बढ़ते प्रदूषण के कारण अस्थमा रोगियों की संख्या भी बढ़ती जा रही है. अस्थमा बीमारी में सांस लेने में दिक्कत, सीने में दर्द, खांसी जैसी समस्याएं हो जाती है. साथ ही शरीर में मौजूद बलगम और संकरी श्वासनली के कारण अस्थमा अटैक का खतरा बढ़ जाता है. हालांकि इसके अलावा और बहुत से ऐसे कारण हैं, जो अस्थमा अटैक को बढ़ावा देती हैं और आज हम आपको उन्हीं के बारे में बताएंगे.

अस्थमा के लक्षण

ठंडी हवा में सांस लेने से हालत गंभीर होना.  

एक्सरसाइज अधिक करने से

कई बार उल्टी होना.    

बलगम वाली खांसी या सूखी खांसी.   

सीने में जकड़न जैसा महसूस होना.  

सांस लेने में समस्या.

सांस लेते समय आवाज आना.

अस्थमा के कारण

घंटों बाहर घूमना- गर्मियों में अस्थमा की प्रॉब्लम बढ़ जाती है. ऐसे में आपका घंटों तक उमस वाले मौसम और धूप में घूमते रहने से अस्थमा अटैक आ सकता है. अगर आप घर से बाहर जा रहे हैं तो मुंह पर मास्क पहनें और अपना इनहेलर हमेशा पास रखें.

धूल और मिट्टी- कई बार आप धूल-मिट्टी वाले कमरे या जगह पर चले जाते हैं. मगर इससे धूल-मिट्टी श्वास नली द्वारा शरीर में जाकर अस्थमा अटैक का कारण बन सकती है. ऐसे में धूल-मिट्टी से बचने की कोशिश करें.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।