घर के अंदर या उसके अरित: - परित: नकारात्मक और सकारात्मक ऊर्जा क्षेत्र का गृहवासियों को हो तो उसका यथोचित निराकरण कर गृहक्षेत्र की ऊर्जा को अनुकूल किया जा सकता है.

बिल्ली, छिपकली आदि आपके घर के जिस भाग में अक्सर देखें जाय तो जानिये उस क्षेत्र में नकारात्मक ऊर्जा का वास है . क्योंकि ये जीव नकारात्मक ऊर्जा में ही रहना पसंद करते हैं. अतः घर के अंदर पहचान किए गए इस क्षेत्र का समुचित साफ-सफाई का ध्यान रखें और यदि संभव हो तो यथोचित वास्तु निवारण करें. ताकि साकारात्मक ऊर्जा के बीच आपका जीवन आनंदमय रहे.

कुत्ता, गाय आदि जानवर सकारात्मक ऊर्जा क्षेत्र में रहना पसंद करते हैं. अतः ये जीव खास कर कुत्ता (क्योंकि आजकल (शहरों में) लोग कुत्ते को परिवार के सदस्य के रूप में स्वीकार करने लगे हैं) गृह के अंदर जिस भाग में अक्सर बैठना-रहना पसंद न करता हो उन क्षेत्रों में सकारात्मक ऊर्जा प्रवाह सुनिश्चित करें.

नकारात्मक ऊर्जा के निवारणार्थ एक आसान और अनुभव किया प्रयोग यह है की घर के अंदर उक्त विधि से चिन्हित जगहों में लाहौरी नमक का 2-4-5 किलो का रॉक रखें . आजकल इन रॉक से बनी इनटिरियर डेकोरसन की कई वस्तुएँ यथा नाइट लैम्प बाजार में उपलब्ध हैं. जो लोग पूजा-पाठ करते हैं वो दीपक में कपूर का प्रयोग करें, इससे भी लाभ होता है . जो सक्षम हैं वो क्रिस्टल के प्रयोग से भी नकारात्मक ऊर्जा का निवारण कर सकते हैं.

साभार:फेसबुक 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।