Loading...
RSS
बीजेपी-जेडीयू गठबंधन से फायदा होगा या नुकसान? पता नहीं!

अभिमनोज

बीजेपी ने बिहार में अपनी सियासी जमीन बचाने के लिए जेडीयू से गठबंधन किया है और इसमें पिछली बार की जीती पांच सीटें भी गंवाई है, लेकिन सवाल यह है कि लोकसभा चुनाव में इससे बीजेपी और जेडीयू को फायदा होगा या नुकसान? राजनीतिक जानकारों का जवाब है- पता नहीं!
वजह? बीजेपी-जेडीयू ने गठबंधन तो कर लिया है, किन्तु अपने-अपने समर्थकों को एक-दूजे दल के समर्थन में प्रचार और मतदान करवाना आसान काम नहीं है.
कई ऐसी सीटें है जहां बीजेपी जीतती रही है, लेकिन इस बार जेडीयू को दे दी गई हैं. इन सीटों पर चुनाव लड़ने की तमन्ना रखने वाले बीजेपी नेताओं को तो निराशा हुई ही है, बीजेपी समर्थक भी परेशान हैं.
जाहिर है, जहां बीजेपी नेताओं का आक्राम



मोदी के खिलाफ विवादित बयानों की आंधी

ललित गर्ग

आम चुनाव के प्रचार में इनदिनों विवादित बयानों की बाढ़ आयी है, सभी राजनीतिक दल एक-दूसरे पर कीचड़ उछाल रहे हैं, गाली-गलौच, अपशब्दों एवं अमर्यादित भाषा का उपयोग कर रहे हैं, जो लोकतंत्र के इस महापर्व में लोकतांत्रिक मूल्यों पर कुठाराघात है. विशेषतः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता और उनकी जन-कल्याण की योजनाओं से भड़के कांग्रेस एवं महागठबंधन के नेता अपनी जुबान संभाल नहीं पा रहे. जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव का उग्र प्रचार होता जा रहा है वैसे-वैसे प्रधानमंत्री मोदी के प्रति विभिन्न राजनीतिक दलाओं के नेताओं की बौखलाहट बढ़ती जा रही है. नरेन्द्र मोदी के दर्शन, उनके विकासमूलक कार्यक्रमों, उनके व्यक्तित्व, उनकी बढ़ती



जनता की अदालत में फैसला अभी बाकी है!

डाँ नीलम महेंद्र

कुछ समय पहले अमेरिका के एक शिखर के बेस बॉल खिलाड़ी जो कि वहाँ के लोगों के दिल में सितारा हैसियत रखते थे उन पर अपनी पत्नी की हत्या का आरोप लगा. लेकिन परिस्थिति जन्य साक्ष्य के आभाव में वो अदालत से बरी कर दिए गए जबकि जज पूरी तरह आश्वस्त थे कि कत्ल उसने ही किया है क्योंकि फैसला कानून के दायरे में ही किया जाता है. अदालत या फिर कोई संवैधानिक संस्था चाहे कहीं की भी हो विश्व में उनके द्वारा इस प्रकार के फैसले दिए जाना कोई नई या अनोखी बात नहीं है. लेकिन अदालत के इस फैसले के बाद जो अमेरिका में हुआ वो जरूर अनूठा था. क्योंकि कोर्ट से बाइज़्ज़त बरी होकर ये सितारा खिलाड़ी जब अपने महलनुमा घर पहुंचे तो उनके चौकीदार ने उन्हें घर की चाब



चुनाव के बाद भी परेशानी पैदा कर सकती है पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म?

प्रदीप द्विवेदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी- पीएम नरेंद्र मोदी फिल्म पांच अप्रैल को रिलीज किया जाना प्रस्तावित था, लेकिन इसे टाल दिया गया है! 

खबर है कि... फिल्म की रिलीज अगले हफ्ते तक के लिए टाल दी गई है? परन्तु, नई रिलीज डेट नहीं आई है! 

अदालत ने इसे रिलीज करने को लेकर स्वीकृति दे दी थी, बावजूद इसके इस फिल्म के रिलीज को रोकने पीछे कारण क्या है, यह अभी साफ नहीं हो पाया है?

पलपल इंडिया की रिपोर्ट- अखबार में पेड न्यूज पर तो हजार सवाल, इस फिल्म के बारे में क्या कहना है? में जो मुद्दे उठाए गए थे, यदि उन पर चुनाव आयोग कार्रवाई करता है या चुनाव के बाद कोई अदालत में याचिका दायर करता है तो पीएम मोदी का चुनाव सवालों के घेर



जीवन व्यस्त हो, अस्तव्यस्त नहीं

ललित गर्ग

असन्तुलन एवं अस्तव्यस्तता ने जीवन को जटिल बना दिया है. बढ़ती प्रतियोगिता, आगे बढ़ने की होड़ और अधिक से अधिक धन कमाने की इच्छा ने इंसान के जीवन से सुख, चैन व शांति को दूर कर दिया है. सब कुछ पा लेने की इस दौड़ में इंसान सबसे ज्यादा अनदेखा खुद को कर रहा है. बेहतर कल के सपनों को पूरा करने के चक्कर में अपने आज को नजरअंदाज कर रहा है. वह भूल रहा है कि बीता हुआ समय लौटकर नहीं आता, इसलिए कुछ समय अपने लिए, अपने शरीर, अपने शौकों और उन कामों के लिए, जो आपको खुशियां देते हैं, रखना भी बहुत जरूरी है. 
समय ही नहीं मिलता! कितनी ही बार ये शब्द आप दूसरों को बोलते हैं तो कितनी ही बार दूसरे आपको. क्या वाकई समय नहीं मिलता? सच ये भी तो है कि जिनसे हम



वंशवाद तो विज्ञान सम्मत है, वंशवाद को लेकर पीएम मोदी काहे नाराज हैं?

