आज जिस बिंदु पर चर्चा करना चाहता हूँ वो सनातन शब्द –नेति नेति या  नयाति नयाति ... अर्थात ये भी नहीं अरे भाई ये न ये भी नहीं ! कई  दिनों से एक बात कहनी थी परन्तु सोचता था कि – संभव है कि आगे आने वाले और बीते समय की यात्रा की जा सकती है. परन्तु वास्तव में यह एक असत्य थ्योरी ही है. जिसे मानवीय मनोरंजन के लिए गढ़ा गया है . 
ये अलहदा तथ्य है कि  असीमित संभावनाओं से इंकार नहीं किया जा सकता  पराशक्तियाँ भी हैं जो ऐसा कुछ करा सकतीं हैं. अगर परा शक्तियां कुछ कर या सकतीं सकतीं हैं तो केवल इतना कि आपको बीता समय हूबहू स्मरण करा दे अथवा भविष्य की झलक स्वप्न  के रूप में दिखा दे पर भविष्य का स्वप्न केवल आभासी होगा . किशोरावस्था में  असंख्य बार मैंने महसूस किया था कि मैं सायकल और बाइक चला रहा हूँ. ऐसा अनुभव जागते हुए तो कदापि नहीं केवल स्वप्न में यह संभव था . जबकि मुझे जानने वाले सभी जानते हैं कि ऐसा संभव कदापि नहीं है. क्योंकि मेरे दाएं अंग में पक्षाघात है मसल्स हैं ही नहीं शरीर यंत्र का संचलन असामान्य एवं अतिरिक्त गैजेट्स (सहायक-उपकरण) पर है जैसे क्रेचेस . 
अर्थात वो क्रिया जो घटित नहीं हो सकती कभी घटित न होगी . हाँ अगर शरीर में मसल्स लगाएँ जावें अथवा कोई अन्य उपकरण लगा दिया जावे तो संभव है. और ये तब जबकि वो सहायक उपकरण मेरी मानसिक अनुदेशों को समझ कर तदानुसार कार्य करे . अथवा कोई कायिक-चिकित्सकीय सामर्थ्य ( मेडिकल-क्षमता ) मेरे शरीर में पुन: पोलियो के पूर्व की स्थिति कायम कर दे . 
सुधि जन जानें कि फिर भी यदि मैं दावा करूँ कि मैंने सायकल चलाई है तो केवल मिथ्या ही होगी. 
इसी प्रकार मेरा एक और  मत यह भी है कि  जो घटना भविष्य में आकार लेगी उसका अनुमान मात्र लगाया जा सकता है न कि उस तक भौतिक रूप से पंहुचा जा सकता है. 
एक मित्र ने दावा किया कि समय यात्रा  संभव है ..! बिना विरोध किये मैंने पूछा कि- अगर मेरा जन्म 1963 में हुआ है  2050 में मेरी उम्र क्या होगी ...? मित्र ने सटीक गणना करते हुए बताया कि जिस माह एवं तारीख में तुम्हारा जन्म हुआ है 2050 के उस माह और तारीख पर तुम 87 वर्ष के हो जाओगे. 
मेरा अगला सवाल था कि तुम मुझसे दूर कहीं रहकर 2050 में टाइम मशीन के ज़रिये मिल सकते हो ?
मित्र जो टाइम मशीन की यात्रा को मानता था ने उत्साहित होकर कहा  – अवश्य . मेरा उत्तर था कि टाइम-मशीन के ज़रिये तुम अकेले 2050 में गए हो न कि मैं तो तुमको 87 साल का बूढ़ा गिरीश उधर कैसे मिलेगा. चलो मान लिया कि तुम उस यात्रा में सफल भी हो गए किन्तु मैं 2045 में ही मर चुका हूँ तो क्या ये संभव है. कि तुम मुझसे मिलोगे ?
मित्र के पास कोई ज़वाब न था. पर मैं इस बात से सहमत अवश्य हूँ कि मेरी आवाज़ जो तरंगें बन कर खुले आकाश में अन्य तरंगों से मिल जातीं हैं उनको विशेष यांत्रिक सहायता से री – क्रियेट किया जा सकता है. तुम उसे पहचान सकते हो क्योंकि तुमने मेरी आवाज़ सुनी है. शेष तुम्हारे साथ बिताए पलों में घटित घटनाएं दृश्य  जो केवल तुम्हारे मष्तिष्क में फीड हैं रीप्रोडक्ट होतीं रहेंगी जब तक तुम्हारे दिमाग की वो कोशिकाएं जीवित हैं जो स्टोरेज के लिए ज़िम्मेदार हैं. 
घटनाएं न तो शेष रहतीं हैं जिन तक किसी मशीन के सहारे जाया ही जा सकता है  न ही वे घटित होने के पूर्व किसी को नजर नहीं आ सकतीं .
मित्र ने कहा कि फिर तुम नेति-नेति पर भरोसा क्यों करते हो ..? मित्र का सवाल वाजिब एवं स्वाभाविक था . सो मैंने मित्र को अवगत कराया कि हर सिद्धांत यह साबित कर रहा है कि ब्रह्माण्ड  एक नहीं कई हैं. हमारा सोलर सिस्टम उसी ब्रह्माण्ड एक छोटा सा हिस्सा मात्र है . यहाँ नेति नेति अर्थात नयाति नयाति का अर्थ ये जानिये कि इस ज़हां से आगे और भी ज़हान हैं. 
टाइम-ट्रेवल की अवधारणा को प्रचारित करने का कारण  केवल हबर्ट जार्ज वेल्स के  उपन्यास द टाइम मशीन  और उस पर आधारित बनी   फिल्मों  के लिए दर्शक जुटाना मात्र था. 
टाइम-ट्रेवल को या टाइम टूर को लेकर  तार्किक आधार पर पूरी ज़िम्मेदारी के साथ इस अवधारणा को खारिज करता हूँ. 
    यात्रा का अर्थ समझने के पूर्व सभी समझते ही हैं कि यात्रा एक भौतिक क्रिया है . जिसकी दिशा, गति, उद्देश्य, माध्यम, और यात्री सब कुछ तय शुदा है. ये तय करने वाला शरीरी होता है जिसे यात्री कहा जाता कि उसे किस दिशा, गति, उद्देश्य, माध्यम, से यात्रा करनी है. आइये आगे टाइम-ट्रेवल की थ्यौरी की विवशाताओं को  दिशा, गति, उद्देश्य, माध्यम, आदि के साथ-साथ  कर लेते हैं 
दिशा :- हर यात्रा की दिशा तय है अर्थात दस डायरेक्शन में से कोई कहीं भी जा सकता है. तय जाने वाले को करना है. समय  की कोई दिशा तय नहीं होती . उदाहरणार्थ आज 3 जुलाई 2018 है कल 2 जुलाई 2018 थी. मुझे बीते कल के 12:45 बजे में जाना है तो कौन सी दिशा तय करूंगा ? समय-यात्रा का सिद्धांत यहाँ विवश है .    
गति :- मेरी गति क्या होनी चाहिए ? समय यात्रा का सिद्धांत यहाँ भी मौन ही होगा .
उद्देश्य :- सामान्य यात्रा एवं समय यात्रा दौनों  के  उद्देश्य निर्धारित है पर क्या समय यात्रा में पिछले दिन की घटना की छवि वास्तविक रूप से नज़र आ सकती है..? उत्तर न में ही होगा ..... क्योंकि कल मैं जिस समारोह का सह आयोजक था उसमें लगभग 500 लोग जुड़े थे और वे सब जब मैं यह लिख रहा हूँ सो रहे होंगे. वे भौतिक रूप से उस स्थान पर न आएँगे . न तो सूर्य का प्रकाश होगा न ही वैसी परिस्थितियाँ . केवल मेरे मष्तिष्क में दृश्य मौजूद हैं जिसे सिर्फ मैं ही महसूस करूंगा तो किसी मशीन को ज़रिया [माध्यम] बनाने की कल्पना बेवकूफी ही तो है.
माध्यम :- यात्रा किसी साधन से की जाती है सब जानते हैं- रेल, बस, कार, वायुयान, आदि आदि . जिनके उपयोग से एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाया जा सकता है न कि एक समय से दूसरे समय तक . अर्थात 3 अगस्त 2018 मध्य रात्री 00:37 बजे  से पीछे या आगे जाने के लिए किसी मशीन की कल्पना ही आधारहीन सोच है. अगर मशीन बन भी गई तो वह आपको बेहोश करने की मशीन होगी जिसकी वज़ह से आप अन्य मुद्दों के लिए बेहोश हो जाएंगे और केवल भूत और भविष्य की काल्पनिक घटनाओं में खोते चले जाएंगें भौतिक रूप से आप मशीन में मरे हुए से पड़े होने . मष्तिष्क के साथ साथ केवल आपकी देख कर महसूस करने की प्रणाली ठीक  काम करेगी यह प्रणाली स्वप्न देखने की प्रणाली है जिसके लिए किसी मशीन की ज़रूरत नहीं होती शरीर ही वह मशीन है. 
मेरी विश्व को सलाह है कि इस आलेख के बाद कोई भी समय-यात्रा पर विमर्श / शोध / आदि पर समय व्यय न करे. 
  
