प्राय: देश में इस प्रकार की आवाजें मुखरित होती रही हैं कि देश में कई क्षेत्र इस प्रकार के दिखाई देते हैं, जैसे यह पाकिस्तान के हिस्से हों, यानी पूरी तरह से इस्लामिक. वहां भारत की सांस्कृतिक गतिविधियों पर पूरी तरह से प्रतिबंध सा दिखाई देता है. यहां यह बात करना उल्लेखनीय ही होगा कि आज भारत का जो दृश्य दिखाई देता है, वह वास्तव में भारत की मूल संस्कृति का हिस्सा न होकर एक नवीन संस्कृति को उदित करने का षड्यंत्री प्रयास है. भारत की मूल संस्कृति हजारों वर्ष पुरानी है. यह बात सही है कि संस्कृति का निर्माण कोई दो चार सौ वर्षों में नहीं होता, हजारों, लाखों वर्षों के बाद ही संस्कृति का निर्माण होता है. हम एक हजार वर्ष पूर्व के भारत की स्थिति का अध्ययन करें तो हमें भारत की मूल संस्कृति दिखाई दे सकती है. वर्तमान काल में हम सभी गुमनामी के अंधेरे में जी रहे हैं.
अभी हाल ही में देश में जिस प्रकार से हिन्दू पाकिस्तान और हिन्दू तालिबान की आवाजें उठ रहीं हैं, वह देश के उस समाज की भावनाओं पर गहरा आघात हैं, जो सनातन काल से भारत के मानबिन्दुओं की रक्षा करता आ रहा है यानी भारत की संस्कृति को जी रहा है. लेकिन देश में स्वार्थ के वशीभूत होकर की जाने वाली राजनीति ने भारत की मूल संस्कृति को मिटाने का उपक्रम किया है. हम जानते हैं कि भारत विभाजन के समय जो मुसलमान भारत में रह गए थे, उन्होंने इस्लाम से ज्यादा भारत को महत्व दिया था और यहीं के होकर रह गए. बाद में इनका राजनीतिक उपयोग कर तुष्टीकरण किया गया. आज यह सर्वविदित है कि देश का मुसलमान संवैधानिक मान्यताओं की परिधि से बाहर है, वह केवल अपने धर्म को ही प्रधानता देता है. सबसे ज्यादा गौर करने वाली बात यह है कि देश के कई हिस्से छोटे पाकिस्तान के रुप में दिखाई देते हैं. वहां देखकर लगता ही नहीं है कि वह भारत का हिस्सा हैं. अभी हाल ही में कांग्रेस नेता की ओर से हिन्दू पाकिस्तान संबंधी बयान दिया गया. शायद इन कांग्रेस नेताओं को देश में स्थापित हो चुके और राजनीतिक आश्रय प्राप्त करके स्थापित होने की दशा में आने वाले मिनी पाकिस्तान के बारे में कोई जानकारी नहीं है. अगर जानकारी होती तो संभवत: हिन्दू पाकिस्तान जैसा बयान देने की हिम्मत नहीं करते. दूसरी सबसे बड़ी बात यह है कि हिन्दू किसी भी दृष्टि से खतरनाक नहीं हो सकता, जबकि मुसलमानों को सारी दुनिया में संदेह की दृष्टि से देखा जाता है. इस सत्यता का भारत के कांग्रेसी नेताओं को अध्ययन करना चाहिए.
आज विश्व के कई देशों में हिन्दू भी रहते हैं और मुसलमान भी. कई देश आतंकवाद का दंश भोग चुके हैं. विश्व में जितनी भी आतंकी संस्थाएं हैं, उनमें कौन सस समुदाय सम्मिलित है, यह सारी दुनिया को मालूम है, लेकिन हमारे देश के नेताओं को नहीं पता. ऐसे में लगता है कि कांग्रेस के नेताओं ने पूरे हिन्दू समाज को बदनाम करने के उद्देश्य से ही हिन्दू पाकिस्तान जैसे नारे को बुलंद करने का प्रयास किया है. ऐसा लगता है कि यह कांग्रेस की ओर से एक और पाकिस्तान बनाने का प्रयास है.
देश में विरोधी राजनीतिक दल खासकर कांग्रेस द्वारा जिस प्रकार की राजनीति की जा रही है, वह निसंदेह समाज में फूट पैदा करने की रणनीति का ही हिस्सा कहा जा सकता है. वर्ग संघर्ष के हालात पैदा करने का यह खेल कांग्रेस क्यों खेल रही है, यह चिंतन का विषय हो सकता है. अभी हाल ही में कांग्रेस नेता शशि थरुर और दिग्विजय सिंह ने जो बयान दिए हैं, वह निश्चित रुप से भारतीय मुसलमानों में भय पैदा करने का रास्ता तैयार करने प्रयास करेगा. वर्तमान में कांग्रेस की राजनीतिक स्थिति बहुत ही कमजोर है, लोकसभा में कांग्रेस की सदस्य संख्या अप्रभावी है. कांगे्रस चाह रही है कि आगामी लोकसभा चुनाव में वह अपनी संख्या में वृद्धि करे, इसके लिए कांग्रेस के नेता छटपटाहट भरे बयान देकर देश में अराजकता का वातावरण पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं. आज की कांग्रेस को बहुरुपिया की संज्ञा दी जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं कही जाएगी, क्यों एक तरफ उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने हिन्दू होने का प्रमाण दे रहे हैं, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के नेता मुसलमानों की हमदर्दी प्राप्त करने के लिए भी बयान दे रहे हैं, लेकिन आज देश का मुसलमान भी इस बात को भलीभांति समझ चुका है कि कांग्रेस ने उसे कभी ऊपर उठाने का प्रयास नहीं किया, उसका राजनीतिक फायदा जरुर उठाया. इतना ही नहीं कांग्रेस के संकेत पर देश के कुछ मुसलमानों की ओर से भी यह प्रयास किया जा रहा है कि देश की समस्याओं के लिए वर्तमान सरकार को पूरा तरह से आरोपित किया जाए. अभी हाल ही में कुछ कट्टरवादी मुसलमानों ने पूरे देश को चेतावनी देते हुए कहा था कि देश में शरिया अदालत खोली जाएं, अगर ऐसा नहीं किया जाता तो हमें अलग देश दे दीजिए. इस प्रकार की मांग करना कोई छोटी बात नहीं है, लेकिन देश के विरोधी राजनीतिक दलों का ध्यान देश विभाजन की इस बात पर नहीं गया, कांग्रेस ने इसका विरोध भी नहीं किया. इसका मतलब यह भी हो सकता है कि कांग्रेस की ओर से इस प्रकार की आवाजों को मौन समर्थन दिया जा रहा हो. क्योंकि कांग्रेस ने देश के आजाद होने के बाद से ही विभाजन की नीति का ही खेल खेला है. पाकिस्तान और बांग्लादेश नाम के देशों का विश्व के मानचित्र में उभरना कांग्रेस की सत्ता प्राप्त करने की लालसा का ही परिणाम था. कांग्रेस अब भी वैसा ही खेल खेल रही है.
विभाजनकारी ताकतों को हवा देकर कांग्रेस भले ही अपने लिए भले ही शक्ति अर्जित कर ले, लेकिन इससे देश का बहुत बड़ा नुकसान ही होगा. हम यह भी जानते हैं कि विश्व के जो देश भारत के विरोध में काम कर रहे हैं, वे भी भारत को शक्तिहीन करने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन सवाल यह आता है कि ऐसा काम कांग्रेस क्यों कर रही है? वह तो देश का ही हिस्सा है. हम जानते हैं कि आज देश में जो भी समस्याएं विद्यमान हैं, वह सब कांग्रेस सहित अन्य विरोधी दलों के कुशासन की देन हैं. इनके शासन काल में पाकिस्तान परस्त मुसलमान खुलेआम देश में घुस सकते थे, देश के किसी भी हिस्से में विस्फोट कर सकते थे. आज ऐसी स्थितियों पर पूरी तरह से विराम लग चुका है. ऐसे में कांग्रेस द्वारा मुसलमानों के लिए भ्रम की स्थिति उत्पन्न करने जैसा बयान देना निश्चित रुप राष्ट्र घातक कदम ही माना जा सकता है. अभी लोग कांग्रेस नेताओं के उन बयानों को भी नहीं भूले होंगे, जिसमें उन्होंने भारतीय सेना के विरोध में बयान दिया और कश्मीर के पत्थरबाजों का समर्थन किया. यह भी सबको पता है कि कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पाकिस्तान जाकर अपने ही देश का विरोध किया, यहां तक कि कांग्रेस के लिए पाकिस्तान से समर्थन मांगने जैसा राष्ट्र विरोधी कृत्य किया. इन सब बातों से ऐसा ही लगता है कि आने वाले लोकसभा के चुनावों में कांग्रेस मुसलमानों को अपने साथ लेकर सत्ता के शिखर को प्राप्त करने का मंसूबा पालकर पूरी तरह से योजनाबद्ध तरीके से काम कर रही है.