प्रदीप द्विवेदी

वंशवाद को लेकर गांधी परिवार पर हमला करने का कोई भी मौका पीएम नरेन्द्र मोदी छोड़ते नहीं हैं, लेकिन उनका वंशवाद विरोध कितना विचित्र है, इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि- एक ओर तो वे राहुल गांधी का विरोध करते हैं और दूसरी तरफ वरुण गांधी और मेनका गांधी को मनमर्जी की सीट से टिकट देते हैं. आखिर दोनों के वंश में फर्क क्या है? यही कि- राहुल गांधी, मोदी के खिलाफ हैं और वरुण गांधी, मोदी के साथ!
खबर थी कि विस चुनाव के दौरान एमपी के एक बड़े नेता पर पीएम मोदी इसलिए नाराज हो गए थे कि वे अपने बेटे के टिकट के लिए प्रयास कर रहे थे, परन्तु राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बेटे दुष्यंत सिंह का टिकट काटने की हिम्मत न तो



चुनावी लोकतंत्र : बस, पांच कदम चलना होगा..

अरुण तिवारी

पार्टिंयां चुनावों की तैयारी करती हैं. पार्टियां ही उम्मीदवार तय करती हैं. पांच साल वे क्या करेंगी; इसका घोषणापत्र भी पार्टियां ही बनाती हैं. चुनाव किन मुद्दों पर लड़ा जायेगा; मीडिया के साथ मिलकर ये भी पार्टियां ही तय कर रही हैं. मतदान की मशीन पर चुनने के लिए छपे हुए निशान भी  पार्टियों के ही होते हैं. मतदाता भी अपना मत, उम्मीदवार से ज्यादा, पार्टियों को ध्यान में रखकर ही देता है. यह लोकसभा के लिए लोक-प्रतिनिधि चुनने का चुनाव है कि पार्टिंयां चुनने का ? 

लोगों  को अपना प्रतिनिधि चुनना है. क्या चुनाव से पूर्व कभी लोगों से पूछा जाता है, हां भई, आप बताइए कि किस-किस को उम्मीदवार बनाया जाए ? 

सोचिए. स्वयं से प



गुना और छिंदवाड़ा ने नहीं बनने दिया एमपी को गुजरात-राजस्थान!

अभिमनोज

वर्ष 2014 में मोदी मैजिक के चलते गुजरात में 26 में से 26 सीटें, तो राजस्थान में 25 में से 25 सीटें बीजेपी ने जीत लीं, लेकिन गुना और छिंदवाड़ा के कारण एमपी में 29 में से 27 सीटें ही भाजपा को मिलीं, अब सवाल यह है कि- क्या एमपी में ये 27 सीटें भी बचा पाएगी बीजेपी? 
एमपी में भोपाल, जबलपुर, इंदौर, विदिशा, सागर, खजुराहो, सतना जैसी एक दर्जन से ज्यादा ऐसी सीटें हैं, जहां करीब डेढ़ दशक से कांग्रेस को जीत का इंतजार है? लेकिन, अब कांग्रेस इन सीटों पर भी फोकस है और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को भोपाल से चुनाव लड़वाने का मकसद भी यही है कि इन सीटों से हार का ठप्पा हटाया जाए.
गुना सीट पर कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया वर्ष 2002 से लगा



काश! मैं होता सांसद

हेमेन्द्र क्षीरसागर

काश! मैं होता सांसद यह प्रश्न बार-बार मेरे जेहन में कौंधकर रहा है कि मुझे अब सांसद बनने जनता की अदालत में जाना चाहिए. इसलिए की मेरे सांसद ने मुझे, क्षेत्र और मूल्क को धोखा देकर विकास व समृद्धि को रोका है. यहां तक कि झोली में आई सांसद निधी मुंह दिखाई के नाम पर रेवड़ियों की तरह बांटी गई वह भी आधी-अधूरी. भेड़चाल इनकी मौजूदगी के कोई मयाने नहीं रहे, रवानगी ही समय की मांग और आवश्यकता है. विपद ये ज्यादा देर टीके रहे तो बचा-कचा भी बेड़ागर्ग हो जाएगा. दुर्भाग्यवश! असलियत कहें या हकीकत अधिकतर सांसदों के आलम यही है. बतौर इनके प्रति बढ़ता जनाक्रोश थमने का नाम नहीं ले रहा है मद्देनजर नकारों को नकारने मुस्तैदी से बदलाव की बयार लाना ह



तो अब बीजेपी-ए बदल रही है बीजेपी-एम में.कैसे दोहराएंगे 2014 की जीत?

प्रदीप द्विवेदी

राजस्थान में भारत वाहिनी पार्टी के प्रमुख घनश्याम तिवाड़ी कांग्रेस में शामिल हो गए हैं, शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस में शामिल होने जा रहे हैं, लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी आदि का लोस टिकट कट गया है, ये सारे संकेत हैं कि आठवें दशक में अटल-आडवाणी के नेतृत्व में बनी बीजेपी, अब मोदी-शाह की बीजेपी हो गई है? 
उधर, गुजरात में कभी पीएम मोदी के प्रमुख मित्र रहे प्रवीण तोगड़िया, बीजेपी के खिलाफ न केवल झंडा लहरा रहे हैं, बल्कि लोस चुनाव में वाराणसी में पीएम मोदी को चुनौती भी देने की तैयारी कर रहे हैं!
ये सारे बदलाव बताते हैं कि पीएम मोदी के लिए 2019 की राह आसान नहीं है. वर्ष 2014 में पीएम मोदी के पास भ्रष्टाचार के विरूद्ध सि



कल तक वो रीना थी लेकिन आज रेहाना है!

