Loading...
RSS
भूख की लाइलाज बीमारी का उपचार

हेमेन्द्र क्षीरसागर

अन्न खाये मन भर छोड़ेना कन भर. अब मंदातों के कारण उलट अन्न खाये कन भर छोड़ो मन भर हो गया. विभीषिका, कोई खां-खां के मरता है तो भूख रहकर यह दंतकथा प्रचलित होने के साथ फलीभूत भी है. ये दोनों ही हालात में भूख को लाइलाज बीमारी बनाने में मददगार है. लिहाजा, भूख और कुपोषण एक सिक्के के दो पहलु हैं. जहां तक कुपोषण की बात करे तो कुपोषण एक बुरा पोषण होता हैं. इसका संबंध आवश्यकता से अधिक हो या कम किवां अनुचित प्रकार का भोजन, जिसका शरीर पर कुप्रभाव पडता हैं. वहीं बच्चों में कुपोषण के बहुत सारे लक्षण होते है.  जिनमें से अधिकांश अज्ञानता, गरीबी, भूखमरी और कमजोर पोषण से संबंधित हैं. 
       दुर्भाग्य जनक, गिरफ्त आऐ बच्चे



प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल

डाँ नीलम महेंद्र

आदमी भी क्या अनोखा जीव है, उलझनें अपनी बनाकर आप ही फंसता है, फिर बेचैन हो जगता है और ना ही सोता है.  आज जब पूरे विश्व में प्लास्टिक के प्रबंधन को लेकर मंथन चरम पर है तो रामधारी सिंह दिनकर जी की ये पंक्तियाँ बरबस ही याद आ जाता है . वैसे तो कुछ समय पहले से विश्व के अनेक देश सिंगल यूज़ प्लास्टिक का उपयोग बंद करने की दिशा में ठोस कदम उठा चुके हैं और आने वाले कुछ सालों के अंदर केवल बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक का ही उपयोग करने का लक्ष्य बना चुके हैं. भारत इस लिस्ट में सबसे नया सदस्य है. जैसा कि लोगों को अंदेशा था, उसके विपरीत अभी भारत सरकार ने सिंगल यूज़ प्लास्टिक को कानूनी रूप से बैन नहीं किया है केवल लोगों से स्वेच्छा से इसका



हरियाणा में बीजेपी के लिए चुनौती? कांग्रेस के लिए अवसर!

अभिमनोज

हरियाणा में बीजेपी के लिए प्रादेशिक सरकार बचाने की चुनौती है, तो कांग्रेस के लिए लोकसभा की हार का सियासी बदला चुकाने का अवसर है, लेकिन यह इतना आसान भी नहीं है?
हरियाणा में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है. नब्बे सीटों वाली हरियाणा विधानसभा के चुनाव के लिए 21 अक्टूबर 2019 को मतदान होगा और नतीजे 24 अक्टूबर 2019 को आएंगे.
चुनावी इतिहास पर नजर डालें तो वर्ष 2014 में बीजेपी ने 47 सीटें जीतकर प्रदेश में पहली बार अपने दम पर सरकार बनाई थी और कांग्रेस को केवल 15 सीटें मिली थीं, जबकि आईएनएलडी को इस चुनाव में 19 सीटें मिली थीं.
संघ की पृष्ठभूमि से आए मनोहर लाल खट्टर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने और कई सियासी विवादों के बावजूद अब तक ब



सींगों से घिरे कमलनाथ

प्रकाश भटनागर

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह की गायों को लेकर चिंता और प्रदेश की मंत्री इमरती देवी की पुरूषों को लेकर. रविवार को मैं भोपाल से बाहर कुछ दूर तक गया था. विदिशा रोड़ पर मुझे दिग्विजय सिंह की चिंता बिछी नजर आयी. उन गायों की शक्ल में, जो जहां तक सड़क किनारे तो अधिकांश जगहों पर बीच सड़क पर ठीक बीच में बैठकर जुगाली कर रही थीं. गाय का पुल्लिंग सांड होता है. जो आदमी, औरतों के मामले में बदलचन हो जाए, उसे समाज में छुट्टा सांड भी कहा जाता है. सो इन गायों के झुंड के आसपास जहां-तहां ताक में खड़े सांड दिखे, वहां इमरती देवी की चिंता नजर आ गयी. मजे की बात यह कि सड़क किनारे कई जगह मुख्यमंत्री क



महर्षि वाल्मीकि: खगोल और ज्योतिष के प्रकांड पंडित

हेमेन्द्र क्षीरसागर

आश्विन माह में शरद पूर्णिमा के दिन महर्षि वाल्मीकि का जन्म हुआ था.वाल्मीकि वैदिक काल के महान गुरु, यथार्थवादी और चतुर्दशी ऋषि हैं.महर्षि वाल्मीकि को कई भाषाओं का ज्ञान था.संसार का पहला महाकाव्य रामायण लिखकर आदि कवि होने का गौरव पाया.वाल्मीकि ने कठोर तप के पश्चात महर्षि की पदवी हासिल की.उनके द्वारा रचित रामायण को पढ़ें तो पता चलता है कि महाग्रंथ में प्रभु श्रीराम के जीवन से जुड़े सभी महत्वपूर्ण पहलुओं के समय पर आकाश में देखी गई खगोलीय स्थितियों का विस्तृत एवं सारगर्भित उल्लेख है. यथेष्ठ, महर्षि वाल्मीकि खगोल विद्या और ज्योतिष शास्त्र के भी प्रकांड पंडित माने गए.
अवतरण, जब माता कौशल्या ने श्रीराम को जन्



विजय-उद्बोधन के विजयी स्वर 

ललित गर्ग

अस्तित्व को पहचानने, दूसरे अस्तित्वों से जुड़ने, राष्ट्रीय पहचान बनाने और अपने अस्तित्व को राष्ट्र एवं समाज के लिये उपयोगी बनाने के लिये इस वर्ष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्थापना दिवस विजयादशमी का उत्सव एवं नागपुर में स्वयंसेवकों के बीच सरसंघचालक मोहन भागवतजी का उद्बोधन संघ के दृष्टिकोण से अवगत कराने का एक सशक्त माध्यम बना है. एक सशक्त हिन्दुत्व राष्ट्र के निर्माण में संघ की सकारात्मक भूमिका को भी प्रभावी ढ़ंग से प्रस्तुति देने के साथ-साथ यह एक दस्तक है, एक आह्वान है जिससे न केवल सशक्त हिन्दुत्वमय भारत का निर्माण होगा, बल्कि इस अनूठे काम में लगे संघ, सरकार एवं सकारात्मक शक्तियों को लेकर बनी भ्रांतियांे



रावण को बस एक दिन मरना है...

