कोरोना महामारी से मुकाबले के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जान भी जहान भी पर अमल करते हुए पर्यटन उद्योग फिर से खड़ा होने का खाका तैयार करने में जुट गया है. ताकि, लॉकडाउन खत्म होने के बाद पर्यटकों को कोरोना संक्रमण से बचाव के तमाम उपायों के साथ घूमने-फिरने की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकें.

पर्यटन मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जान भी जहान भी को ध्यान में रखते हुए रणनीति का खाका तैयार कर रहे हैं. हमारी कोशिश है कि लोगों के मन से कोरोना का डर हटाकर उन्हें पूरी आजादी के साथ घूमने-फिरने का मौका दिया जाए. इसलिए फिलहाल गोवा और पूर्वोत्तर राज्यों पर ध्यान अधिक रहेगा.

देश से हर साल दो करोड़ से अधिक लोग छुट्टियां मनाने के लिए विदेश जाते हैं. पिछले दस साल में यह संख्या तीन गुना बढ़ी है. सरकार की नजर इन पर्यटकों पर है. पर्यटन मंत्रालय की कोशिश है कि इन पर्यटकों को देश के अंदर बेहतर सुविधाए मुहैया कराई जाएं, तो वे फिलहाल विदेश के बजाए देश में घूमना ज्यादा पसंद करेंगे.

गोवा और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में कोरोना संक्रमण लगभग खत्म हो चुका है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के बाद सरकार हवाई यात्रा शुरू करती है, तो हम इन प्रदेशों के लिए अधिक फ्लाइट की मांग करेंगे ताकि लोग इन प्रदेशों में जाकर अपनी छुट्टियां बिता सकें. हालांकि, इसके साथ एहतियाती उपायों से कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

कोरोना महामारी का सबसे ज्यादा असर पर्यटन उद्योग पर पड़ा है. उद्योग आर्थिक संकट से जूझ रहा है, जिसका असर उद्योग से जुड़ीं नौकरियों पर भी पड़ सकता है. ऐसे में लॉकडाउन खत्म होने के बाद पर्यटन उद्योग को नए सिरे से खड़ा करना बेहद जरूरी है. पर्यटन उद्योग से करोड़ों लोगों का रोजगार जुड़ा है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।