प्रदीप कुमार द्विवेदी  

* हर महीने की त्रयोदशी तिथि के दिन भोलेनाथ का शुभ आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रदोष व्रत रखते हैं. 

* जब मंगलवार को त्रयोदशी होती है तो यह भौम प्रदोष कहलाता है. 

* भौम प्रदोष पर प्रदोषकाल में भोलेनाथ की पूजा-अर्चना करके मंगलदोष मुक्ति की प्रार्थना करने से मंगलदोष से राहत मिलती है.

* भौम प्रदोष व्रत में भगवान शिव का पूजन करने वाले श्रद्धालुओं को आर्थिक तनाव, ऋण, रोग और शत्रुओं से मुक्ति मिलती है.

* धर्मग्रथों के अनुसार भौम प्रदोष व्रत को रखने से गोदान के तुल्य शुभफल प्राप्त होता है और शिवकृपा से उत्तम लोक की प्राप्ति होती है. 

* यदि ऋणग्रस्त हों तो... ओम ऋणमुक्तेश्वर महादेवाय नम:... का जाप करें, ऋण के तनाव से राहत मिलेगी!

- आज का राशिफल -

मेष राशि: पिता के साथ किसी जरूरी विषय पर चर्चा होगी. पुराना धन मिल सकता है. रुके कार्य पूर्ण होंगे, संतान के विवाह संबंधित समस्या रहेगी. अनाज तिलहन व्यवसायियों के लिए समय व्यस्तता पूर्ण रहेगा.

वृष राशि: अपनी गलतियों को नजरअंदाज न करें, व्यवसायिक नई योजना बनेगी. कार्यपद्धति में सुधार से लाभ बढ़ेगा. घर-बाहर पूछ-परख रहेगी. जीवन साथी के प्रति अपना व्यवहार ठीक करें. अपने आप को संभालें संगती बदलें.

मिथुन राशि: कारोबार में मंदी की वजह से परेशान रहेंगे. शत्रु सक्रिय रहेंगे, थकान रहेगी. धार्मिक आस्था में वृद्धि होगी. चिंता तथा तनाव बढ़ेगा. कार्यसिद्धि होगी.

कर्क राशि: जल्दबाजी में हानि से बचें. परिवार में चिंता तथा तनाव रहेंगे. कार्यस्थल पर विवाद से बचें. वाहन, मशीनरी व अग्नि के प्रयोग में सावधानी रखें, नए दोस्त बनेंगे.

सिंह राशि: आपकी वाक्शैली से लोग प्रभावित होंगे. माता से अकारण वाक् युद्ध होगा. प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता मिलेगी, राजकीय बाधा दूर होगी. कीमती वस्तुएं संभालकर रखें.

कन्या राशि: कार्य क्षमता में वृद्धि होगी. भय, पीड़ा, चिंता तथा तनाव रहेंगे. संपत्ति के कार्य लाभ देंगे. उन्नति के मार्ग प्रशस्त होंगे. धनलाभ होगा. संतान की नौकरी लगने से प्रसन्न रहेंगे.

तुला राशि: किसी की सुनीसुनाई बातों पर ध्यान ना दें. दोस्तों के साथ मन मुटाव होगा. विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा. रुके कार्यों में गति आएगी.

वृश्चिक राशि: निवेश से लाभ होगा. वाणी पर नियंत्रण रखें, नहीं तो बनते कार्य बिगड़ सकते हैं. दु:खद समाचार मिल सकता है. कार्य की अधिकता से निजी कार्य प्रभावित होंगे.

धनु राशि: कभी-कभी ज्यादा होशियारी भी नुकसान देती है. कार्यस्थल पर किसी अधिकारी से संबंधों में मजबूती आएगी. विवाह के लिए किये प्रयास सफल होंगे. प्रतिष्ठा वृद्धि होगी.