प्रकाश भटनागर

रास्तों से यहां-वहां गुजरते हुए यह इस समय का आम दृश्य है. नवरात्रि के दौरान कई जगह लोगों को रावण के पुतले का निर्माण करते देखा. लेकिन इस आम नजारे ने भी कुछ खास किस्म के विचार मन के भीतर रोंपने का काम किया है. मां के नौ पवित्र दिनों में कई श्रद्धालु जिस तरह शरीर पर ज्वार उगाते हैं उसी तरह मेरे मन के भीतर विचार उगते रहे. आज वे बड़े हो गये महसूस होते हैं. किसी इंसान के शैशव से बाहर आने के पहले लक्षण के तौर पर यह देखा जाता है कि वह बोलने लगा है. नौ दिन की अवधि में मेरे दिमाग के विचार ने भी बोलने लायक अवस्था हासिल कर ली है. वह मुझसे सतत रूप से यही कह रहा है कि उस बांस लुगदी और कपड़े आदि का क्या कसूर है जो उन्हें खींच-तान और तरोड़-मोड़



पटवारी रिश्वतखोर तो मंत्री क्या ?

हेमेन्द्र क्षीरसागर

चलिए कई दिनों बाद किसी मंत्री ने शिष्टाचार की बात कही है. सुनकर अच्छा लगा कि जनता के साथ-साथ नुमाइंदे भी व्यवस्था की व्यथा से ग्रसित है. तभी तो लगाम लगाने के लिए भ्रष्टाचार पर तंज कस रहे हैं. वह भी रिश्वत जैसी अमरबेली महामारी के हद दर्जे की आफत से कुंठित होकर. वाकई में मध्य प्रदेश के एक नामी उच्च शिक्षित मंत्री बधाई के पात्र जिन्होंने रिश्वत को रुखसत करने का साहस सुनाया. रणभेरी में भ्रष्टाचार मुक्त भारत की शुरुआत मध्य प्रदेश की सरजमीं से होने जा रही है, जिसके प्रवक्ता ये मंत्री जी बने. माननीय ने सार्वजनिक मंच से अपनी ही सरकार के अधीनस्थ सभी शासकीय पटवारियों को रिश्वतखोर बताया. 

बयान मे दम है तो स्थिति अनि



अंधविश्वास एवं जादू-टोना की क्रूरताएं कब तक?

ललित गर्ग

ओडीशा के गंजाम जिले के कुछ अंधविश्वासी लोगों ने वहां के छह बुजुर्ग व्यक्तियों के साथ जिस तरह का बर्ताव किया, उससे एक बार फिर यही पता चलता है कि हम शिक्षित होने एवं विकास के लाख दावे भले करें, लेकिन समाज के स्तर पर आज भी काफी निचले पायदान पर खड़े हैं. एक स्वस्थ समाज, स्वस्थ राष्ट्र एवं स्वस्थ जीवन के लिये जादू-टोना, अंधविश्वास, तंत्र-मंत्र और टोटकें बड़ी बाधा है. इनकी दूषित हवाओं ने भारत की चेतना को प्रदूषित ही नहीं किया बल्कि ये कहर एवं त्रासदी बनकर जन-जीवन के लिये जानलेवा भी साबित होते रहे हैं. कैसी विडम्बना है कि हम बात चाँद पर जाने की करते हैं या 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने की, लेकिन हम जनजीवन को इन अंधविश्वा



शांत पंजाधारी कमलनाथ...शांत

प्रकाश भटनागर

भ्रम का शिकार हो गया हूं. मध्यप्रदेश की सरकार कमलनाथ के भरोसे हैं या भगवान के. कमलनाथ का क्या किया जाए. उन पर गुस्सा करें! तरस खायें! हंसे! या फिर इस सारे घटनाक्रम को प्रदेश के दुर्भाग्य से जोड़कर खुद का ही सिर धुन लें. हनी ट्रैप मामले पर कुंभकर्णी नींद से जागकर मुख्यमंत्री ने जिस स्वरूप का परिचय दिया है, उस पर प्रतिक्रिया के लिए न तो पर्याप्त शब्द मिल पा रहे हैं और न ही सही मनोभाव. छिंदवाड़ा, दिल्ली दरबार के बाद अब भोपाल स्थित मंत्रालय नाथ की राजनीतिक परिक्रमा का तीसरा पड़ाव बन चुका है. यहां अपने चैंबर में बैठे-बैठे नाथ पूरे प्रदेश की स्थिति पर तीखी नजर होने का भ्रम जीवित रखे हुए हैं. ठीक वैसे ही, जैसे राग दरबारी उपन्य



