दुनिया में महान की मरने के बाद बड़ी कदर होती है.जहां कोई लफ़ड़ा हुआ आवाजें उठती है- आज देश को गांधी की बहुत जरूरत है, एक भगतसिंह चाहिये, पटेल होते तो देश को ये हाल न देखने पड़ते, शास्त्रीजी ने नैतिकता के तहत इस्तीफ़ा दे दिया था.कोई तो कोई तो और एंटीक महापुरुष चाहता है- पार्थ चाहिये गांडीव सहित, सच बोलने के लिये एक आदमी चाहिये जरा हरिशचन्द्र को भेजो, मर्यादा का लफ़ड़ा है बिना राम के न चलेगा काम, एक धर्म का मामला है युधिष्ठिर होते तो काम चल जाता.अब बेचारे कहां-कहां जायेंगे ये निपट गये लोग.सच बोलने को यहां पड़ा है हरिशचन्द्र निकल लिये स्वर्ग की ओर, मर्यादा अननिभी पड़ी है और राम जी बताओ विदा हो लिए सरयू में जलसमाधि लेकर. देश को आधी-अधूरी आजादी थमा के गांधीजी -'हे राम!' कहकर चल दिये. हम उनका इंतजार करते रहे हैं वे आके ही नहीं देते. बहुत झमेला किया इन महापुरूषों ने. आके चले गये और अपने-अपने हिस्से के इत्ते-इत्ते काम छोड़ गये.कहीं ऐसा होता है भला.ध्यान से देखा जाये तो जित्ते महान लोग हुये हैं दुनिया में ईरान से तूरान तक लेकर- सब अपना काम अधूरा छोड़ के गये हैं. अगर सबकी फ़ाइल मंगवा के देखी जाये सब मामला सामने आ जायेगा. अब चूंकि जाने के बाद केस बंद हो जाते हैं वर्ना सब लोग नप जाते अपने काम में लापरवाही के चार्ज में.आप दुनिया भर का हिसाब-किताब देख लो जी, जो जित्ता बड़ा महापुरुष है उसने उत्ते ज्यादा काम छो़ड़े. या फ़िर जिसने जित्ते ज्यादा काम छोड़े वो उत्ता महान हो लिया. सीधा हिसाब काम छोड़ो-महान बनो. फ़ार्मूले में कहें तो किसी महापुरुष की महानता उसके द्वारा अधूरे छोड़े काम की समानुपाती होती है.सीधा हिसाब काम छोड़ो-महान बनो. इस बात को लोग आज अच्छी तरह समझते हैं कि महान बनने के लिये काम छोड़ना पड़ता है. आज का कल पर, कल का परसों पर. परसों का नरसों पर. दिनों का महीनों पर, महीनों का वर्षों पर. और आगे और आगे. वहां तक जहां तक कहा जाता है सितारों के आगे जहां और भी है, अभी काम की इंतहा और भी है.आज भले आपकी कदर न समझें लोग लेकिन कल जब आपके छोड़े काम लोगों को नजर आयेंगे तब पता चलेगा दुनिया को कि आप कित्ते महान थे. दुनिया भर में सारा काम ही काम छोड़े गये. सारा बिखरा पड़ा है कचरे की तरह इधर-उधर न जाने किधर-किधर. सब काम ही काम. जो छोड़ा खुले में छोड़ा, टोट्टल ट्रानस्पैरिसी. किसी स्विस बैंक का चक्करिच नईं जी. सब खुल्ले में छोड़ दिया जिसको मन आये आडिट कल्ले.लोग कहेंगे -बड़े महान थे जी. घणे ग्रेट. इत्ता काम छोड़ गये हैं कि ससुरा गिनने में हमारा काम लग गया. गिनती ही नहीं हो रही है. अब तय किया गया है सब काम बोरे में भर के तौला जायेगा. तराजू से तो हो न पायेगा. बहुत काम है जी,धर्मकांटा लगवाया जा रहा है. तब शायद तौल जाये.कहा जाता है कि महान वो होता है जो अपने से बाद में आने वालों को अपने से ज्यादा महान बनाये. हम ससुर इत्ते काम छोड़ के जायेंगे कि अगला जो आयेगा वो पटापट महान मन जायेगा. इधर पैदा हुआ , उधर उसको काम मिला और वो फ़ट से महान हो लिया. पहले के महान लोग थोड़ा सेल्फ़िस महान थे. खुद काम करके महान हो लिये.लेकिन हम लालची न हैं जी. हम नहीं चाहते कि हम अकेले महान बन जायें. हम चाहते हैं कि हम ऐसी परिस्थितियां छोड़ जायें कि हमसे बाद की जो पीढी आये वो दनादन महान बन जाये. किसी को महान बनने के लिये काम की कमी न रहे.इसीलिये हम तमाम सवाल परेशानियां लफ़ड़े किसी का कोई हल नहीं निकाल रहे. केवल बहस कर रहे हैं ताकि आने वाले लोगों को अन्दाजा रहे कि कैसे करना है सब काम धाम. हम भूख, गरीबी, अशिक्षा, धर्मान्धता, सांप्रदायिकता , भ्रष्टाचार और न जाने किस-किस समस्या के हल क्या जानते नहीं? क्या समझते हो हमें पता नहीं?हमें सब पता है. हमें पता है कि कैसे सब हल निकल सकते हैं. लेकिन हम जानबूझकर कुछ कर नहीं रहे. हम कर लेंगे तो अगली पीढी क्या करेगी. हम स्वार्थी नहीं हैं जो महान कहलाने के लिये के लिये हर फ़साद के फ़टे में टांग अड़ा दें और उसे आधा निपटा के चले जायें और महान कहलायें, जयंतियां मनवायें अपनी मूरत पर कौवे-कबूतरों से बीट करवायें.ये तो कोई भी कर सकता है. जिसने किया वो महान कहलाया.हम खुद महान नहीं बनना चाहते, अगली पीढी के लिये महान बनने के मौके छोड़ रहे हैं हम.आज भले कोई हमें जाहिल, कामचोर, हरामखोर ,धूर्त, देशद्रोही और भी न जाने क्या-क्या बताये लेकिन हमें पता है कि हमारे छोड़े हुये कामों को ही पूरा करके अगली पीढी महान कहलायेगी. दुनिया आज नहीं लेकिन कल हमारे योगदान को पहचानेगी.हम हालत ऐसे करके जायेंगे कि लोग जरा सा मेहनत करें और पट से महान बन जायें.दुनिया ऐसी कर देंगे कि कोई जरा सा मेहनत करेगा और दुनिया को बेहतर बना देगा. मैगी महान बनेंगे लोग. हालत इत्ती खराब कर देंगे कि जरा सी ईमानदार मेहनत से लोगों को लगेगा कि दुनिया कित्ती सुन्दर होगयी. हम खुद महान बनने के बजाय अगली पीढी के लिये महान बनने के मौके छोड़ के जायेंगे.हमारे बाद के लोग जैसे ही आयेंगे ,चार्ज लेंगे तो उनको ऐसी ऐतिहासिक परिस्थियां मिलेंगी कि बिना ज्यादा कुछ किये महान बन जायेंगें. जित्ते में आज आदमी अपनी अकेली की जिन्दगी के लिये खटता है उत्ती मेहनत में हमारे जाने के बाद आदमी महान बन लेगा.महान बनने से बेहतर है लोगों को महान बनने के अवसर प्रदान करना.हम आने वाली पीढियों को महान बनने के मौके प्रदान कर रहे हैं.अभी तक के महापुरुष अपने अधूरे काम छोड़ के गये. हम महानता छोड़ के जायेंगे.  