डाँ नीलम महेंद्र

दिन की शुरुआत अखबार में छपी खबरों से करना आज लगभग हर व्यक्ति की दिनचर्या का हिस्सा है. लेकिन कुछ खबरें सोचने के लिए मजबूर कर जाती हैं कि क्या आज के इस तथाकथित सभ्य समाज में भी मनुष्य इतना बेबस हो सकता है? क्या हमने कभी खबर के पार जाकर यह सोचने की कोशिश की है कि क्या बीती होगी उस 12 साल की बच्ची पर जो हर रोज़ बेफिक्र होकर अपने घर के आंगन में खेलती थी लेकिन एक रोज़ उसका अपना ही आंगन उसके लिए महफूज़ नहीं रह जाता? आखिर क्यों उस आंगन में एक दिन यकायक एक तूफान आता है और उसका जीवन बदल जाता है? वो बच्ची जो अपने माता पिता के द्वारा दिए नाम से खुद को पहचानती थी आज वो नाम ही उसके लिए बेगाना हो गया. सिर्फ नाम ही नहीं पहचान भी पराई हो गई. कल



क्या गंगा को सिर्फ चुनावी वाहन मानने वालों को अपना प्रतिनिधि चुनें ?

अरुण तिवारी

2014 के लोकसभा चुनाव को याद कीजिए.मैं आया नहीं हूं.मां गंगा ने बुलाया है. मोदी जी का यह वाक्य याद कीजिए.कहना न होगा कि गंगा के सहारे चुनावी नौका पार करना, 2014 के प्रधानमंत्री पद के दावेदार श्री मोदी का एजेण्डा था.2019 में अब यह राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनाने की अपील करने वाली प्रियंका गांधी का एजेण्डा है.प्रियंका ने लोगों को लिखे खुले खत में कहा है, गंगाजी उत्तर प्रदेश का सहारा है और मैं भी गंगा जी के सहारे हूं.

मोदी जी ने पांच साल तक गंगा के हितों की जमकर अनदेखी की.गंगा की अविरलता-निर्मलता के अनशन करते हुए स्वामी सानंद की मौत हो गई.कुछ पता नहीं कि संत गोपालदास कहां और कैसे लापता हो गए ? स्वामी आत्मबोधानन्द, आज भी सं



चुनाव, नारे और मैनेजमेंट 

मनोज कुमार

कभी इंदिरा इज इंडिया, फिर शाइनिंग इंडिया, फिर चाय पर चर्चा और मोदी है तो मुमकिन है.. कुछ इस तरह के चुनाव प्रचारों का स्वरूप बदलता रहा है. पहले दो नारों ने इंदिरा गांधी और अटलबिहारी वाजपेई को सत्ता से बाहर कर दिया था. राजीव गांधी के समय में चुनाव में एक अलग किस्म का प्रयोग हुआ था जो पारम्परिक प्रचार से दूर था और जिसके शिल्पकार सैम पित्रोदा माने गए थे. यह चुनावी विज्ञापन मतदाताओं को लुभा नहीं पाया। बदले दौर में युवा भारत में युवा मतदाताओं को उनकी ही भाषा में जब चुनाव प्रचार आरंभ हुआ तो जीत जैसे सिर चढ़ कर बोली। 2014 के चुनाव में  चाय पर चर्चा ने मोदी को अकल्पनीय विजय दिलायी तो  इस बार मोदी सरकार ने अपने कार्यकाल में



बीजेपी बाद में, पहले कांग्रेस-बसपा की बढ़ती दूरियां तो कम हों?

प्रदीप द्विवेदी

लोस चुनाव की घोषणा के साथ ही चुनावी चर्चाएं गर्मा गई हैं कि इस बार केन्द्र में किसकी सरकार बनेगी? सबकी नजरें यूपी पर हैं, क्योंकि जो यूपी जीतेगा, वहीं केन्द्र का सियासी सिकंदर होगा!
यूपी का सियासी समीकरण बेहद उलझा हुआ है, लिहाजा न तो बीजेपी 2014 दोहराने की स्थिति में है और न ही सपा-बसपा गठबंधन उपचुनाव जैसा चमत्कार दिखाने की हालत में है? 
कर्नाटक विधानसभा चुनाव तक कांग्रेस-बसपा के सियासी संबंध अच्छे थे, लेकिन एमपी, राजस्थान सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के दौरान, सियासी ताकत से ज्यादा बसपा द्वारा सीटें मांगने के कारण, कांग्रेस ने एकला चालो का रूख अपना लिया. इसके बाद बीएसपी प्रमुख मायावती की नाराजगी कां



केवल उपभोक्ता नही... जागरूक उपभोक्ता बने!

निरंजन द्विवेदी

उपभोक्ता सरंक्षण कानून, अर्थात- बाजार व्यवस्था में खरीदारी के दौरान उपभोक्ता हितों की सुरक्षा हेतु किये गये प्रावधान और व्यवस्थायें. कानूनी तौर पर व्यापक प्रावधानों के बावजूद बाजार व्यवस्था में उपभोक्ता शिकायतें हैं और उपभोक्ताओं को भ्रमित करने पर्याप्त वातावरण मौजूद है. बाजार में हर तरह की सामग्री व सेवायें उपलब्ध हैं और उपभोक्ता अपने विवेक से अच्छी वस्तुओं का चयन करने के लिये स्वतंत्र हैं. बाजार में उपभोक्ताओं को आकर्षित करने की मौजूद- उपहार, ईनाम आदि योजनाएं, विज्ञापनों का प्रभावी वातावरण, ऑफर के इंतजाम और श्रेष्ठ वस्तुसेवा उपलब्ध करवाने के दावों के बीच उपभोक्ता की सजगता की परीक्षा है.
किसी भी



राजनीति की बात करना मना है!