ऐसे ही नहीं बन जाता कोई गांधी

सुरेश हिन्दुस्तानी

भारत परंपराओं की भूमि रही है. इन पम्पराओं को जीवन में आत्मसात करने वाले व्यक्तित्वों की भी लम्बी श्रंखला है. जिन्होंने इन परम्पराओं को अपने जीवन में उतारा है, वे निश्चित रुप से महान भारत की संस्कृति को ही जीते दिखाई दिए हैं. इसी कारण वर्तमान में उनके अनुसरण कर्ता भी भारी संख्या में दिखाई देते हैं. वे नि:संदेह महान आत्मा के रुप में आज भी हमारा मार्गदर्शन करने में सक्षम हैं. इस पूरी धारणा को आत्मसात करने वाले मोहनदास भारत के साथ इस प्रकार से एक रुप हो गए थे कि वे मोहनदास से महात्मा बन गए. आज आवश्यकता इस बात की है कि हम भी महात्मा गांधी के जीवन से प्रेरणा प्राप्त करके भारत के संस्कारों के साथ तादात्म्य स्थापित कर स



महात्मा गांधी और हिंदी 

संगीता पांडेय

आजादी के आंदोलन के सबसे बड़े नेता रहे मोहनदास करमचंद गांधी भले ही स्वयं गुजराती भाषी थे, लेकिन हिंदी को लेकर उनका योगदान अतुलनीय रहा है. जब दक्षिण अफ्रीका से गांधी भारत आए तो उनका पहला आंदोलन चंपारण से शुरू हुआ. गांधीजी जब चंपारण गए तो सबसे बड़ी दिक्कत उन्हें भाषा को लेकर आई. इस मामले में कुछ स्थानीय साथियों ने उनकी मदद की, लेकिन गांधीजी ने खुद बहुत जतन से हिंदी सीखी. 
स्वतंत्रता आंदोलन में आने से पहले गांधीजी ने पूरे देश का भ्रमण किया और पाया कि हिंदी ही एकमात्र ऐसी भाषा है, जो पूरे देश को जोड़ सकती है. इसलिए उन्होंने हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की बात कही. आजादी के बाद जब देश का बंटवारा हुआ तो किसी विदेशी पत्रक



हैलो, मिडिल क्लास! हर गलती कीमत मांगती हैै?

प्रदीप द्विवेदी

पीएम नरेन्द्र मोदी को गरीबों के वोट चाहिएं और अमीरों से चुनावी चंदे के नोट चाहिएं, क्योंकि मिडिल क्लास न तो वोट बैंक बन सकता है और न ही नोट बैंक बन सकता है, लिहाजा.... थैंक्यू, मिडिल क्लास!
पीएम मोदी सरकार गरीबों के लिए एक अच्छा काम कर रही है कि उसके लिए मिडिल क्लास में प्रवेश के सारे रास्ते खोल दिए हैं, इतनी योजनाएं हैं कि घर बैठे मिडिल क्लास में आ जाएंगे, लेकिन मिडिल क्लास के लिए अमीर बनने के सारे रास्ते बंद होते जा रहे हैं?
पीएम मोदी सरकार की आर्थिक नीति एकदम साफ है- गरीबों की योजनाओं के लिए मध्यम वर्ग- टैक्स, पेट्रोल, मोटर व्हीकल एक्ट आदि के माध्यम से सरकार के लिए त्याग करेगा, तो अमीर, पार्टी फंड के लिए समर्पित



हनी के ट्रैप में पत्रकारिता भी

प्रकाश भटनागर

कांदा (प्याज) और फंदा (यहां हनी ट्रैप के संदर्भ में) कोई तालमेल नहीं है लेकिन एक विचित्र संयोग है. प्याज लगातार महंगी हो रही है. परत दर परत खुलने वाली इस खाद्य सामग्री की कीमत आसमान छूने लगी है. इधर हनी ट्रैप वाला फंदा भी लगातार भारी-भरकम कीमत वाले खेल के तौर पर सामने आ रहा है. परत-दर-परत नये-नये नाम (अघोषित रूप से) सामने आ रहे हैं. अभी किसी छिलके पर किसी राजनेता की तस्वीर दिख रही है तो कहीं कोई अफसर भी नजर आ जा रहा है. लेकिन एक छिलके में कोशिकाओं की तरह छिपी उन असंख्य तस्वीरों का सामने आना अभी बाकी है, जो इस सारे घटनाक्रम की जड़ हैं. जिनका सहारा लेकर इस घिनौने काम को बीते लम्बे समय से अंजाम दिया जा रहा था. किस्सा हनी-मनी कां



चरित्रहीनता की पराकाष्ठा है हनी ट्रैप मामले

ललित गर्ग

जनमत का फलसफा यही है और जनमत का आदेश भी यही है कि राजनेताओं, प्रशासन एवं कानून व्यवस्था से जुड़े शीर्ष व्यक्तित्वों की पहचान पद से नहीं, चरित्र से हो. जब तक ऐसा नहीं होगा तब तक सही अर्थों में लोकतंत्र का स्वरूप नहीं बनेगा तथा चरित्रहीनता किसी-न-किसी स्तर पर व्याप्त रहेगी. मध्य प्रदेश में हनी ट्रैप के जरिए ब्लैकमेलिंग करने वाले गिरोह का पर्दाफाश होने और इस मामले में पांच युवतियों व एक कांग्रेस नेता सहित सात लोगों की गिरफ्तारी कई मायनों में चिंताजनक है, राजनीति में चरित्र की गिरावट की परिचायक है.
गिरोह से बरामद अश्लील वीडियो क्लिपिंग के आधार पर इस हनी ट्रैप में कथित रूप से एक पूर्व मुख्यमंत्री और कुछ पूर्व म



जिसके पास लाइसेंस उसके नाम वाहन 

हेमेन्द्र क्षीरसागर

केंद्र सरकार ने मोटर वाहन अधिनियम लागू क्या किया देश में गजब की हलचल मच गई. इसमें यातायात सुरक्षा के साथ-साथ यातायात स्वच्छता और स्वस्थता दिखाई पड़ी. कानून के मुताबिक नियम, कायदों को तोड़ने पर सक्त कार्रवाई और भारी जुर्माने का कड़ा प्रावधान है.  यह पहले भी कम सीमा में थे, किंतु ना जाने क्यों अमलीजामा पहनाने में ना-नूकर की जा रही थी. इसके लिए सरकारों को दोष दे या हुक्मरानों को या अफसरों को किवां अपने आप को?
खैर! दोषारोपण के चक्कर में अब अपना आज ना गंवाए. जो बीत गया सो बीत गया अब आगे की सुध ले. लापरवाही से नियमों को तोड़कर हमने आज तक जितनी जाने गवाई है वह वापस तो नहीं आ सकती लेकिन सीख में आगे सुरक्षा, सतर्कता, सजगता



