क्या आप भी सेफ्टी पिन के भरोसे रहती हैं अगर हां तो आपको अपनी सोच बदलने की जरूरत है. वैसे बता दें कि यहां सेफ से मतलब है कपड़ों को सही जगह बनाए रखना या दो छोर को जोड़े रखना, जिसके लिए आमतौर पर सेफ्टी पिन का इस्तेमाल किया जाता है. हालांकि, यह किन स्थितियों में यूजलेस साबित हो सकती है ये जान लेना ही आपको ऊप्स मोमेंट का शिकार होने से बचा सकता है.

अगर आपको साड़ी का पल्ला ब्लाउज के साथ टक करना है तो एक या डेढ़ इंच बड़ी सेफ्टी पिन अच्छी चॉइस है, लेकिन अगर आपको प्लीट्स सेट करनी है तो इतनी छोटी पिन्स किसी काम की नहीं हैं. अगर जैसे तैसे आपने सभी प्लीट्स को पिन में सेट कर भी दिया तो जरा सा मूव होने पर ये प्लीट्स खुल सकती हैं, जो कि आपकी शर्मिंदगी का कारण बन जाएंगी. बेहतर है कि मार्केट में प्लीट्स के लिए मिलने वाली खास पिन्स या फिर दो से तीन इंच की सिंपल सेफ्टी पिन का इस्तेमाल करें.

मान लीजिए आपने लहंगा पहना है, लेकिन उसकी साइड की चेन खुल गई है. इसे सेट करने के लिए अगर आप सेफ्टी पिन्स का इस्तेमाल करने की सोच रही हैं तो जरा संभलकर. दरअसल, आमतौर पर लहंगे का वजन ज्यादा होता है और ऐसे में हर मूवमेंट के साथ पिन पर भी भार बढ़ता है, जिससे वह खुल सकती है. इमरजेंसी में तो आप सेफ्टी पिन इस्तेमाल कर सकती हैं, लेकिन इसके बाद ज्यादा चलने-फिरने से बचें.

महिलाओं की बटन शर्ट पुरुषों से थोड़ी अलग होती है. मैन्स शर्ट जहां हल्की लूज होती है तो वहीं महिलाएं को शर्ट बस्ट एरिया से फिटिंग वाली होती है. शर्ट का बटन टूट जाने पर कई बार महिलाएं सेफ्टी पिन से उसे टक कर पहन लेती हैं, लेकिन ऐसा करना रिस्की हो सकता है क्योंकि शर्ट के जरा से खिंचने पर फैब्रिक के डैमेज होने के साथ ही पिन के खुलने का खतरा बढ़ जाता है.

इमरजेंसी में तो सेफ्टी पिन का इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन बेहतर यही है कि बटन को फिर से सिल लिया जाए. वहीं अगर बटन्स के बीच गैप है तो उसे भी सेफ्टी पिन से बंद करने की जगह डबल साइड टेप का इस्तेमाल किया जा सकता है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।