  
         


 


जानिए 2016 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में

1. असम में पुलिस फायरिंग के चलते टूटा हाई वॉल्टेज तार, 11 लोगों की मौत, 20 घायल

2. केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी, जांच में मैगी सफल: नेस्ले इंडिया

3. गैर-चांदी आभूषणों पर उत्पाद शुल्क को लेकर जेटली अडिग

4. शंकराचार्य का विवादित बोल- साई पूजा की देन है महाराष्ट्र का सूखा

5. कन्हैया और उमर खालिद समेत 5 छात्र हो सकते है JNU से सस्पेंड

6. करोड़ों लोगों ने देखा प्यार का ये इजहार, आप भी जरूर देखिए

7. महाराष्ट्रः बार-बालाओं पर पैसे लुटाने या उन्हें छूने पर होगी सजा

8. नितिन गडकरी की पीएम मोदी को सलाह, गजलें सुनें, टेंशन फ्री रहें

9. कोल्लम हादसा-मंदिर के पास मिली विस्फोटकों से भरी तीन गाड़ि‍यां

10. शत्रु ने की नीतीश जमकर तारिफ, कहा- 2019 में PM पद के दावेदार

11. पाक अदालत में सबूत के तौर पर पेश हुआ ग्रेनेड फटा, 3 घायल

12. असम-बंगाल में हुई बंपर वोटिंग, CM गोगाई के खिलाफ केस दर्ज


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स