओं को लूटने के लिए प्रदेश की सबसे महंगी परीक्षा एचटेट सरकार ने मात्र पंद्रह दिनों में करवाकर अरबों रूपये एकत्रित कर लिए

बंगाल चुनाव देश की राजनीति की दिशा तय करेगा

डाँ नीलम महेंद्र

बंगाल एक बार फिर चर्चा में है. गुरुदेव रबिन्द्रनाथ टैगोर, स्वामी विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, औरोबिंदो घोष, बंकिमचन्द्र चैटर्जी जैसी महान विभूतियों के जीवन चरित्र की विरासत को अपनी भूमि में समेटे यह धरती आज अपनी सांस्कृतिक धरोहर नहीं बल्कि अपनी हिंसक राजनीति के कारण चर्चा में है.

खुलने लगे स्कूल, हो न जाये भूल

प्रियंका सौरभ

1 जनवरी से केरल, कर्नाटक और असम के स्‍कूलों को दोबारा से खोला गया है. बिहार सरकार के आदेशानुसार 4 जनवरी 2021 से राज्य भर के सभी सरकारी स्कूलों और कोचिंग सेंटरों को खोल दिया जाएगा.

कंट्रोल महानुभाव! कंट्रोल!...2022 की ख़ातिर ही सही

रेखा पंकज

निसार उन के जाएँ जो सच जाने उस को फसाना हमारा, जबानी तुम्हारी यह शेर नसीम देहलवी जी ने कहा है और यहां इस का जिक्र कुछ भी बोल देने की आदत से लाचार उन महानुभावों के लिए है जो बयानबाजी करते वक्त भूल जाते है कि फ़सानों के पांव नहीं होते वे हवा की माफिक फिजां में तैरते है.

कोरोना: मारता ही नहीं, कुछ को तारता भी है!

अजय बोकिल

जी हां, नाम में बहुत कुछ रखा है, फिर चाहेकोरोना ही क्यों न हो. आज सारा देश इस बेरहम वायरस से बचाव की वैक्सीन आ जाने और उसे लगवाने के महाभियान में डूबा है.

सामाजिक समीकरण साधने में नाकाम योगी पर आलकमान को नहीं है पूरा भरोसा

अजय कुमार

उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष विधान सभा चुनाव होने हैं.बीजेपी सत्ता में रिटर्न होगी या फिर हमेशा की तरह यूपी के मतदाता इस बार भी ‘बदलाव’ की बयार बहाने की परम्परा को कायम रखेंगे ?

सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर लगाम ही आएगी काम

डॉ. सत्यवान सौरभ

सोशल मीडिया संचार, सहयोग, शिक्षा जैसे विषयों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और परिणामस्वरूप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को सार्वजनिक और सरकारी अधिकारियों की भागीदारी की तरह इसे महत्वपूर्ण मानते हैं.