उत्तर प्रदेश का मुख्य मंत्री बनने के बाद से ही आदित्यनाथ योगी के बारे में चर्चाओं का बाजार गर्म है। कोई योगी को कट्टरवादी हिन्दू के  रूप में देखता है तो कोई धुर मुस्लिम विरोधी मान रहा है। कोई उन्हें महान समाज सुधारक, समदृष्टि रखने वाले राजनीतिज्ञ तथा धर्मनिष्ठ व्यक्ति मानते हैं। मुख्य मंत्री बनते ही योगी इस समय एक मात्र व्यक्ति हैं जिन पर लगातार एक सप्ताह से मीडिया की निगाह केन्द्रित है। प्रातः उठने से लेकर रात्रि सोने तक योगी क्या क्या करते हैं इसके समाचार बनाये जा रहे हैं। मुख्य मंत्री बनते ही योगी ने उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के चुनावी एजेंडे पर ताबड़तोड़ अमल शुरू कर दिया है। इसमें किसानों के कर्जमाफी जैसे वायदों, जिन पर प्रदेश का अर्थशास्त्र प्रभावित होता है, पर भले ही प्रदेशवासियों को इंतजार करना पड़े, सामाजिक दृष्टि से धमाके करने वाले कार्य पूरी शिद्दत से चल पड़े हैं।  उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों पर छापे डाले जा रहे हैं। इनमें से अधिकांश पर ताले जड़ दिये गये है। चर्चित लव जेहाद के विरोध स्वरूप आपरेशन एन्टी रोमियो चला कर पुलिस जगह-जगह युवाओं की पकड़-धकड़ कर रही है। कुल मिला कर उत्तर प्रदेश का एक बड़ा तपका इस प्रकार की कार्रवाई को विशेष रूप से अपने खिलाफ मान रहा है। योगी और उनके समर्थकों का भूतकाल भी ऐसा रहा है जिसकी वहज से उस जनसंख्या समूह का ऐसा सोच स्वाभाविक है। 

वैसे योगी के बारे में ख्यात है कि उन्होंने  गोरखपुर को सांसद बनने के बाद अपनी कर्मठता और प्रयासों से गुंडा मुक्त करने में बड़ी सफलता अर्जित की थी। आदित्यनाथ जब पहली बार गोरखपुर के सांसद बने थे  तबके और आजके गारेखपुर में जमीन-आसमान का अंतर है। उस समय का गोरखपुर माफिआओं गुण्डां  का था । किस गली अथवा सार्वजनिक स्थान में गोली चल जायेगी, हत्यायें हो जायेंगी, कहा नहीं जा सकता था। रेल्वे के ठेकों तथा नीलामियों के दौरान हुए गेंगवार गोरखपुर की पहचान बन गये थे। व्यापारियों से हप्ता वसूली होती थी। गोरखपुर की ऐसी घटनाओं पर पूरा ग्रंथ लिखा जा सकता है। सांसद बनते ही योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर को भयमुक्त वातावरण देने का उल्लेखनीय कार्य किया। योगी के बारे में यह भी प्रचलित है कि वे वर्ष में एक बार पूरे संसदीय क्षेत्र का सघन भ्रमण अवश्य करते हैं। जात-पात का भेदभाव मिटाने के लिए सभी जातियों को एक पंक्ति में बैठाकर सहभोज करते हैं। 

अब आदित्य नाथ योगी मुंख्य मंत्री बन गये हैं। पूरे उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री। उन्होंने मुख्य मंत्री बनते ही थाना, अस्पताल, सचिवालय आदि का औचक निरीक्षण कर व्यवस्था चुस्त दुरूस्त रखने की मंशा व्यक्त कर दी है। उनके मंत्रियों द्वारा अपने दफ्तरों में झाड़ू लगाने की तस्वीरें समाचार पत्रों में छपी हैं। इलेक्ट्रानिक मीडिया में भी दिखाई गयी हैं। यह सब तब तक बहुत अच्छा है जब तक कि वह सस्ती लोकप्रियता के लिये नहीं हो। पूरा दफ्तर साफ सुथरा हो। केवल उसी जगह गंदगी मिले जहां मंत्री जी को झाड़ू लगाना है। ऐसी कार्रवाइयां आजकल अति सक्रिय मीडिया के दौर में छिपी नहीं रहती। मीडिया भी जिस तेजी से सिर पर चढ़ता है उससे कहीं अधिक तेजी से नीचे गिराने में भी नहीं हिचकता। 

योगी को अनेक समस्याओं से घिरा उत्तर प्रदेश मिला है। यह बीमारू प्रदेश की श्रेणी में माना जाता है। देश के सबसे विशाल जनसंख्या वाले इस राज्य में उद्योग-धंधों की हालत अच्छी नहीं है। युवा बेरोजगार हैं। बिजली आती नहीं, जाती है। कानून-व्यवस्था की स्थिति तो इतनी विकराल है कि कहा जाता है कि पिछली सरकार के जमाने में हत्या-बलात्कार में किसी चहेती जाति धर्म के व्यक्तियों का नाम होने पर पुलिस को एफ आई आर दर्ज करने से पहले सरकार में बैठे आकाओं की अनुमति लेना पड़ती थी। उत्तर प्रदेश के थाने एक राजनीतिक दल के कार्यालय बन गये थे। उत्तर प्रदेश का समग्र विकास योगी के समक्ष बड़ी चुनौती है। योगी को प्रदेश के व्यापक हित में विराट हृदय वाला व्यक्ति बनकर दिखाना होगा।