केवल जन आन्दोलन से प्लास्टिक मुक्ति अधूरी कोशिश होगी

डाँ नीलम महेंद्र

वैसे तो विज्ञान के सहारे मनुष्य ने पाषाण युग से लेकर आज तक मानव जीवन सरल और सुगम करने के लिए एक बहुत लंबा सफर तय किया है. इस दौरान उसने एक से एक वो उपलब्धियाँ हासिल कीं जो अस्तित्व में आने से पहले केवल कल्पना लगती थीं फिर चाहे वो बिजली से चलने वाला बल्ब हो या टीवी फोन रेल हवाईजहाज कंप्यूटर इंटरनेट कुछ भी हो ये सभी अविष्कार वर्तमान सभ्यता को एक नई ऊंचाई, एक नया आकाश देकर मानव के जीवन में क्रांतिकारी बदलाव का कारण बने. 1907 में जब पहली बार प्रयोगशाला में कृत्रिम प्लास्टिक की खोज हुई तो इसके आविष्कारक बकलैंड ने कहा था, अगर मैं गलत नहीं हूँ तो मेरा ये अविष्कार एक नए भविष्य की रचना करेगा. और ऐसा हुआ भी, उस वक्त प्रसिद्ध पत



पहले अपनी बीमारी करें दूर

प्रकाश भटनागर

इस सबकी शुरूआती बुनियादों को खुद हमने मजबूती प्रदान की. अलग-अलग तरीकों से हम इस पाप के संवाहक बने. नतीजा आज हमारी पूरी बिरादरी झेल रही है. मध्यप्रदेश के भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर यदि कहती हैं कि उन्हें मीडिया से कोई डर नहीं है, तो सच मानिए कि इसकी वजह खुद मीडिया वाले हैं. कई दृष्टांत काले अध्यायों की तरह याद आ रहे हैं. दिग्विजय सिंह,  मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री थे. एक युवा पत्रकार ने कालांतर में प्रदेश के मुख्य सचिव बने एक अफसर के खिलाफ सवाल पूछ लिया. सिंह ने जवाब देने की बजाय पूरी ठकुरास के साथ पत्रकार से कहा, इतनी ही समस्या है तो आप लोकायुक्त में शिकायत कर दीजिए.
 वह युवा सकपका कर रह गया, क्यो



जम्मू-कश्मीर में शांति स्थापना की बाधाएं

ललित गर्ग

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 के प्रावधान हटाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिकाएं हो या आतंक एवं हिंसाग्रस्त इस प्रांत में शांति स्थापना के लिये भारत सरकार के प्रयत्न, दोनों ही स्थितियां जीवंत लोकतंत्र का आधार है. याचिकाकर्ताओं के अनुसार कश्मीर में हालात बेहद खराब हैं, लोग हाईकोर्ट तक भी नहीं पहुंच पा रहे हैं, मीडिया, इंटरनेट, यातायात व्यवस्था, चिकित्सा सुविधाओं के साथ-साथ आम-जनजीवन बाधिक है. यदि ऐसा है तो यह लोकतंत्र पर एक बदनुमा दाग है, शासन की असफलता का द्योतक है, लेकिन ऐसा नहीं है. दूर बैठकर भी हर भारतीय इस बात को गहराई से महसूस कर रहा है और देख रहा है कि जम्मू-कश्मीर में शांति, सौहार्द एवं सह-जीवन



वे प्रेस की आजादी का रोज कत्लेआम करेंगे और जिम्मेदार आंखें मूंदे रहेंगे!

सौमित्र राय

देश में प्रेस को आजाद मानने वालों की आंखें बीते दिनों के दो विरोधाभासों से खुल जानी चाहिए. मंगलवार को जिस समय आजाद मीडिया की झंडाबरदार संस्था प्रेस कौंसिल ऑफ इंडिया कश्मीर में फ्रीडम ऑफ प्रेस के समर्थन में प्रस्ताव पारित कर रही थी, ठीक उससे दो दिन पहले झारखंड में सरकार के विकास कार्यों की रपट लिखने के नाम पर पत्रकारों की बोली लगाने का आखिरी दिन था. इसके लिए झारखंड सरकार ने पूरी बेशर्मी दिखाते हुए एक टेंडरनुमा विज्ञापन जारी किया था. इसमें चुने हुए 30 पत्रकारों को राज्य सरकार के विकास कार्यों पर आलेख लिखने के लिए 15 हजार रुपए तक का ऑफर दिया गया है. अब विधानसभा चुनाव से पहले सरकार का यह विज्ञापन पेड न्यूज को बढ़ावा



नए मोटर व्हीकल एक्ट से मेरा देश परेशान

ललित गर्ग

नया बना मोटर व्हीकल एक्ट देश को राहत पहुंचाने की बजाय परेशानी का सबब बन रहा है. अनेकों विरोधाभासों एवं विसंगतियों से भरे इस कानून से मेरा देश परेशान है. यह कानून विरोधाभासी होने के साथ-साथ समस्या को और गंभीर बना रहा है. एक नये किस्म के भ्रष्टाचार को पनपने का मौका मिल रहा है, इंस्पैक्टरी राज की चांदी ही चांदी है. भारी भरकम चालान से सड़क पर चल रहे लोगों में काफी खौफ है, डर है और गुस्सा भी है. इस डर एवं खौफ में वे ऐसी गलतियां कर जाते हैं, जो दुर्घटनाओं का कारण बन जाती है.
अतिशयोक्तिपूर्ण जुर्माने एवं कानून को लागू करने पर तृणमूल कांग्रेस के शासन वाले पश्चिम बंगाल एवं कांग्रेस शासित राज्य सरकारों ने सवाल खड़े किये है



