भारत में कई ऐतिहासिक मंदिर हैं, जो अपने आप में अद्भुत हैं. कर्नाटक में स्थित वेणुगोपाल स्वामी मंदिर इन्हीं अद्भुत मंदिरों में से एक है. वेणुगोपाल स्वामी मंदिर कर्नाटक के होसा कन्नमबाड़ी में कृष्ण राजा सागर (केआरएस) डैम के पास स्थित है. यह मंदिर मूल रूप से 12वीं शताब्दी में होयसल राजवंश द्वारा बनाया गया था. यह मंदिर 70 सालों तक पानी में रहा और साल 2011 में इसका जीर्णोद्धार पूरा हो पाया है.

साल 1909 में सर एम विश्वेश्वरैया द्वारा कृष्णा राजा सागर बांध परियोजना की कल्पना की गई थी, तब यह मंदिर परिसर कन्नमबाड़ी में स्थित था. केआरएस बांध परियोजना के पूरा होने पर कन्नमबाड़ी गांव और इसके आसपास की अन्य बस्तियां जलमग्न होने की संभावना थी.

तब मैसूर के तत्कालीन राजा कृष्ण राजा वाडियार चतुर्थ ने कन्नमबाड़ी के निवासियों के लिए एक नए गांव के निर्माण का आदेश दिया था और इसे होसा कन्नमबाड़ी यानी नया कन्नमबाड़ी नाम दिया गया. मूल मंदिर परिसर लगभग 50 एकड़ के क्षेत्र में फैला था. केआरएस बांध के पूरा होने के बाद से यह मंदिर 70 से अधिक सालों तक पानी में डूबा रहा था.

इसके बाद खोडे फाउंडेशन ने मंदिर को स्थानांतरित करने और पुनर्स्थापित करने का कार्य अपने हाथ में लिया. दिसंबर 2011 तक मंदिर का जीर्णोद्धार पूरा हो चुका है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।