इस्लामाबााद. पाकिस्तान महिला टीम की पूर्व कप्तान और दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी रहीं सना मीर ने संन्यास का ऐलान कर दिया है. सना मीर सिर्फ पाकिस्तान ही नहीं बल्कि विश्व क्रिकेट की बड़ी खिलाडिय़ों में गिनी जाती हैं. किसी भी खेल में कुछ खिलाड़ी ब्रांड एम्बेसडर बन जाते हैं. उनके बाद उन्हें देखकर ही खिलाडिय़ों की एक नई फौज तैयार होती है. पाकिस्तान में महिला क्रिकेट के लिहाज से सना मीर का यही योगदान रहा है. 5 जनवरी 1986 को एबटाबाद में पैदा हुई सना मीर ने 19 साल की उम्र में पाकिस्तान के लिए खेलना शुरू किया था. करीब 14 साल तक सना पाकिस्तान में महिला क्रिकेट की सबसे बड़ी पहचान रहीं.

सना मीर के खाते में हैं तमाम रिकॉर्ड्स

2005 में पाकिस्तान के लिए डेब्यू करने वाली सना मीर ने 226 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले. इसमें से 137 मैचों में उन्होंने अपनी टीम की कप्तानी की थी. ऑफ स्पिनर सना मीर ने 120 वनडे मैचों में 151 विकेट लिए थे. वो पाकिस्तान महिला क्रिकेट इतिहास की सबसे कायमाब गेंदबाज (क्चश2द्यद्गह्म्) रही हैं. इसके अलावा उन्होंने टी-20 फॉर्मेट में भी 89 विकेट लिए थे. सना मीर महिला विश्व क्रिकेट के बड़े नामों में शुमार रही हैं. पाकिस्तान के लिए सबसे ज्यादा वनडे रन बनाने वाली खिलाडिय़ों में भी सना मीर तीसरे पायदान पर थीं. उन्होंने वनडे क्रिकेट में 1630 रन बनाए थे. वो 100 विकेट और 1000 रन बनाने वाली गिनी चुनी खिलाडिय़ों में शामिल हैं. उनके खाते में 100 टी-20 मैच खेलने का श्रेय भी है. सना मीर ने पिछले साल अक्टूबर के बाद से टी-20 मैच नहीं खेला था. उनका आखिरी मैच बांग्लादेश के खिलाफ था. इसी के बाद उन्होंने लंबा ब्रेक लेने का ऐलान कर दिया था. इस साल की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया में खेले गए टी-20 विश्व कप के लिए पाकिस्तान की टीम में उन्हें नहीं चुना गया था.

संन्यास के फैसले को लेकर कहीं कई भावुक बातें

अपने संन्यास के बारे में उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों ने उन्हें सोचने समझने का मौका दिया. मुझे लगा कि अब आगे बढऩे का यही सही वक्त है. मैंने अपनी काबिलियत के मुताबिक महिला क्रिकेट को और अपने देश को अपना सर्वश्रेष्ठ दिया. मैंने इस दौरान महिला क्रिकेट की कई शानदार खिलाडिय़ों के साथ वक्त बिताया. मैदान तक पहुंचने के पीछे के संघर्ष की उन खिलाडिय़ों की कहानी ने मुझे एक बेहतर खिलाड़ी और बेहतर इंसान बनाया. मैंने सीखा की खेल में हार-जीत के आगे भी दुनिया है. उन्होंने 2017 के विश्व कप फाइनल और 2020 के फाइनल के मैचों में जमा दर्शकों की भीड़ को महिला क्रिकेट की कामयाबी से जोड़कर बताया.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।