जानिए 2016 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में

1. असम में पुलिस फायरिंग के चलते टूटा हाई वॉल्टेज तार, 11 लोगों की मौत, 20 घायल

2. केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी, जांच में मैगी सफल: नेस्ले इंडिया

3. गैर-चांदी आभूषणों पर उत्पाद शुल्क को लेकर जेटली अडिग

4. शंकराचार्य का विवादित बोल- साई पूजा की देन है महाराष्ट्र का सूखा

5. कन्हैया और उमर खालिद समेत 5 छात्र हो सकते है JNU से सस्पेंड

6. करोड़ों लोगों ने देखा प्यार का ये इजहार, आप भी जरूर देखिए

7. महाराष्ट्रः बार-बालाओं पर पैसे लुटाने या उन्हें छूने पर होगी सजा

8. नितिन गडकरी की पीएम मोदी को सलाह, गजलें सुनें, टेंशन फ्री रहें

9. कोल्लम हादसा-मंदिर के पास मिली विस्फोटकों से भरी तीन गाड़ि‍यां

10. शत्रु ने की नीतीश जमकर तारिफ, कहा- 2019 में PM पद के दावेदार

11. पाक अदालत में सबूत के तौर पर पेश हुआ ग्रेनेड फटा, 3 घायल

12. असम-बंगाल में हुई बंपर वोटिंग, CM गोगाई के खिलाफ केस दर्ज


************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स