नई दिल्ली. कोरोना वायरस के चलते उत्पन्न स्थिति का असर हर ओर दिखाई दे रहा है. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये लागू किये गये लॉकडाउन के कारण अनेक कार्य स्थगित कर दिये गये हैं. बताया जा रहा है कि भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसी दूरसंचार कंपनियों के विभिन्न लाइसेंसों के नवीनीकरण का समय नजदीक आने के बीच दूरसंचार विभाग अक्टूबर से पहले स्पेक्ट्रम नीलामी की योजना पर काम कर रहा है. 

इस नीलामी में 5जी सेवाओं से जुड़े स्पेक्ट्रम बैंड की नीलामी नहीं किए जाने की संभावना है. जानकारी के अनुसार विभाग इस संबंध में मंत्रीमंडल की मंजूरी के लिए एक नोट तैयार कर रहा है. पूर्व के प्रस्तावों के विपरीत इसमें 5जी सेवाओं के लिए 3,300 से 3,600 मेगाहट्र्ज के बैंड को शामिल नहीं किया जाएगा.

वहीं रक्षा मंत्रालय नेभी  5जी बैंड में 100 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम की मांग की है, जिसके बाद दूरसंचार विभाग के पास नीलामी के लिए 175 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम ही बच जाएगा. सूत्र ने बताया कि इसे लेकर विभाग और रक्षा मंत्रालय के बीच बातचीत चल रही है. हालांकि भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया के कई सारे लाइसेंस की अवधि समाप्त हो रही हैं और अपनी दूरसंचार सेवाएं जारी रखने के लिए उन्हें इसका नवीनीकरण कराना होगा. इसलिए उन्हें स्पेक्ट्रम के लिए बोली लगानी होगी, दूरसंचार विभाग अन्य बैंड के स्पेक्ट्रम की नीलामी करेगा.

अक्टूबर से पहले विभाग का 8,000 मेगाहट्जज़् स्पेक्ट्रम नीलाम करने का प्रस्ताव है. इसमें 700 मेगाहट्र्ज, 800 मेगाहट्र्ज, 900 मेगाहट्र्ज, 1800 मेगाहट्र्ज, 2100 मेगाहट्र्ज, 2300 मेगाहट्र्ज और 2500 मेगाहट्र्ज बैंड की नीलामी की जानी है.

इसका कुल मूल्य करीब तीन लाख करोड़ रुपए होने का अनुमान है. सूत्र ने बताया कि विभाग 22 मई तक इसके लिए किसी नीलामीकर्ता के नाम को तय कर सकता है. यही एजेंसी नीलामी के लिए सॉफ्टवेयर का विकास और प्रबंधन करेगी. नीलामी की समयसीमा भी चुनी गयी कंपनी पर निर्भर करेगी. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।