बेस्ट सेलर वाली हिन्दी का उत्सव 

मनोज कुमार

सितम्बर के आने की आहट के साथ ही हम हिन्दीमय हो जाते हैं. चारों तरफ हिन्दी दिवस, पखवाड़ा और महीना मनाये जाने का अनवरत सिलसिला जारी हो जाता है. सितम्बर माह बीतते ही हम वापस अपने ढर्रे पर आ जाते हैं जहां हिन्दी केवल औपचारिक रूप से हमारे साथ होती है. हिन्दी की अनिवार्यता का महीना सितम्बर का होता है. इसका अर्थ यह हुआ कि संविधान में 14 सितम्बर के दिन को मान्यता नहीं मिलती तो हिन्दी आज भी नेपथ्य में विचरण करता रहता और हम अंग्रेजी के मोहमाया में लिपटे होते. साल 1975 में नागपुर में विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन किया था और इसके बाद हर चार बरस के अंतराल में यह आयोजन विश्व मंच पर होता आ रहा है लेकिन ऐसी क्या मजबूरी है कि संयुक्त र



बिन हिंदी सब सून

संगीता पांडेय

जिस देश में यह कहावत प्रचलित हो कि चार कोस पर पानी बदले आठ कोस पर बानी ऐसे बहुभाषी देश को एकता के सूत्र में पिरोने का सामर्थ्य अगर किसी भाषा में है तो केवल हिंदी में ही है. हिंदी भाषा के सहारे पूरा राष्ट्र  एकजुट हो गया था, फिर वो चाहे  स्वतंत्रता आंदोलन हो या आजाद भारत. मगर ये अफसोसजनक तथ्य है कि स्वतंत्रता प्राप्त होने के बाद हमारे ही लोगों ने हिंदी को  लेकर राजनीति करनी शुरू कर दी.14 सितंबर 1949 को हिंदी को राजभाषा बनाया गया . तब पंडित नेहरू ने कहा था कि  हमने अंग्रेजी इस कारण स्वीकार की कि वह विजेता की भाषा थी. अंग्रेजी कितनी ही अच्छी हो किंतु इसे हम सहन नहीं कर सकते . सभा में राजभाषा का प्रस्ताव एनज



क्या संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट से भ्रष्टाचार बढ़ेगा?

प्रदीप द्विवेदी

एक सितंबर से देश भर में संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट लागू हो गया है, जिसमें भारी जुर्माने का प्रावधान किया गया है. पहले के मुकाबले, इसमें कई गुना ज्यादा जुर्माने का प्रावधान है. 
ऐसा कहा जा रहा है कि इससे दुर्धटनाओं पर रोक लगेगी, लेकिन राजस्थान सरकार के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास का मानना है कि ज्यादा जुर्माने से दुर्घटनाओं का कोई संबंध नहीं है, जुर्माना राशि बढ़ने से तो भ्रष्टाचार बढ़ेगा.. 
राजस्थान में संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट को लागू तो कर दिया गया है, लेकिन जुर्माना राशि में बदलाव होगा. 
प्रताप सिंह खाचरियावास इस एक्ट को आम आदमी की आर्थिक क्षमता से जोड़ कर देखते हैं और उनका मानना है कि देश म



संस्कृति के भाल पर बदनुमा दाग है आत्महत्या

ललित गर्ग

हर रोज अखबारों की सुर्खियां बनती आत्महत्याओं की खबरें तथाकथित समाज विकास की विडम्बनापूर्ण एवं त्रासद तस्वीर को बयां करती है. आत्महत्या शब्द जीवन से पलायन का डरावना सत्य है जो दिल को दहलाता है, डराता है, खौफ पैदा करता है, दर्द देता है. इसका दंश वे झेलते हैं जिनका कोई अपना आत्महत्या कर चला जाता है, उनके प्रियजन, रिश्तेदार एवं मित्र तो दुःखी होते ही हैं, सम्पूर्ण मानवता भी आहत एवं शर्मसार होती है. इन डरावनी स्थितियों को कम करने के लिये एवं आत्महत्या की बढ़ती घटनाओं पर नियंत्रण पाने के लिये विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस प्रतिवर्ष 10 सितंबर को मनाया जाता है, जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के सहयोग से अंतर्रा



कहीं आने वाली मंदी का कारण हम तो नहीं बनने वाले ?

डाँ नीलम महेंद्र

इस समय भारत ही नहीं पूरे विश्व में आर्थिक मंदी की आहट की चर्चा है. भारत के विषय में अगर बात करें तो हाल ही में जारी कुछ आंकड़ों के हवाले से यह कहा जा रहा है कि भारत की अर्थव्यवस्था बेहद बुरे दौर से गुज़र रही है. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के अनुसार अप्रैल- जून तिमाही की आर्थिक विकास दर 5% रह गई है जो कि पिछले 6 सालों में सबसे निचले स्तर पर है. एक अर्थशास्त्री के लिए ये आंकड़े मायने रखते होंगे लेकिन एक आम आदमी तो साधरण मनोविज्ञान के नियमों पर चलता है. सरकार  कह रही है कि आने वाली वैश्विक मंदी का भारत में कोई खास असर नहीं होने वाला है अपितु इसके साथ ही इस वैश्विक मंदी का असर भारत पर नहीं हो इस के लिए अनेक उपाय भी कर रही है.,