हेमेन्द्र क्षीरसागर

 राजनीति अब इतनी नागवार लगने लगी है कि राजनीति की बाते करने से लोग परेहज लगे है. तभी तो दुकानों में, कार्यालयों में, घरों में तख्ती लटका कर और समूहों में इत्तला देकर सजग किया जाने लगा है कि यहां राजनीति की बातें करना मना है. मना क्यों बात ही तो कर रहें उसमें हर्ज किसलिए? हां दिक्कत तो है इसलिए आनाकानी हो रही है. कारण भी जायज है ना, नीति का राज आज राज की नीति बन गई है उसमे हरेक दल डुबकी लगाना चाहता है. पर जनता तू-तू, मैं-मैं से लथपथ इस मायावी दलदल में नहीं घुसना चाहती. भूलभूलैया भरे माहोल कि राजनीति से भरोसा जो उठने लगा है? उस पर अपनी-अपनी पीठ थपथपाई बात-बात पर बाहे तानना मनाही का कारक बन गई है. तभी इससे बचे व बचाओं के बोल



क्या लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव की रिस्क लेंगे पीएम मोदी?

अभिमनोज

 पीएम नरेन्द्र मोदी ने कभी देश में विभिन्न प्रदेशों के विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव को एक साथ कराने की अपील की थी. करीब एक वर्ष पहले नीति आयोग की गवर्निग काउंसिल की बैठक को संबोधित करते हुए पीएम नरेन्द्र मोदी ने सभी पक्षों से इस बारे में गंभीरता से विचार करने और इस मुद्दे पर व्यापक बहस करने की अपील भी की थी. पीएम नरेन्द्र मोदी का कहना था कि इसके वित्तीय फायदे के अलावा भी कई तरह के लाभ हो सकते हैं. 
उल्लेखनीय है कि- केन्द्र में सत्ता में आने के बाद पीएम नरेन्द्र मोदी लगातार देश में हर चुनाव को एकसाथ करवाने का मुद्दा उठाते रहते हैं, जबकि गैरभाजपाई दल इससे सहमत नहीं रहे है. तब, गवर्निग काउंसिल की बैठक के बाद न



अपने अधिकारों के लिए जागरूक होती स्त्री

मनोज कुमार

8 मार्च कैलेण्डर की एक तारीख मात्र नहीं है बल्कि महिला सशक्तिकरण की वह तारीख है जो पितृ समाज को इस बात का एहसास दिलाती है कि महिलाएं हर सेक्टर में बराबरी के साथ काम कर सकती हैं. बल्कि कई सेक्टर ऐसे हैं जिसमें महिलाओं का दखल सबसे ऊपर है. भारतीय संविधान में महिलाओं को बराबरी का अधिकार दिया गया है. कई बार कानून की जानकारी ना होने के कारण महिलाएं अपने अधिकारों से वंचित रहती हैं. पितृ पुरुष समाज भी नहीं चाहता कि महिलाएं उनके समकक्ष खड़ी हों, इसलिए भी वह कानून से महिलाओं को परे रखता है. हालांकि समय बदल रहा है और महिलाओं में जागरूकता बढ़ रही है. अब वे ना केवल अपने अधिकारों के लिए आगे आ रही हैं बल्कि अन्याय के खिलाफ लामबंद



कैसे जीतेंगे? मोदी जिस अदा से झूठ बोलते हैं, राहुल तो उस शानदार अंदाज में सच भी पेश नहीं कर पाएंगे

प्रदीप द्विवेदी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का कहना है कि उन्होंने राजनीति में कदम रखने के बाद कभी कोई झूठ नहीं बोला, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि- राहुल गांधी, सियासी अभिनय में नरेन्द्र मोदी को मात कैसे देंगे? मोदी जिस अदा से झूठ बोलते हैं, राहुल तो उस शानदार अंदाज में सच भी पेश नहीं कर पाएंगे.
लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पीएम नरेन्द्र मोदी राजस्थान में आए, नजरें थी 25 लोकसभा सीटों पर और निशाना थी कांग्रेस, लेकिन उन्होंने जो कुछ भाषण में कहा उसको लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उन्हें झूठा करार दिया? सीएम गहलोत का कहना था कि- लोकसभा चुनावों का समय है, बेशक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रदेश में आयें, दौरे करें लेकिन मेरा उ



अभिनंदन बनाम जिनेवा संधि 

गिरीश बिल्लोरे “मुकुल”

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का संसद के संबोधन किसी भी एक भयभीत व्यक्ति की अभिव्यक्ति है.वे जो संसद को बता रहें हैं तथा संसद के ज़रिए जो विश्व के सामने कहा जा रहा है... ठीक उससे उलट कार्यक्रम पाकिस्तान की सेना के पास होगा.

पाकिस्तान की संसद में 28 फरवरी 2019 को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की स्थिति देखकर   भारतीय कूटनीतिक विजय का विषाद उनके चेहरे पर साफ़ नजर आ रहा था  .इससे इस बात की भी तस्दीक हो जाती है कि अब वास्तव में विश्व समुदाय ने भारतीय कूटनीतिक की कोशिश पर समवेत स्वर में सहमति जताई है.पाकिस्तान ने हमेशा भारत के साथ धोखा ही किया है उसके दिमाग़ में भारत एक दबाव में आने वाला मुल्क था.किन्तु भारत अब बदल चुका है. यह



कब पाक होगा,नापाक पाकिस्तान...