जानिए 2016 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में

1. असम में पुलिस फायरिंग के चलते टूटा हाई वॉल्टेज तार, 11 लोगों की मौत, 20 घायल

2. केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी, जांच में मैगी सफल: नेस्ले इंडिया

3. गैर-चांदी आभूषणों पर उत्पाद शुल्क को लेकर जेटली अडिग

4. शंकराचार्य का विवादित बोल- साई पूजा की देन है महाराष्ट्र का सूखा

5. कन्हैया और उमर खालिद समेत 5 छात्र हो सकते है JNU से सस्पेंड

6. करोड़ों लोगों ने देखा प्यार का ये इजहार, आप भी जरूर देखिए

7. महाराष्ट्रः बार-बालाओं पर पैसे लुटाने या उन्हें छूने पर होगी सजा

8. नितिन गडकरी की पीएम मोदी को सलाह, गजलें सुनें, टेंशन फ्री रहें

9. कोल्लम हादसा-मंदिर के पास मिली विस्फोटकों से भरी तीन गाड़ि‍यां

10. शत्रु ने की नीतीश जमकर तारिफ, कहा- 2019 में PM पद के दावेदार

11. पाक अदालत में सबूत के तौर पर पेश हुआ ग्रेनेड फटा, 3 घायल

12. असम-बंगाल में हुई बंपर वोटिंग, CM गोगाई के खिलाफ केस दर्ज


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स