न थकने वाले ऐसे करामाती

प्रकाश भटनागर

कमाल है यार! हम तो करामातों पर लिख-लिखकर थकते जा रहे हैं, मगर करामातिये हैं कि थकान की परछाई तक उनके आस-पास फटक नहीं पा रही है। लगता तो ऐसा है कि रिले रेस चल रही हो। एक रुका तो दूसरा शुरू हो गया। उमंग सिंघार की उमंग पर ब्रेक लगे तो ज्योतिरादित्य सिंधिया उनकी जगह सियासी ट्रैक पर दौड़ने लगे। अगली बार दो अन्य कांग्रेस विधायकों, की थी। अब भाई तुलसी सिलावट भी गंभीर आरोप से घिर गये हैं। कहा जा रहा है कि उनके सुपुत्र रिश्वत लेकर तबादले करवा रहे हैं। मध्यप्रदेश सरकार और सत्ता में यदि कहीं शांति है तो वह केवल और केवल शोभा ओझा के खोखले बयानों में ही दिखती है। बाकी तो हर ओर कोहराम मचा हुआ है। शोर इतना ज्यादा कि उनके बीच मुख्यम



अर्थव्यवस्था के संकट से उबरने की तैयारी

ललित गर्ग

भारत आर्थिक मंदी की मार से त्रस्त होता दिख रहा है, आर्थिक अंधेरा चहुं ओर परिव्याप्त हुआ है. अर्थव्यवस्था इस समय बहुत नाजुक दौर से गुजर रही है. बेरोजगारी बढ़ रही है, व्यापार ठप्प है, बाजार सूने हंै, बड़ी कम्पनियां अपने कर्मियों की छंटनी कर रही है, ऐसे कई आंकड़ें एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के चरमराने के संकेत दे रहे हैं. सरकारी आंकड़ों के अनुसार बेरोजगारी दर पिछले 45 सालों में सबसे नीचे के स्तर पर पहुंच चुकी है और ऑटोमोबाइल सेक्टर के साथ-साथ उत्पाद काफी समय से मंदी की ओर अग्रसर है. सरकार को अर्थव्यवस्था का संकट गहराने से पहले जल्द कदम उठाने होंगे और नाजूक होती स्थिति को देखते हुए यदि सरकार जागी है तो यह शुभ सं



ऐसी बीमारी का इलाज जरूरी

प्रकाश भटनागर

गजब ही कर दिया साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने. भाजपा नेताओं की सिलसिलेवार मृत्यु को टोना-तंत्र से जोड़ना उनकी सोच के निम्नतम स्तर को एक बार फिर उभार कर सामने ले आया है. क्या साध्वी मूलत: ऐसी ही हैं, या फिर उन्होंने खुद को ऐसे स्वरूप में ढाल दिया है. अपने अल्पज्ञान को हिंदुत्व की दुशाला में छिपाने के लिए. तथ्यों तथा साक्ष्यों के लिए अपनी न्यूनतम अक्ल को हिंदुवाद के आवरण में छिपाने के लिए. या फिर ऐसा है कि यह महिला हिंदुत्व के नाम इस तथ्य के संवाहक भाजपा एवं राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को ही नुकसान पहुंचाने का प्रण लेकर सत्ता के मैदान में उतरी है. शर्म तो भाजपा के चयन तथा निर्णय, दोनो पर आ रही है

सांसद के चुनाव हेतु साध्वी क



72 साल में पहली बार PoK के शारदा पीठ में हुई पूजा-अर्चना

जम्मू-कश्मीर: 10 अक्टूबर से घाटी जा सकेंगे पर्यटक, हटाई गई रोक

नजरबंदी के बाद पहली बार फारूक अब्दुल्ला से मिले नेश्नल कॉन्फ्रेंस के नेता

जम्मू-कश्मीरः अनंतनाग में आतंकवादियों ने भीड़ पर फेंका ग्रेनेड, 10 लोग जख्मी

जम्मू-कश्मीर में ब्लॉक स्तर का चुनाव, 90 फीसदी वोटर गायब

जम्मू-कश्मीर में नजरबंद नेताओं की हो रही है खूब आवभगत: जितेन्द्र सिंह

महिला रेसलर नाहिदा नबी बोलीं- बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और पहलवान बनाओ

कश्मीरः विदेशी सैलानियों को लुभा रही है घाटी की शांति

जम्मू-कश्मीर में विपक्ष के कई दलों के नेताओं पर से नजरबंदी हटी

हिजबुल के आतंकवादियों की मदद, कांग्रेस नेता के भाई समेत 12 के खिलाफ एफआरआई

आतंकी से बोलीं SSP - ओसामा, तुम्हें 15 मिनट दिए गए थे, अब तुम्हारा टाइम खत्म..

जम्मू-कश्मीर में 3 जगह आतंकी हमला, सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मार गिराया

सरहद पर रेड अलर्ट, जम्मू से कठुआ तक बॉर्डर पर ग्राउंड सेंसर एक्टिव

NSA डोभाल ने दिये निर्देश- जम्मू-कश्मीर के आम लोगों के जीवन में सुधार के लिए काम करें

कश्मीर: मोबाइल बंद तो लैंडलाइन की कीमत बढ़ी, प्रति मिनट चुकाने पड़ रहे ₹50

कठुआ में सुरक्षाबलों को मिली सफलता, 40 किलो विस्फोटक बरामद

बालाकोट आतंकी शिविर फिर से सक्रिय हुआ, घुसपैठ की फिराक में 500 आतंकवादी

कश्मीर में वर्षों से बंद 50 हजार मंदिर फिर से खोले जाएंगे, केंद्र सरकार ने शुरू कराया सर्वे

माता वैष्णो देवी के दरबार में लगेगा सोने और चांदी से बना द्वार

जम्मू-कश्मीर में 47 दिनों से बंद मोबाइल, इंटरनेट, कंपनियों ने फिर भी थमाया बिल

कश्मीर में 47 दिनों से बंद हैं मोबाइल व इंटरनेट सेवाएं, कंपनियों ने लोगों को थमाया बिल