मकर राशि: परिजनों से शुभ समाचार मिलेगा. आत्मसम्मान बढ़ेगा, शत्रु परास्त होंगे. आप के अपने आपके विरुद्ध षड्यंत्र रचेंगे. विवाद से बचें. बच्चों के विवाह की चिंता रहेगी.

कुम्भ राशि: अपने व्यवहार से सभी अधिकारियों का दिल जित लेंगे. जीवनसाथी की चिंता रहेगी. बेरोजगारी दूर हो सकती है, प्रयास करें. संतान का ध्यान रखें.

मीन राशि: आकस्मिक कोई बड़ा खर्च होने की आशंका है. कार्यस्थल पर व्यस्तता रहेगी. जल्दबाजी से हानि संभव है. विवाद न करें. परिवारिक क्लेश होगा.  

* आचार्य पं. श्रीकान्त पटैरिया (ज्योतिष विशेषज्ञ)  वाट्सएप नम्बर 9131366453 

* यहां राशिफल चन्द्र के गोचर पर आधारित है, व्यक्तिगत जन्म के ग्रह और अन्य ग्रहों के गोचर के कारण शुभाशुभ परिणामों में कमी-वृद्धि संभव है, इसलिए अच्छे समय का सद्उपयोग करें और खराब समय में सतर्क रहें.

- मंगलवार का चौघडिय़ा -

दिन का चौघडिय़ा           रात्रि का चौघडिय़ा

पहला- रोग                   पहला- काल

दूसरा- उद्वेग                 दूसरा- लाभ

तीसरा- चर                   तीसरा- उद्वेग

चौथा- लाभ                    चौथा- शुभ

पांचवां- अमृत                  पांचवां- अमृत

छठा- काल                       छठा- चर

सातवां- शुभ                     सातवां- रोग

आठवां- रोग                     आठवां- काल

* चौघडिय़ा का उपयोग कोई नया कार्य शुरू करने के लिए शुभ समय देखने के लिए किया जाता है.

* दिन का चौघडिय़ा- अपने शहर में सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच के समय को बराबर आठ भागों में बांट लें और हर भाग का चौघडिय़ा देखें.

* रात का चौघडिय़ा- अपने शहर में सूर्यास्त से अगले दिन सूर्योदय के बीच के समय को बराबर आठ भागों में बांट लें और हर भाग का चौघडिय़ा देखें.

* अमृत, शुभ, लाभ और चर, इन चार चौघडिय़ाओं को अच्छा माना जाता है और शेष तीन चौघडिय़ाओं- रोग, काल और उद्वेग, को उपयुक्त नहीं माना जाता है.

* यहां दी जा रही जानकारियां संदर्भ हेतु हैं, स्थानीय पंरपराओं और धर्मगुरु-ज्योतिर्विद् के निर्देशानुसार इनका उपयोग कर सकते हैं.

* अपने ज्ञान के प्रदर्शन एवं दूसरे के ज्ञान की परीक्षा में समय व्यर्थ न गंवाएं क्योंकि ज्ञान अनंत है और जीवन का अंत है! 

पंचांग   

मंगलवार, 5 मई, 2020

प्रदोष व्रत

शक सम्वत 1942 शार्वरी

विक्रम सम्वत 2077

काली सम्वत 5122

दिन काल 13:22:17

मास वैशाख

तिथि त्रयोदशी - 23:22:57 तक

नक्षत्र हस्त - 16:39:43 तक

करण कौलव - 13:10:20 तक, तैतिल - 23:22:57 तक

पक्ष शुक्ल

योग वज्र - 24:42:39 तक

सूर्योदय 05:36:47

सूर्यास्त 18:59:05

चन्द्र राशि कन्या - 27:16:11 तक

चन्द्रोदय 16:44:00

चन्द्रास्त 28:49:59

ऋतु ग्रीष्म

दिशा शूल: उत्तर में

राहु काल वास: पश्चिम में

नक्षत्र शूल: कोई नहीं

चन्द्र वास: दक्षिण में 27:15 तक, पश्चिम में 27:15 से  

*कर्पूरगौरं, करुणावतारं....

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।