पलपल संवाददाता, जबलपुर. मध्यप्रदेश के जबलपुर में तीन दिन के कफ्र्यू की अफवाह फैलाने वाले अब पुलिस की निशाने पर, जिन तत्वों ने इस तरह की अफवाह सोशल मीडिया में फैलाई है, उनकी जांच सायबर सेल की टीम कर रही है. इधर कलेक्टर भरत यादव व एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने कहा कि जबलपुर में किसी प्रकार का कफ्र्यू नहीं लगाया जा रहा है.

बताया जाता है कि जबलपुर में लॉक डाउन के दौरान जबलपुर के लोगों ने संस्कारित होने का परिचय दिया, सोशल डिस्टेसिंग का नियम से पालन किया, जिसका नतीजा है कि आज जबलपुर में कोरोना संक्रमण फैल नहीं पाया, हर वर्ग व हर धर्म के लोगों ने लॉक डाउन के दौरान एक दूसरे का साथ देते हुए कार्य किया है.

पिछले दो दिनों ने शहर में कुछ शरारती तत्वों ने यह अफवाह फैला दी है कि 23 से 25 मई तक जबलपुर में कफ्र्यू लगाया जा रहा है, यह खबर शहर में आग की तरह फैल गई, लोग एक दूसरे से कन्फर्म करने में जुटे हुए है, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है, जबलपुर में तीन दिन के लिए कोई भी कफ्र्यू नहीं लगाया जा रहा है, इस बात की जानकारी जब कलेक्टर भरत यादव व एसपी सिद्धार्थ चौधरी को लगी तो उन्होने इस बात का खंडन किया है कि जबलपुर में कफ्र्यू लगाया जा रहा है, अधिकारीद्वय ने कहा कि यह शरारती तत्वों का काम है जो शहर की फिंजा बिगाडऩे की कोशिश कर रहे है, जबलपुर में कफ्र्यू की बात कोरी अफवाह है, ऐसा कुछ भी नहीं है. उन्होने यह भी कहा कि इस तरह की अफवाह फैलाने वालें पुलिस के निशाने पर है, सायबर सेल की टीम उन लोगों की जांच कर रही है जिन्होने जबलपुर में तीन दिन के लिए कफ्र्यू लगाने की अफवाह उड़ाई है. ऐसे तत्वों पर सख्त कार्यवाही की जाएगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।