ग्वालियर. मध्य प्रदेश के ग्वालियर में बुधवार की रात धमाकों जैसी तेज़ आवास से शहरवासी ख़ौफज़दा हो गए. ग्वालियर शहर और आसपास के गांवों तक इसकी आवाज सुनाई दी. इससे कई इलाकों के घरों में बर्तन गिर गए तो कई घरों की दीवारों में दरारें तक पड़ गईं. महाराजपुरा एयरबेस, मुरार और गोले का मंदिर जैसे इलाकों में रहने वाले लोग तो दहशत के मारे घरों से बाहर भी निकल आए. पुलिस द्वारा पड़ताल किये जाने पर यह बात सामने आई कि वायुसेना का सुपर सोनिक विमान ने अभ्यास के लिए उड़ान भरी थी.

पुलिस को सबसे ज्यादा फोन महाराजपुरा इलाके के लोगों ने किए. यही वजह है कि पुलिस ने इसकी पड़ताल शुरू की. महाराजपुरा सीएसपी रवि सिंह भदोरिया ने एयरफोर्स के अफसरों से संपर्क किया, तब इसकी हकीकत सामने आई. सीएसपी भदोरिया ने बताया कि यह तेज आवाज सुपर सोनिक फाइटर प्लेन का था. दरअसल, 20 मई यानि बुधवार की रात महाराजपुरा एयरफोर्स स्टेशन से सुपर सोनिक विमान अभ्यास के लिए निकले थे. सुपर सोनिक विमान की गति ध्वनि की गति से भी तेज होती है. साथ ही यह बेहद तेज आवाज के साथ उड़ान भरता है. जब सुपर सोनिक विमान की गति ध्वनि की गति से भी तेज़ होती है तो साउंड बैरियर या सोनिक बूम की वजह से आवाज ज्यादा तेज़ होती है.

क्या होता है साउंड बैरियर या सोनिक बूम- सुपर सोनिक विमान की गति ध्वनि की गति से मापी जाती है. ध्वनि की गति अमूमन 1234 किलोमीटर प्रति घंटा होती है. फाइटर प्लेन की गति ध्वनि की गति मतलब 1234 किलोमीटर प्रति घंटे से भी ज्यादा होती है. फाइटर प्लेन जब उड़ान भरता है तो हवा में तेज ऊर्जा वाली तरंगे निकलती हैं, जो विमान के आगे और पीछे वायु के दबाव में परिवर्तन करती है. ऐसे में विमान वैक्यूम रिलीज करता है और जब विमान इससे गुजरता है तो बहुत तेज आवाज आती है. इसे ही साउंड बैरियर या सोनिक बूम कहते हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।