भोपाल. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा है कि कोरेाना वायरस से उत्पन्न स्थिति को देखते हयु निजी कर्मचारियों को सरकार को सैलरी देना चाहिए. साथ ही तीन महीने का बिजली बिल माफ  करना चाहिए तथा छोटे व्यापारियों का एक करोड़ रुपए तक का कर्ज माफ  करना चाहिए.

उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कहा कि हमें काम करने के लिए साढ़े 12 महीने मिले. इसके पहले जो सरकार 15 साल तक रही वो हमसे कैसे हिसाब मांग रही है. किसानों का ऋण माफ हवा में नहीं किया गया, इसके पूरे दस्तावेज हैं जिसमें किसानों के नाम से लेकर मोबाइल नंबर तक हैं. उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का दुख नहीं है कि हमारी सरकार चली गई, दुख इस बात का है कि कांग्रेस की सरकार में किसानों के लिए चलाई गई योजनाओं को बंद किया जा रहा है.

कमलनाथ ने कहा कि हमने ज्यादातर किसानों का कर्ज माफ कर दिया था, जो बच गये थे उनका कर्ज नई सरकार को माफ करना चाहिए. भाजपा पहले कोरोना का मजाक उड़ा रही थी, शिवराज सिंह चौहान इसे बहुत ही सामान्य बता रहे थे. कमलनाथ ने कहा कि हमने पहले ही इसको लेकर चेताया था, लेकिन भाजपा के लोग इसका मजाक बनाते रहे. लेकिन इससे आज आर्थिक गतिविधियां ठप पड़ गई हैं.

उन्होंने कहा कि मैं रोजगार की बात करता था, लेकिन आज प्रदेश में युवाओं का हाल खराब है. जो कर्मचारी निजी कंपनियों में और अलग-अलग स्थानों पर काम करते हैं, उन्हें सरकार को सैलरी देना चाहिए. तीन महीने का बिजली बिल माफ  करना चाहिए. जो छोटे व्यापारी है, उनका एक करोड़ रुपए तक का कर्ज माफ  करना चाहिए. राशन दुकान में राशन नहीं है लेकिन प्रदेश में शराब की दुकानें खुलने जा रही हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।