नई दिल्ली. दिल्ली की एक विशेष अदालत ने कथित सट्टेबाज और क्रिकेट को हिला देने वाले वर्ष 2000 के मैच फिकिंसग प्रकरण के मुख्य आरोपी संजीव चावला को शनिवार को जमानत दे दी. चावला को इस साल 13 फरवरी को ब्रिटेन से प्रत्यर्पण के बाद गिरफ्तार कर भारत लाया गया था. विशेष न्यायाधीश आशुतोष कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये दलीलें सुनने के बाद कहा कि आरोपी पिछले 76 दिनों से जेल में है और मामले में अब तक जांच पूरी हो गयी होगी.

अदालत ने चावला को दो लाख रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि के दो जमानती बांड जमा कराने पर जमानत दे दी. चावला को साथ ही निर्देश दिया गया कि वह अपनी आवाज का नमूना और हैंडराइटिंग के नमूने जांच अधिकारियों को दे. दिल्ली की एक अदालत ने दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के कप्तान हैंसी क्रोन्ये के साथ मैच फिकिंसग संबंधी मामले में मुख्य आरोपी और कथित सट्टेबाज चावला को 13 फरवरी को 12 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा था.

दिल्ली पुलिस ने चावला का ब्रिटेन से प्रत्यर्पण कर अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट सुधीर कुमार सिरोही के समक्ष पेश कर 14 दिन की पुलिस हिरासत का अनुरोध किया था. अदालत ने हालांकि तब 12 दिन की पुलिस हिरासत में भेजने का आदेश दिया था. चावला को 76 दिन बाद जाकर जमानत मिली. पुलिस ने अदालत को बताया था कि दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के कप्तान रहे क्रोन्ये भी इस मामले में शामिल थे लेकिन उनकी 2002 में विमान दुर्घटना में मौत हो गई. चावला पर फरवरी-मार्च 2000 में दक्षिण अफ्रीका टीम के भारत दौरे के दौरान मैच फिकिंसग के लिए क्रोन्ये के साथ मिलकर बड़ी साजिश रचने का आरोप था.

ब्रिटिश अदालत के दस्तावेजों के अनुसार दिल्ली में जन्मा व्यवसायी संजीव चावला 1996 में व्यापार वीजा के आधार पर ब्रिटेन चला गया था लेकिन वह भारत की यात्रा करता रहा. दिल्ली पुलिस ने मार्च 2000 में एक प्राथमिकी दर्ज की थी, जब उन्होंने सट्टेबाज संजीव और हैंसी क्रोन्ये के बीच बातचीत को इंटरसेप्ट किया था. बातचीत में हैंसी भारत के खिलाफ मैच हारने के बदले एक सौदा कर रहे थे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।