कुमार राकेश

जब से पाकिस्तान बना है.अशांत है,बेबस है.परेशान है.जद्दोजहद से भरा हुआ और अपने जन्मदाता  भारत से चिढ़ा हुआ.शायद पाकिस्तान ने कभी नहीं सोचा कि ऐसा उसके साथ क्यों हुआ?ऐसा उसके साथ क्यों हो रहा है? शायद सोचता तो आज वो अपने जन्मदाता भारत के साथ कंधे से कंधे मिलाकर चलता.साथ में भारत की संस्कृति सत्य,अहिंसा और न्याय के मार्ग को भी अपनाता.पर करे तो क्या करें पाकिस्तान.उसे अपने राष्ट्र पिता मोहम्मद अली जिन्ना की गलतियों और गलत महत्वकांक्षी स्वाभाव का सिला झेलने को मजबूर होना पड़ा हैं.पता नहीं पाकिस्तान कब सुधरेगा.कब वहां पर जीवंत और निष्पाप लोकतंत्र उस नापाक धरती को पाक में तब्दील करेगा. पता नहीं कब सुधरेगा पाकिस्तान?



आतंकिस्तान : नहाय क्या निचोय क्या ?

गिरीश बिल्लोरे “मुकुल”
मित्रों यह लेख मैंने 23 सितंबर 2017 को लिखा था . इस आलेख में 2 साल पूर्व की पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था का सटीक विश्लेषण विभिन्न सूचना वाले को एवं जानकारियों के आधार पर कर दिया गया था. अगर पाकिस्तान की प्रोमिलिट्री डेमोक्रेसी मैं किसी भी तरह का प्रोग्रेसिव नजरिया दिखाई देता तो निश्चित तौर पर बीते 2 सालों में भारत पाकिस्तान से इतना मजबूत नहीं होता जितना कि आज की स्थिति में है आज युद्ध की संभावना हो या ना हो युद्ध की स्थिति बनी हुई है. एक कहावत है कि छोटी सोच और पैर की मोच कभी भी दौड़ने नहीं देती दौड़ने क्या चलने भी नहीं देती !.... और पाकिस्तान ने अपनी छोटी सोच के चलते अपने संपूर्ण विकास कार्यक्रमों के बारे में ना सोचते हुए के


मध्यप्रदेश की यह राजनीतिक तासीर तो है नहीं

मनोज कुमार

11 दिसम्बर की तारीख मध्यप्रदेश की राजनीति के लिए अहम तारीख थी. इस दिन डेढ़ दशक बाद सत्ता में परिवर्तन हुआ तो साथ में राजनीतिक बेचैनी का आभास भी हुआ. हालांकि मध्यप्रदेश की यह तासीर नहीं है कि निर्वाचित सरकार को बेदखल करने की चर्चा आम हो जाए. वह भी तब यह जानते हुए कि ऐसा होना पाना मुमकिन भले ही ना हो लेकिन इस बैचेनी से प्रदेश में राजनीतिक अस्थिरता का माहौल बन जाने का अहसास तो हो रहा है. देश का ह्दयप्रदेश कहलाने वाले मध्यप्रदेश की राजनीतिक तासीर का जो स्वरूप आज देखने में आ रहा है, वह बीते छह दशक की बात करें तो कभी ऐसा नहीं हुआ. यकीनन डेढ़ दशक के लम्बे राजकाज के बाद भारतीय जनता पार्टी का सत्ता से बेदखल हो जाना उन्हें रू



समय है देश विरोधियो के चहरे से नकाब उतारने का

डाँ नीलम महेंद्र

पुलवामा की आतंकवादी घटना के बाद से जिस प्रकार के कदम हमारी सरकार राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठा रही है उससे ना सिर्फ देश में एक सकारात्मक माहौल उत्पन्न हुआ है बल्कि इन ठोस कदमों ने  हमारे सुरक्षा बलों के मनोबल को भी ऊंचा किया है.लेकिन यह खेद का विषय है कि सरकार के जिन प्रयासों का स्वागत पूरा देश कर रहा है उनका विरोध देश की सबसे पुरानी राजनैतिक पार्टी कांग्रेस समेत जम्मू कश्मीर के स्थानीय विपक्षी दल कर रहे हैं.काश कि ये समझ पाते  कि इनका गैर जिम्मेदाराना और सरकार विरोधी आचरण देश विरोध की सीमा तक जा पहुंचा है .क्योंकि अपने राजनैतिक हितों के चलते इन लोगों ने कश्मीर समस्या को और उलझाने का ही  काम कि



चलो, चलें प्रधानमंत्री बनें!

हेमेन्द्र क्षीरसागर

देश में लोकसभा चुनाव आते देख सियासतदारों के मुंह में लड्डू फूटने लगे कि मैं भी अब प्रधानमंत्री बन सकता हूँ.बेला में चलो, चले प्रधानमंत्री बने की होड़ लगी हुई है.ताबड़तोड़ मेरा वोट-तेरा वोट मिलाकर करेंगे चोट की सोच से चुनाव फतह करने की तैयारी दम मार रही है.फुसफुसाहट बेमर्जी गठबंधन, मतलबी दिखावा और दुश्मन का दुश्मन दोस्त बनाने का चलन जोरों पर है.मतलब आइने की तरह बिल्कुल साफ है प्रधानमंत्री की कुर्सी जिसे पाने की जुगत में महागठबंधन नामक समूह का हर छोटा-बड़ा दल काफी मशकत कर रहा है.बस इस फिराक में की कब नरेन्द्र मोदी हटे और हम वहां डटे. 
     खुशफहमी बिना नेता, नीति और नियत के राजनीतिक लिप्सा शांत होने के बजाए बढ़



