गर्मियां शुरू हो चुकी है. इस मौसम में सभी को फ्रिज में रखा ठंडा पानी पीना बहुत पसंद आता है. यह पानी भले ही शरीर को ठंडक पहुंचाता है. मगर असल में इसका सेवन करने से सेहत को भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है. अत्याधिक ठंडा पानी पीने से पाचन तंत्र कमजोर होने के साथ कई बीमारियों के लगने का कारण बनता है. तो चलिए जानते है फ्रिज का चिल्ड वॉटर पीने से होने वाले नुकसान के बारे में...

अत्याधिक ठंडा पानी पीने से शरीर की चर्बी सख्त हो जाती है. ऐसे में फैट बर्न करने में मुश्किल होती है. इसके कारण वजन बढ़ने लगता है.  भारी मात्रा में ठंडे पानी का सेवन करने से मेटाबॉलिज्म स्लो हो जाता है. इससे शरीर में कमजोरी व‌ सुस्ती बढ़कर एनर्जी लेवल कम होने लगता है.

डीहाइड्रेशन- अक्सर गर्मियों में सभी को ठंडा पानी पीना पसंद आता है. मगर तेज धूप व गर्मी के कारण थोड़ा सा पानी पीकर ही प्यास बुझ जाती है. इससे बॉडी में पानी की कमी होती है. साथ ही डीहाइड्रेशन की समस्या का सामना करना पड़ता है. इसलिए नॉर्मल पानी पीकर अपनी प्यास को शांत करें. ताकि डीहाइड्रेशन से बचा जा सके.

कब्ज- रोजाना ठंडा पानी का सेवन करने से कई दिनों तक कब्ज की शिकायत हो सकती है. इसके सेवन से डाइजेस्टिव सिस्टम खराब होने लगता है. ऐसे में यह और भी कई बीमारियों का कारण बनती है. आयुर्वेद में भी किसी भी बीमारी के शुरू होने का कारण कब्ज को माना गया है.

कोशिकाओं में सिकुड़न- जरूरत से ज्यादा ठंडा पानी पीने से शरीर के अंदर कोशिकाएं सिकुड़ने लगती है. ऐसे में वे सही ढंग से काम नहीं कर पाती. साथ ही यह मेटाबॉलिज्म और हार्ट रेट को भी कम या धीमा करता है. ऐसे में हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ता है.

गला खराब- फ्रिज का ज्यादा ठंडा पानी पीने से गला खराब होता हैं. इसके अलावा गले में टॉन्सिल्स, फेफड़ों और पाचन तंत्र से जुड़े रोग होने के चांसिस बढ़ते हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।