अभी चर्चाओं में योगी को प्रशासनिक दृष्टि से अनुभवहीन भी कहा जाता है। ऐसे में अब योगी को एक तरफ यह साबित करने की जरूरत होगी कि, केवल योगी ही नहीं, विकास पुरूष भी हैं वे। जहां तक अनुभवहीनता का प्रश्न है, इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता । वे लगातार पांच बार चुनाव जीतकर संसद सदस्य बने । उन्हें सांसद के रूप में प्रशासन, विकास, राजनीति का दीर्घ अनुभव है। मध्य प्रदेश में भी योगी की ही तरह शिवराजसिंह चौहान को मुख्य मंत्री बनाया गया था। वे भी पांच बार सांसद रहे थे।  उन्होंने जिस तरह मध्य प्रदेश को न केवल बीमारू राज्य के कलंक से मुक्ति दिलाई बल्कि देश के विकसित अग्रणी राज्यों में शामिल कर दिया। योगी को शिवराज से राज्य  के विकास के साथ समन्वय की सीख लेना चाहिए। आज मध्य प्रदेश में शिवराज सबके चहेते हैं । जिस तरह योगी के बारे में क्षेत्र भ्रमण प्रचलित हैं उससे कहीं अधिक बड़ी बात है कि शिवराज वर्ष में कम से कम एक बार पूरे राज्य का सघन भ्रमण करते आ रहे हैं । इसी के साथ शिवराज सिंह चौहान ने प्रति वर्ष मुख्यमंत्री निवास में सभी प्रमुख धर्मों के त्यौहार मनाने की परंपरा भी स्थापित की है। इसमें पूरे प्रदेश से प्रमुख लोग आमंत्रित किये जाते हैं। इससे एक ओर सभी तपकों की जरूरतों, समस्याओं की जानकारी मिल जाती है वहीं सभी धर्मावलंबियों के साथ समन्वय स्थापित होने से दीर्घकालिक राजनीतिक लाभ भी मिलता है। योगी युवा है। कार्य करने की क्षमता है। उन्हें देखना होगा कि एन्टी रोमियों के नाम पर पुलिस युवाओं के साथ ज्यादती नहीं करने लगे। यह कार्यवाई कहीं पुलिसिया वसूली का जरिया न बन जाय। वायदे के अनुसार अवैध बूचड़खाने अवश्य बंद हों पर अवैध के नाम पर किसी को अनावश्यक प्रताड़ित नहीं किया जाय। उत्तर प्रदेश राजनीतिक दृष्टि से देश का जागरूक प्रदेश है। हित टकराने पर अन्य दलों के बीच एका भी हो सकता है। राजनीति में कोई स्थायी मित्र या दुश्मन नहीं होता। लम्बी अवधि से सत्ता की बाट जोह रहे अपने विधायकों, मंत्रियों, कार्यकर्ताओं को सीमा में बनाए रखने की भी योगी के समक्ष बड़ी चुनौती है। अन्ततः, कुशल प्रशासक बनकर सबका साथ सबका विकास नारे पर खरा उतरा जा सकता है, देश के सामने यह साबित करने की भी चुनौती योगी के सामने है।


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. 20 फरवरी से बचत खाते से हफ्ते में 50000 रु निकाल सकेंगे, 13 मार्च से 'नो लिमिट': आरबीआई

2. सभी भारतीय हिंदू और हम सब एक हैं: मोहन भागवत

3. रिजर्व बैंक ने दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 6.25 पर कायम

4. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में नगदी बहुत महत्‍वपूर्ण, नोटबंदी से होगा फायदा: पीएम मोदी

5. अपने दोस्तों से शादी-शुदा जिंदगी की परेशानियों को ना करें शेयर, मिल सकता है धोखा!

6. तमिलनाडु में राजनीतिक संकट जारी: शशिकला ने 131 विधायकों को अज्ञात जगह भेजा

7. भीमसेन जोशी को सुनना भारत की मिट्टी को समझना है

8. मोदी के कार्यों से जनता को कम अमीरों को ज्यादा फायदा : मायावती

9. माल्या को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने यूबीएचएल की परिसंपत्तियों को बेचने का दिया आदेश

10. मजदूरों को डिजिटल भुगतान से सम्बन्धित विधेयक लोकसभा में पारित

11. आतंकी मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने अमेरिका ने यूएन में दी अर्जी

12. जियो के फ्री ऑफर को लेकर सीसीआई पहुंचा एयरटेल

13. गर्भाशय निकालने वाले डॉक्टरों के गिरोह का पर्दाफाश, 2200 महिलाओं को बनाया शिकार

14. वेलेंटाइन डे पर लॉन्च होगी नई सिटी सेडान होंडा कार

15. उच्च के सूर्य ने दी बुलंदी, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को इसी दशा में मिला सम्मान

************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स