नए भारत का आगाज़

डाँ नीलम महेंद्र

यह सेना की बहुत बड़ी सफलता है कि उसने पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड अब्दुल रशीद गाज़ी को आखिरकार मार गिराया हालांकि इस ऑपरेशन में एक मेजर समेत हमारे चार जांबांज सिपाही वीरगति को प्राप्त हुए. देश इस समय बेहद कठिन दौर से गुज़र रहा है क्योंकि हमारे सैनिकों की शहादत का सिलसिला लगातार जारी है. अभी भारत अपने 40 वीर सपूतों को धधकते दिल और नाम आँखों से अंतिम विदाई दे भी नहीं पाया था, सेना अभी अपने इन वीरों के बलिदान को ठीक से नमन भी नहीं कर पाई थी, राष्ट्र अपने भीतर के घुटन भरे आक्रोश से उबर भी नहीं पाया था, कि 18 फरवरी की सुबह फिर हमारे पांच जवानों की शहादत की एक और मनहूस खबर आई. 

पुलवामा की इस हृदयविदारक घटना में सबसे अधिक



पुलवामा हमला: बलिदान का बदला कब?

हेमेन्द्र क्षीरसागर

वीभत्स् आतंकी करतूतों से देश एक बार और दहल गया जब पाकिस्तान कहें या आतिंकस्तान की कोख व पनाहगाह में पैदा हुई नापक औलादों ने 14 फरवरी को जम्मू-श्रीनगार हाईवे पर पुलवामा के अवंतिपुरा में केन्द्रीय रिर्जव पुलिस बल के काफिले पर फिदायीन हमला कर दिया. बरबस 44 सैनिक शहीद हो गए, बाकि अस्पताल में जिंदगी व मौत की जंग लड़ रहे है. जालिमों ने 200 किलो विस्फोटक से लदी एसयूवी कार को सैनिकों से भरी सीआरपीएफ की बस से भिड़ा दी. बेगर्द आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस कायराना हमले की जिम्मेदारी लेते हुए कश्मीर के गुंडीबा-पुलवामा के आतंकी आदिल अहमद ने अंजाम देना बताया.  
अध-बीच सोचनिए बात! सुरक्षा से चाकचौबंध अतिसंवेदनशील घाटी में



किसके वादे और किसके इरादे मतदाताओं को प्रभावित कर पाएंगे?

अभिमनोज

लोकसभा चुनाव आ रहे हैं और जहां तीन प्रमुख राज्यों- मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ की हार से घबराई बीजेपी की पीएम मोदी सरकार केन्द्र में सत्ता बचाने के लिए में लगातार चाकलेटी वादे कर रही है, वहीं इन तीन राज्यों में जीत से उत्साहित कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी केन्द्र की सत्ता मिलने पर मीठे इरादों का इजहार कर रहे हैं, आश्चर्यचकित जनता खामोश है तो सियासी जानकार लोस चुनाव का समीकरण सुलझाने में व्यस्त हैं!
एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के मुद्दे पर विधानसभा चुनाव में सामान्य वर्ग की ओर से तगड़ा झटका मिलने के बाद अब पीएम मोदी टीम ने इस वर्ग को मनाने के लिए सरकारी नौकरियों में सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण देना का



हिन्दी भारत की अदालतों में भी प्रतिष्ठित हो

ललित गर्ग

संयुक्त अरब अमारात याने दुबई और अबूधाबी ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी को अपनी अदालतों में तीसरी आधिकारिक भाषा के रूप में शामिल कर लिया है. इसका मकसद हिंदी भाषी लोगों को मुकदमे की प्रक्रिया, उनके अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में सीखने में मदद करना है. न्याय तक पहुंच बढ़ाने के लिहाज से यह कदम उठाया गया है. अमारात की जनसंख्या 90 लाख है. उसमें 26 लाख भारतीय हैं, इन भारतीयों में कई पढ़े-लिखे और धनाढ्य लोग भी हैं लेकिन ज्यादातर मजदूर और कम पढ़े-लिखे लोग हैं. इन लोगों के लिए अरबी और अंग्रेजी के सहारे न्याय पाना बड़ा मुश्किल होता है. इन्हें पता ही नहीं चलता कि अदालत में वकील क्या बहस कर रहे हैं और जजो



शोपियां में सुरक्षाबलों ने मार गिराए दो आतंकी, मुठभेड़ जारी

J&K: हाईवे पर बड़ा हमला करने की साजिश रच रहे आतंकी, रेड अलर्ट जारी

पाकिस्तान ने भारतीय चौकियों पर की गोलीबारी, तीन घायल

बारामूला में पुलिसकर्मियों को चुनाव ड्यूटी पर ले जा रहा वाहन दुर्घटनाग्रस्त,10 घायल

उमर ने श्मीर के मतदाताओं से कहा, 'समझदारी से दें वोट'

