अक्सर पीरियड्स के दौरान औरतों का पेट फूल जाता है. इंग्लिश में इसे ब्लॉटिंग कहा जाता है. शोध के अनुसार इसे किसी भी बीमारी का संकेत नहीं माना जाता है. मगर लड़की हो या लड़का किसी को भी अपना फूला हुआ पेट बिल्कुल पसंद नहीं है. पेट फूलते ही बैठने या खाने में परेशानी होने लगती है. कपड़े की भी फिटिंग पर असर पड़ने लगता है. मगर ज्यादा देर तक ब्लॉटिंग होने पर आपके वेट से रिलेटेड परेशानियां भी उत्पन्न हो सकती है.

अगर आपका पेट बार-बार फूल जाता है या ज्यादा देर तक फूला हुआ रहता है तो यह आपके लिए आगे चल कर बहुत बड़ी बीमारी का कारण बन सकता है. ऐसे में हम आपके लिए 4 ऐसे उपाय लाए है जिनसे आप 1 दिन के अंदर अपना फूला हुआ पेट कम कर सकते है. 

नींबू-शहद से करें शुरुआत- आप अगर अपना दिन कॉफी या चाय पी कर करते है तो ऐसा करना जल्द बंद करें. सुबह उठ कर सबसे पहले नींबू-शहद को पानी में मिला कर सेवन करें. गर्म पानी इस मिश्रण के लिए बेस्ट रहेगा. 

एप्सोम साल्ट बाथ- एप्सोम साल्ट में मैग्निसियम सल्फेट पाया जाता है. यह ब्लॉटिंग को खत्म करने के लिए बहुत हैंडी उपाय है. आप इसे अपने नहाने वाले पानी में मिक्स कर सकती है. आप इसे अपने फूले हुए पेट पर अच्छे से रगड़ भी सकती है. 

ब्रेकफास्ट में खाए प्रोटीन- प्रोटीन एक मात्र ऐसा पोषक तत्त्व है जिससे शक्ति तो मिलती ही है. साथ में वजन पर भी कोई असर नहीं पड़ता है. इसके सेवन से बॉडी का बैली फैट कम होने के साथ-साथ एक अलग सी चमक भी बॉडी में दिखने लगती है. सबसे पहले ब्रेकफास्ट कभी भी स्किप न करें. अगर आप वेजीटेरियन है तो दाल या दलिया का सेवन कर सकते है. 

केला खाना है जरुरी- केला वेट गेन और कम दोनों करने में हेल्प करता है. इसका सेवन ज्यादा मात्रा में अच्छा नहीं है. मगर फूले हुए पेट को कम करने के लिए आप केला खा सकते है. कई लोग इसका सेवन नमक के साथ भी करते है. मगर यह बिल्कुल गलत है. केला दूध या सोया दूध के साथ खाया जा सकता है. न कि नमक के साथ. 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।