अनिल शर्मा अनिल. तैमूरलंग ने फिरोजशाह तुगलक के निधन के बाद यमुना के पश्चिमी किनारे से लूटपाट करनी शुरू थी. उसके मार्ग में जो भी नगर पड़े, गांव पड़े, उनमें उसने लूटपाट की. वह दिल्ली की ओर से मेरठ, बिजनौर के गंगा किनारे से होता हुआ हरिद्वार जा पहुंचा.

अमीर जफर तैमूर (तैमूर लंग) ने 1398 में भारत पर आक्रमण किया था. हरिद्वार पहुंचकर तैमूर ने प्राचीन तीर्थ नगरी की पवित्रता को नष्ट करना चाहा. उसने वहां पर तीर्थयात्रियों से जमकर लूटपाट की. मूर्तियां तोड़ना फोड़ना भी तैमूरलंग की आदत थी.

हरिद्वार में यह वह मायादेवी मन्दिर के निकट मन्दिर के पास पहुंचा. अपने मद में चूर तैमूर ने भैरव की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त करना चाहा. उसने अपने सिपाहियों को इसके लिए कहा. उन्होंने जैसे ही भैरव प्रतिमा पर प्रहार किया अचानक वहां सांप-बिच्छुओं की फौज उमड़ पड़ी.

इसे चमत्कार ही कहा जाएगा कि वहां अचानक सैकड़ों हजारों बिच्छू और सांप प्रकट हो गये. तैमूर की फौज इस सांप बिच्छू फौज का मुकाबला न कर सकी. बड़ी संख्या में इन जहरीले जन्तुओं को देखकर तैमूर की फौज भयभीत हो गयी. उसमेें भगदड़ मच गयी. भागती फौज को तैमूर के आदेश भी न रोक सके.

सांप-बिच्छू की फौज अब तैमूर की तरफ बढ़ी, तो तैमूर स्वयं भी भयग्रस्त हो गया. उसके भय का आलम यह था कि उसका मनोबल टूट गया. उसने यहां से भागकर जान बचाने में ही अपनी भलाई समझी. वह हरिद्वार से भाग निकला. कहते है कि तैमूर व उसकी फौज को सांप-बिच्छुओं की फौज ने दूर तक खदेड़ा. डरा हुआ तैमूर हरिद्वार से भागकर सरसावा होते हुए वापस समरकन्द लौट गया.

यह मायादेवी मन्दिर आज जहां विद्यमान है, उसी के पास वह भैरव मन्दिर भी है जिस पर हमला करने के साथ ही, वहां पर सांप और बिच्छुओं की फौज में तैमूर लंग की सेना को घेर लिया था. यह स्थान अत्यन्त प्राचीन स्थान (मन्दिर) है.

ब्रिटिश सरकार द्वारा डायरेक्टर और अलेक्जेंडर कनिंघम जी (1870.71) में भारत की यात्रा पर निकले. उनहोंने महत्वपूर्ण प्राचीन स्थलों की एक सर्वे रिपोर्ट साक्ष्यों के आधार पर तैयार की थी. उनकी उस रिपोर्ट में मायादेवी मन्दिर निर्माण को दसवी-ग्यारहवीं शताब्दी का माना गया था.

तो, तैमूर लंग को भागना पड़ा लेकिन यह रहस्य की घटना थी कि अचानक वहां पर सांप-बिच्छु इतनी बड़ी संख्या में कहां से आ गये? और फिर तैमूर लंग को इसकी सेना समेत खदेड़ कर कहां गायब हो गये?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।