लोगों को हिंसा के लिए उकसा रहीं महबूबा मुफ्ती,किया जाये गिरफ्तार:BJP

गंभीर की गुगली पर महबूबा हुईं क्लीन बोल्ड, ट्वीटर पर किया ब्लॉक

NIA ने अलगाववादी नेता यासीन मलिक को किया गिरफ्तार

J&K के किश्तवाड़ में RSS नेता पर आतंकी हमला, PSO समेत 2 की मौत

UAE से प्रत्यर्पित जैश कमांडर का खुलासा,उसे पुलवामा हमले के बारे में था पता

अनुच्छेद 370,35A को हटाने से कश्मीर में आजादी का मार्ग प्रशस्त होगा:फारूक

रविवार और बुधवार को काफिला भेजने के जम्मू कश्मीर सरकार के आदेश को सेना की ना

बीजेपी के 370 हटाने के वादे पर बोलीं महूबबा- आग से खेलना बंंद करो

मीरवाइज उमर आतंकी फंडिंग मामले में NIA के सामने पेश होने आखिरकार दिल्‍ली पहुंचे

आतंकियों से निपटने AK-203 असाॅल्‍ट राइफलों से लैस होगी भारतीय सेना

जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर अब सप्‍ताह में दो दिन आम नागरिकों की इंट्री पर बैन

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने सेना के जवान की गोली मारकर हत्या कर दी

NIA का मीरवाइज को दिल्ली में पेश होने तीसरा समन

श्रीनगर सेंट्रल जेल में कैदियों का हंगामा, शेल्टर में लगाई आग

भारतीय वायुसेना के जवानों को ले जा रहा वाहन दुर्घटनाग्रस्त, दो जवानों की मौत

धारा 370 हटी तो कश्मीर में भारत महज कब्जा करने वाली ताकत होगा: महबूबा

जम्मू-कश्मीर में अमित शाह बोले-जहां हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है

महबूबा की चेतावनी: धारा 370 से की छेड़छाड़ तो भारत से नाता तोड़ लेगा कश्मीर

सेना ने पाक के सीजफायर उल्लंघन का दिया मुंहतोड़ जवाब, 7 चौकियों को किया तबाह

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई,पाकिस्तान के 2 जवान ढेर

उमर ने जम्मू कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री की वकालत की, मोदी ने मांगा स्पष्टीकरण

एलओसी पर पाकिस्तान की ओर से फायरिंग, बीएसएफ अफसर शहीद, बच्ची की भी मौत

पुलवामा में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी,लश्कर के 4 आतंकवादी ढेर

मेजर गोगोई के खिलाफ कोर्ट मार्शल की प्रक्रिया पूरी, रुका प्रमोशन

पाक सेना ने LOC पर लगातार तीसरे दिन दागे मोर्टार

J&K: ITBP के जवान गोली मारकर की आत्महत्या

J&K:राजौरी से दरहाल जा रही वैन खाई में गिरी,5 की मौत,दो गंभीर

बारामूला में आतंकियों ने स्थानीय नागरिक की गोली मारकर की हत्या

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, हो रही फायरिंग

महबूबा का विवादित बयान- धारा 370 खत्म की तो भारत से जम्मू-कश्मीर का रिश्ता खत्म

जम्मू-कश्मीर: बनिहाल के पास कार में धमाका, पुलवामा हमले को दोहराने की थी साजिश?

आतंकवादी फंडिंग मामले में ईडी ने शबीर अहमद शाह की अचल संपत्ति की जब्त

लोकसभा चुनाव:बीजेपी ने 12वीं लिस्ट में घोषित किये 11 उम्मीदवारों के नाम

बडगाम एनकाउंटर:सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को किया ढेर,सर्च ऑपरेशन जारी

शोपियां एनकाउंटर में 3 आतंकी ढेर,भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद

बहकावे में आकर पाकिस्तान पहुंचे तीन कश्मीरी लड़कों ने ISI को लेकर किया बड़ा खुलासा

सीआरपीएफ के जवान बारूदी सुरंग रोधी वाहनों में करेंगे सफर

पीएम मोदी की रैली के लिए जम्मू में किसानों ने काटी गेंहू की अधपकी फसल

नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला ने श्रीनगर सीट से नामांकन भरा

पूर्व CM फारूक अब्दुल्ला ने श्रीनगर लोकसभा सीट से दाखिल किया नामांकन

पुलवामा अटैक: हमले में आतंकियों ने इस्तेमाल किया था वर्चुअल सिम

पाकिस्तान की गोलीबारी में सेना का जवान शहीद

पूर्व IAS अधिकारी फैसल शाह की पार्टी नहीं लड़ेगी लोकसभा चुनाव

अवैध रूप से विदेशी मुद्रा रखने के आरोप में फंसा गिलानी, लगा इतने रुपयों का जुर्माना

अलगाववादियों पर करारा वार, यासीन मलिक की पार्टी जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट पर बैन

जम्मू-कश्मीर में बच्चे को बचाने के लिए गिड़गिड़ाते रहे मां-बाप, आतंकियो ने कर दी हत्या

सीजफायर के उल्लंघन पर भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब, 12 पाक सैनिक ढेर

जम्मू-कश्मीर: पाक से आया आतंकी समेत सेना ने 7 को मार गिराया

सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, लश्कर के दो आतंकी ढेर, सर्च ऑपरेशन तेज

जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस के बीच गठबंधन, साथ मिलकर चुनाव लड़ेगी

जम्मू-कश्मीर में ED ने हिज्बुल मुजाहिदीन प्रमुख सैयद सलाउद्दीन की संपत्तियां जब्त

J&K:राजौरी में पाक सेना ने की फायरिंग, एक जवान शहीद, चार घायल

जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने को तैयार हुए उमर अब्दुल्ला

IAS टॉपर रहे शाह फैसल ने लॅान्च की 'जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट' नाम की पार्टी

J&K के रामबन जिले में भूस्खलन,1 की मौत, 3 गंभीर

कटरा में श्रद्धालुओं के मुफ्त ठहरने की होगी सुविधा, 50 करोड़ से तैयार हो रही इमारत

