भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ऐसा नहीं मानते। उन्होंने बहुत ही साफ शब्दों में कहा है कि गो रक्षा के नाम पर धंधे वाजी करने वाले अस्सी फीसदी लोग काले कारनामों में संलग्न है। उन्होंने राज्य सरकारों से गोरक्षा के नाम पर हिंसा फैलाने वालों का कच्चा चिट्ठा तैयार करने की अपील की है। देश में गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा चिंता का विषय है। इससे पूरे संसार में भारत की छवि धूमिल हो रही है। गाय को हिन्दू धर्म में माता का दर्जा प्राप्त है। हम मानते हैं कि गौ वंश का कत्ल नहीं होना चाहिए पर साथ में यह भी चाहते हैं कि गो रक्षा के नाम पर मानव वध भी नहीं हो। सरकार कोई भी रहे। प्रजातंत्र में सरकारें बदलती रहीं हैं पर सरकार बदल जाने से किसी को हत्या करने का लायसेंस नहीं मिलता । 

वास्तविकता के धरातल पर देखने का प्रयत्न करें तो पायेंगे कि वर्तमान में गो हत्या से कयी गुना अधिक गोवंश की अकाल मौतें दो कारणों से हो रही हैं। इसमें पहला कारण है भूख। पहले गाय और बैल दोनों ही ग्रामीण सामाजिक जीवन में अत्यंत उपयोगी थे। गाय दूध और बैल खेती, माल ढोने के उपयोग के साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था का अभिन्न अंग थे। घर  घर में गो पालन होता था। बदलते समय के साथ-साथ खेती में बैलों की उपयोगिता घटने लगी। देश के बहुत से क्षेत्रों में अब हल-बैल से खेती का प्रचलन लगभग बंद हो गया है। छोटे किसान भी किराये के टैक्टर तथा अन्य मशीनों से खेती करने लगे हैं। इससे सम संख्या में पैदा होने वाले बछड़े पूरी तरह अनुपयोगी हो जाते हैं। पशुपालक इन बछड़ों को भगवान भरोसे छोड़ देते हैं। इतना ही नहीं अनेक पशुपालक गायों को भी तभी तक  घर में बांधते हैं जब तक वह दूध देती है। बाद में गाय और उसके बछ़डे़ बछिया कहां भटक रहे हैं इसका ख्याल नहीं रखते । ऐसे आवारा भटकते गोवंशीय पशु गांव-गांव में ही नहीं शहरों में भी भटकते देखे जा सकते हैं । भूख प्यास से बेहाल इन मुक प्राणियों की कोई सुध नहीं लेता। मध्य प्रदेश के बुन्देलखण्ड से लेकर उत्तर प्रदेश में इन्हें अन्ना ढोर कहा जाता है। ऐसे पशुओं की भारी संख्या में बढ़ती तादात किसानों के लिए विकट समस्या पैदा कर रही है। भूखी-प्यासी अन्ना फौज झुंड के झुंड में टिड्डी दल की तरह खेतों में घुस कर फसलें चौपट कर देती है । फसलें बचाने के लिए किसान दिन-रात खेतों में डेरा डालने को मजबूर होते हैं। इन्हें एक गांव से हकाला जाता है, दूसरे गांव में धावा बोल देते हैं। कहने का तात्पर्य, मारे-मारे फिरते हुए भूख से तड़पते अंततः मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं। किसान फसल बचाने के लिए खेतों में तार की फेंसिंग करते हैं। यहां तक आरा मशीन की तेज धार वाली पत्ती भी लगाते है। भूखे पशु हरा खाने के लिए इन्हें लांघने में बुरी तरह से घायल हो जाते हैं। किसी गौरक्षक को इन तड़पती गोवंश की रक्षा की सुध नहीं आती। उत्तर प्रदेश में अवैध बूचड़खानों की बंदी के बाद इन गोवंशी अन्नाओं के साथ भैस वंशी पाड़े भी शामिल होने की आशंका है। किसानों की फसल और गो-भैस वंशी आवारा पशुओं की रक्षा के लिये सरकारों को संस्थागत व्यवस्था करना ही पडे़गी। 

पशुओं की अकाल मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण है पोलीथीन। हालांकि यह मसला भी भूख से जुड़ा है। भूखे पशु खाद्य सामग्री के साथ पोलीथीन खा जाते हैं। इससे बड़ी संख्या में मृत्यु हो रही हैं। प्रधानमंत्री ने भी अपने संबोधन में इसका प्रमुखता से उल्लेख किया है। गोरक्षकों से प्रार्थना है कि गोरक्षा के नाम पर हत्यायें, मारपीट करने की बजाय भूख से बेहाल गोवंश की रक्षा करें। 

गोरक्षा के नाम पर बढ़ती हिंसा पर अब देश की सर्वोच्च अदालत ने भी चिंता प्रकट की है। सर्वोच्च न्यायालय ने राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तरप्रदेश तथा कर्नाटक को गोरक्षकों की हिंसक गतिविधियों की वजह से नोटिस जारी दिया है। इनमें से कर्नाटक को छोड़ शेष चार राज्य भाजपा शासित हैं। ध्यान देने की बात है कि मध्य प्रदेश भी लम्बे समय से भाजपा शासित है। इस राज्य को ऐसा नोटिस नहीं मिलना प्रदेश की शासन व्यवस्था की विश्वसनीयता के साथ सम्मान को बढ़ाता है। अन्य प्रदेश भी मध्य प्रदेश से सीख ले सकते हैं। 


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. 20 फरवरी से बचत खाते से हफ्ते में 50000 रु निकाल सकेंगे, 13 मार्च से 'नो लिमिट': आरबीआई

2. सभी भारतीय हिंदू और हम सब एक हैं: मोहन भागवत

3. रिजर्व बैंक ने दरों में नहीं किया कोई बदलाव, रेपो रेट 6.25 पर कायम

4. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में नगदी बहुत महत्‍वपूर्ण, नोटबंदी से होगा फायदा: पीएम मोदी

5. अपने दोस्तों से शादी-शुदा जिंदगी की परेशानियों को ना करें शेयर, मिल सकता है धोखा!

6. तमिलनाडु में राजनीतिक संकट जारी: शशिकला ने 131 विधायकों को अज्ञात जगह भेजा

7. भीमसेन जोशी को सुनना भारत की मिट्टी को समझना है

8. मोदी के कार्यों से जनता को कम अमीरों को ज्यादा फायदा : मायावती

9. माल्या को झटका, कर्नाटक हाईकोर्ट ने यूबीएचएल की परिसंपत्तियों को बेचने का दिया आदेश

10. मजदूरों को डिजिटल भुगतान से सम्बन्धित विधेयक लोकसभा में पारित

11. आतंकी मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने अमेरिका ने यूएन में दी अर्जी

12. जियो के फ्री ऑफर को लेकर सीसीआई पहुंचा एयरटेल

13. गर्भाशय निकालने वाले डॉक्टरों के गिरोह का पर्दाफाश, 2200 महिलाओं को बनाया शिकार

14. वेलेंटाइन डे पर लॉन्च होगी नई सिटी सेडान होंडा कार

15. उच्च के सूर्य ने दी बुलंदी, क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को इसी दशा में मिला सम्मान

************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स