भारतीय जनता पार्टी ने 16 मई 2014 को दिन तीन साल पहले लोक सभा में पूर्ण बहुमत हासिल किया था। जिसने बड़े-बड़े राजनीतिक पंडितों को चैंका दिया। यह तो सब मानते थे कि बीजेपी को बढ़त हासिल है, पर वह इतनी अधिक सीटें ले आएगी और कांग्रेस 50 की सीमा भी नहीं छू पाएगी, इसकी शायद ही किसी ने कल्पना की थी। पिछले तीन दशकों के उपरांत किसी पार्टी को देश में पूर्ण बहुमत मिला था। इस प्रचंड जीत के बाद नरेंद्र मोदी 26 मई 2014 को शपथ ग्रहण कर देश के प्रधानमंत्री बने। आज भी पूरे जोश-खरोश के साथ अपने काम पर डटे हैं। चुनाव से पहले भाजपा के प्रधानमंत्री उम्मीदवार के तौर पर नरेंद्र मोदी ने जनता से जो वादे किए थे, उनकी वजह से उनसे लोगों की उम्मीदें बहुत बढ़ गयी थीं। चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी ने अपने भाषणों में जनता से 60 महीने मांगे थे। अब इन 60 महीनों में से 36 महीने बीत चुके हैं। बीजेपी के भीतर और उसके बाहर के उनके समर्थक उनकी नीतियों और उनके कामकाज के तरीकों को अभूतपूर्व बताते हैं, जबकि विपक्षी दल उन पर सवाल उठाते हैं।