शोपियां में आतंकियों ने महिला एसपीओ की गोली मारकर हत्या की

जम्मू-कश्मीर के रामबन में भीषण हादसा, 11 लोगों की मौत

PAK को जवाब देने IAF के फाइटर जेट तैयार,सीमा पर सुपरसोनिक रफ्तार से भरी उड़ान

नेशनल कांफ्रेंस के कार्यकर्ता को आतंकियों ने मारी गोली, अस्पताल में भर्ती

एलओसी के करीब देखे गए पाकिस्तान के लड़ाकू विमान, भारतीय वायु सेना हाई अलर्ट पर

पाक ने 45 दिन में 513 बार किया संघर्ष विराम का उल्लंघन और झेला 6 गुना नुकसान

J&K में RSS नेता हत्याकांड का खुलासा, आतंकी जाहिद हुसैन था मास्टरमाइंड

कांग्रेस की नीतियों के चलते ही कश्मीरी पंडितों को अपना घर छोड़ना पड़ा: पीएम मोदी

भारत मोदी नहीं, न ही मोदी भारत हैं: महबूबा

सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज का बयान, कहा-अनुच्छेद 35ए और 370 को खत्म करना जरूरी

श्रीनगर लोकसभा सीट के 90 मतदान केंद्रों पर किसी ने नहीं डाला वोट



कश्यपमर कश्मीर और वराहमूला है बारामूला


पहले सीमा पर फायरिंग, फिर पहुंचा सुरक्षा परिषद के सदस्यों के पास पाकिस्तान


कश्मीर में बकरीद के लिए खरीदारी चरम पर


एमपी विजेंद्र सिंगल ने मां के चरणों में लगाई हाजरी


डोडा मे फटा बादल


भारत, पाकिस्तान के बीच दोस्ती का पुल बने कश्मीर : महबूबा


श्रीनगर: अदालत के बाहर आतंकी हमला


सरकार की कथित आपराधिक लापरवाही के खिलाफ पी.डी.पी. उतरी सडक़ों पर


दशर्नो के लिए हर रोज तीस हजार से भी अधिक श्रद्वालु धर्मनगरी मे


मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया


रक्त दान से किसी की जान बचाई जा सकती है


मोसम खराव रहने के वाद शनिवार को धर्मनगरी सहित भवन मार्ग पर मोसम वडा सुहावना


पैंथल मे मंकर संक्रति के दिन 114वा विशाल दंगल


रघुनाथ मंदिर केे परिस्पर मे कटडा वासियो की वैठक मुल्खराज पुरोहित की अध्यष्ता


महिला मोर्च द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया


ग्रेनेड ब्लास्ट में एक बच्चे की मौत, दो घायल


के.जी.एच.ई.पी. के आसपास नागरिकों की आवाजाही पर प्रतिबंध


सीवल डिफैंस की वैठक का आयोजन


अमित कुमार ने एस.एस.पी. श्रीनगर का कार्यभार संभाला


जनता लोकतांत्रिक प्रतिद्वंद्दिता का महत्व समझने लगी है: महबूबा, सीमांत क्षेत्रों के हित पीडीपी के अति महत्वपूर्ण


मतदाताओं को करें जागरूक


मां वैष्णो देवी जी के भवन पर श्रद्धालु घायल


राहत काजमी की फिल्म आइडेंटिटी कार्ड की पूरी शूटिंग कश्मीर में हुई


कश्मीर में कड़ाके की ठंडए लेह में पारा 11 डिग्री


जम्मू कश्मीर रणजी को 20 लाख पुरस्कार


कश्यपमर कश्मीर और वराहमूला है बारामूला


पहले सीमा पर फायरिंग, फिर पहुंचा सुरक्षा परिषद के सदस्यों के पास पाकिस्तान


कश्मीर में बकरीद के लिए खरीदारी चरम पर


एमपी विजेंद्र सिंगल ने मां के चरणों में लगाई हाजरी


डोडा मे फटा बादल


भारत, पाकिस्तान के बीच दोस्ती का पुल बने कश्मीर : महबूबा


श्रीनगर: अदालत के बाहर आतंकी हमला


सरकार की कथित आपराधिक लापरवाही के खिलाफ पी.डी.पी. उतरी सडक़ों पर


दशर्नो के लिए हर रोज तीस हजार से भी अधिक श्रद्वालु धर्मनगरी मे


मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया


रक्त दान से किसी की जान बचाई जा सकती है


मोसम खराव रहने के वाद शनिवार को धर्मनगरी सहित भवन मार्ग पर मोसम वडा सुहावना


पैंथल मे मंकर संक्रति के दिन 114वा विशाल दंगल


रघुनाथ मंदिर केे परिस्पर मे कटडा वासियो की वैठक मुल्खराज पुरोहित की अध्यष्ता


महिला मोर्च द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया


ग्रेनेड ब्लास्ट में एक बच्चे की मौत, दो घायल


के.जी.एच.ई.पी. के आसपास नागरिकों की आवाजाही पर प्रतिबंध


सीवल डिफैंस की वैठक का आयोजन


अमित कुमार ने एस.एस.पी. श्रीनगर का कार्यभार संभाला


जनता लोकतांत्रिक प्रतिद्वंद्दिता का महत्व समझने लगी है: महबूबा, सीमांत क्षेत्रों के हित पीडीपी के अति महत्वपूर्ण


मतदाताओं को करें जागरूक


मां वैष्णो देवी जी के भवन पर श्रद्धालु घायल


राहत काजमी की फिल्म आइडेंटिटी कार्ड की पूरी शूटिंग कश्मीर में हुई


कश्मीर में कड़ाके की ठंडए लेह में पारा 11 डिग्री


जम्मू कश्मीर रणजी को 20 लाख पुरस्कार