पाकिस्तान ने मेंढर सेक्टर के बालाकोट में किया सीजफायर का उल्लंघन

रिहाई के लिए मीरवाइज फारूक सहित 6 लोगों ने किए बांड पर हस्ताक्षर

जम्मू-कश्मीर में 47 वें दिन भी स्थिति सामान्य नहीं

हिमाचल में झमाझम बारिश के साथ हुआ हिमपात, जाने अगले 6 दिन के मौसम के हाल

46 दिनों बाद महबूबा मुफ्ती के ट्विटर अकाउंट से हुआ कोई ट्वीट

कश्मीर में फिल्म सिटी बनाएंगे भारत में जन्मे अबू धाबी के अरबपति

कशमीर के अलगाववादियों की रिहाई 18 माह में होगी, जितेंद्र सिंह का बयान

जम्मू-कश्मीर पर राहुल गांधी का ट्वीट, कहा- जल्द रिहा हो अब्दुल्ला समेत सभी नेता

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद से वहां हालात शांतिपूर्ण हैं: अमित शाह

पाकिस्तानी सेना ने मेंढर में किया सीजफायर उल्लंघन, आर्मी ने दिया मुंहतोड़ जवाब

धारा 370 पर सीजेआई ने कहा- तो मैं खुद जम्मू-कश्मीर जाऊंगा

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद को जम्मू कश्मीर जाने की सुको ने दी अनुमति

370 हटने के बाद पुलवामा से दुल्हन लाएंगे यूपी के पुनीत सेठी

जम्मू कश्मीरः राज्यपाल मलिक ने आतंकियों को बताया पाकिस्तान के खरीदे लड़के

जम्मू-कश्मीर : बौखलाए आतंकियों ने सेब के बागान में लगाई आग

अफरीदी ने इमरान के सुर में मिलाया सुर, कश्मीर पर दिया भड़काऊ बयान

सीमा पर जारी है पाक की उकसावेपूर्ण गोलीबारी, 5 किमी के दायरे में बंद कराए गए स्कूल

अफरीदी ने कश्मीर पर दिया भड़काऊ बयान, कहा-मुसलमानों पर क्यों हो रहा है जुल्म

भारत की कार्रवाई में ढेर हुए 2 पाकिस्‍तानी सैनिक, सफेद झंडा दिखाकर ले गए शव

जम्मू कश्मीर: किश्तवाड़ में पीडीपी नेता के PSO से गन छीनकर भागे आतंकी

कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाये जाने के 39वें दिन भी जनजीवन प्रभावित

कश्मीर से जैश के 3 आतंकवादी गिरफ्तार, खतरनाक हथियार किए गए बरामद

भारत में 'धमाका' करने के फिराक में पाकिस्तान, LoC के पास देखी गई रबड़ की नाव

जम्‍मू-कश्‍मीर में टला आतंकी हमला, पुलिस ने हथियारों से भरा ट्रक पकड़ा

फारुक अब्दुल्ला की रिहाई को लेकर वाइको ने दायर की बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका

सोपोर में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता, लश्कर के टॉप आतंकी आसिफ को किया ढेर

लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के बीच इस तरह बंटेंगी संपत्तियां, प्रक्रिया शुरू

कश्मीर में मुहर्रम पर आतंकी हमले का खतरा, जुलूस निकालने की नहीं दी गई इजाजत

जिनेवा में पाक के विदेश मंत्री कुरैशी के मुंह से निकला सच-जम्‍मू कश्‍मीर भारतीय राज्‍य

पीओके में आजादी की मांग को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ सड़क पर उतरे लोग

सेना ने उड़ाई पाक की पोस्ट, आतंकी हमले की आशंका के बीच नावें बरामद

जम्मू-कश्मीर के सोपोर में आतंकी हमला, अंधाधुंध फायरिंग में 4 गंभीर, सेना ने क्षेत्र को घेरा

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने पर JKLF की धमकी, कहा- रौंद डालेंगे LoC

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी ने कहा- पाकिस्तान राज्य में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा

कश्मीर का दौरा करने के लिए भारतीय वीजा चाहते हैं पाकिस्तानी डॉक्टर

पाक जंग को उतारू, एलओसी पर तैनात किए 2000 सैनिक, भारतीय सेना भी अलर्ट

जम्मू-कश्मीर: घाटी में बजी फोन की घंटियां, मोबाइल-इंटरनेट सेवाएं बहाल

पुलवामा आतंकी अटैक : खुफिया चूक का नतीजा था, सीआरपीएफ की जांच में सामने आई खामियां

जेएंडके: श्रीनगर के डाउन टाउन में फिर लगा कफ्र्यू, पैलेट गन से युवक की मौत से तनाव

सेना ने अरेस्ट किए पाक से घुसपैठ करने वाले दो लश्कर आतंकी

अमित शाह ने दिलाया भरोसा- घाटी में 15 से 20 दिन में संचार व्यवस्था बहाल हो जाएगी

जम्‍मू-कश्‍मीर में निवेश करेगी महाराष्‍ट्र सरकार, बनाएगी रिजॉर्ट्स

जम्मू-कश्मीर में धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हालात, प्रतिबंधों में 90 फीसदी की कमी

भारत-पाक बॉर्डर पर तैनात होगा भारतीय सेना का पहला इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप

पाकिस्तान की ओर से पुंछ सेक्टर में गोलीबारी, भारतीय सेना ने दिया मुंह तोड़ जवाब

जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर, हथियार बरामद

शहला राशिद का सक्रिय राजनीति से संन्यास लेने का ऐलान

जम्‍मू-कश्‍मीर: धरती का स्‍वर्ग सैलानियों के स्‍वागत के लिए तैयार

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने यावर मीर, नूर मोहम्मद और शोएब लोन को किया रिहा

PoK के शिविरों में 500 आतंकी कश्मीर में घुसपैठ की फिराक में बैठे हैं: भारतीय सेना

शैतानी हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान, LoC पर बेकसूर लोगों को बना रहा निशाना

कश्मीर घाटी में 70 दिन बाद सोमवार से शुरू होगी पोस्टपेड मोबाइल सेवा

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में आतंकवादियों ने किया ग्रेनेड हमला, 5 लोग घायल

युवक ने खुद को बैंक मैनेजर बताकर 20 लड़कियों को प्रेम जाल में फंसा कर दुष्कर्म किया

हिमालय की छाती पर दौड़ेंगी 100 KM प्रति घंटा की गति से ट्रेनें

72 दिनों बाद कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल सेवा बहाल, अफवाह फैलाने वालों पर नजर

कश्मीर में मानव अधिकारों का उल्लंघन नहीं किया गया: नसीरुद्दीन चिश्ती

कश्मीरियों की जान महत्वपूर्ण, टेलीफोन नहीं : मलिक

अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने का विरोध, फारुक अब्दुल्ला की बहन-बेटी हिरासत में

पाकिस्तान की नहीं बंद हो रही नापाक हरकत, पुंछ में गोली लगने से महिला की मौत

कश्मीर घाटी में पोस्ट पेड मोबाइल सेवा बहाल करने के बाद SMS सेवा बंद

जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने 3 आतंकी ढेर किए

फारूक अब्दुल्ला की बहन और बेटी समेत 13 महिलाओं को जमानत पर किया गया रिहा



कश्यपमर कश्मीर और वराहमूला है बारामूला


पहले सीमा पर फायरिंग, फिर पहुंचा सुरक्षा परिषद के सदस्यों के पास पाकिस्तान


कश्मीर में बकरीद के लिए खरीदारी चरम पर


एमपी विजेंद्र सिंगल ने मां के चरणों में लगाई हाजरी


डोडा मे फटा बादल


भारत, पाकिस्तान के बीच दोस्ती का पुल बने कश्मीर : महबूबा


श्रीनगर: अदालत के बाहर आतंकी हमला


सरकार की कथित आपराधिक लापरवाही के खिलाफ पी.डी.पी. उतरी सडक़ों पर


दशर्नो के लिए हर रोज तीस हजार से भी अधिक श्रद्वालु धर्मनगरी मे


मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया


रक्त दान से किसी की जान बचाई जा सकती है


मोसम खराव रहने के वाद शनिवार को धर्मनगरी सहित भवन मार्ग पर मोसम वडा सुहावना


पैंथल मे मंकर संक्रति के दिन 114वा विशाल दंगल


रघुनाथ मंदिर केे परिस्पर मे कटडा वासियो की वैठक मुल्खराज पुरोहित की अध्यष्ता


महिला मोर्च द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया


ग्रेनेड ब्लास्ट में एक बच्चे की मौत, दो घायल


के.जी.एच.ई.पी. के आसपास नागरिकों की आवाजाही पर प्रतिबंध


सीवल डिफैंस की वैठक का आयोजन


अमित कुमार ने एस.एस.पी. श्रीनगर का कार्यभार संभाला


जनता लोकतांत्रिक प्रतिद्वंद्दिता का महत्व समझने लगी है: महबूबा, सीमांत क्षेत्रों के हित पीडीपी के अति महत्वपूर्ण


मतदाताओं को करें जागरूक


मां वैष्णो देवी जी के भवन पर श्रद्धालु घायल


राहत काजमी की फिल्म आइडेंटिटी कार्ड की पूरी शूटिंग कश्मीर में हुई


कश्मीर में कड़ाके की ठंडए लेह में पारा 11 डिग्री


जम्मू कश्मीर रणजी को 20 लाख पुरस्कार


कश्यपमर कश्मीर और वराहमूला है बारामूला


पहले सीमा पर फायरिंग, फिर पहुंचा सुरक्षा परिषद के सदस्यों के पास पाकिस्तान


कश्मीर में बकरीद के लिए खरीदारी चरम पर


एमपी विजेंद्र सिंगल ने मां के चरणों में लगाई हाजरी


डोडा मे फटा बादल


भारत, पाकिस्तान के बीच दोस्ती का पुल बने कश्मीर : महबूबा


श्रीनगर: अदालत के बाहर आतंकी हमला


सरकार की कथित आपराधिक लापरवाही के खिलाफ पी.डी.पी. उतरी सडक़ों पर


दशर्नो के लिए हर रोज तीस हजार से भी अधिक श्रद्वालु धर्मनगरी मे


मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया


रक्त दान से किसी की जान बचाई जा सकती है


मोसम खराव रहने के वाद शनिवार को धर्मनगरी सहित भवन मार्ग पर मोसम वडा सुहावना


पैंथल मे मंकर संक्रति के दिन 114वा विशाल दंगल


रघुनाथ मंदिर केे परिस्पर मे कटडा वासियो की वैठक मुल्खराज पुरोहित की अध्यष्ता


महिला मोर्च द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित किया गया


ग्रेनेड ब्लास्ट में एक बच्चे की मौत, दो घायल


के.जी.एच.ई.पी. के आसपास नागरिकों की आवाजाही पर प्रतिबंध


सीवल डिफैंस की वैठक का आयोजन


अमित कुमार ने एस.एस.पी. श्रीनगर का कार्यभार संभाला


जनता लोकतांत्रिक प्रतिद्वंद्दिता का महत्व समझने लगी है: महबूबा, सीमांत क्षेत्रों के हित पीडीपी के अति महत्वपूर्ण


मतदाताओं को करें जागरूक


मां वैष्णो देवी जी के भवन पर श्रद्धालु घायल


राहत काजमी की फिल्म आइडेंटिटी कार्ड की पूरी शूटिंग कश्मीर में हुई


कश्मीर में कड़ाके की ठंडए लेह में पारा 11 डिग्री


जम्मू कश्मीर रणजी को 20 लाख पुरस्कार