सुभाष शिरढोनकर. बड़े बड़े दावों के बावजूद तापसी पन्नू की पिछली फिल्म थप्पड़ बॉक्स ऑफिस पर कोई कमाल नहीं दिखा सकी. अनुभव सिन्हा निर्देशित इस फिल्म का सब्जेक्ट और स्क्रिप्ट दर्शकों के गले नहीं उतर सकी. फिल्म के बारे में हर किसी की एक ही राय थी कि यदि पति का एक थप्पड़ खाने के बाद हर पत्नी अपने पति से अलग रहना शुरू कर दे तो इस दुनिया में कोई पति.पत्नी कभी साथ नहीं रह सकेंगे.

आनंद एल राय की हसीन दिलरूबा में तापसी और विक्रांत मैसी हैं. इसका निर्देशन विनिल मैथ्यू कर रहे हैं. कनिका ढिल्लों ने फिल्म की कहानी लिखी है. यह एक हत्या के इर्द गिर्द घूमने वाली रोमांटिक थ्रिलर है. इस मर्डर मिस्ट्री में कहानी के बीच पनपती प्रेमकथा में कई दिलचस्प मोड़ हैं. यह एक ऐसा जॉनर है जिस पर हमने पहले कभी काम नहीं किया है. तापसी को भरोसा है कि यह दर्शकों का मनोरंजन करने में सफल साबित होगी.

कंगना की बहन रंगोली का आरोप है कि तापसी हू ब हू कंगना की नकल कर रही हैं. इस तरह वह तापसी को कंगना की सस्ती कॉपी कहने से भी नहीं चूकतीं. रंगोली के आरोप पर तापसी जैसी गर्म मिजाज एक्ट्रेस ने चुप्पी साध लेना ही बेहतर समझा और कुछ खास रिएक्ट नहीं किया लेकिन अपने स्वभाव के अनुसार उन्होंने इतना तो कह ही दिया कि उन्हें अफसोस है कि अपनी व्यस्तता के चलते कंगना और उनकी बहन को वो ज्यादा टाइम नहीं दे पा रही हैं.

रंगोली के कमेंट के बाद कंगना से जलभुन जाने के बजाये उनकी तारीफ करते हुए तापसी कहती हैं कि कंगना उन्हें प्रेरित करती है क्योंकि वह जो बोलना चाहती हैं, बेझिझक और बेबाक ढंग से बोलती हैं. शायद इस तरह के से तापसी लोगों को संकेत देना चाहती हैं कि कंगना हू ब हू उन्हीं की तरह की लड़की हैं.

साउथ के जाने माने एक्टर और निर्देशक प्रकाश राज ने मलयालम फिल्म साल्ट एन पेपर के हिंदी रीमेक तड़का के लिए नाना पाटेकर और तापसी को लीड में लेकर इसकी शूटिंग 2016 में शुरू की थी लेकिन किन्हीं कारणों से फिल्म चंद दिनों की शूटिंग के बाद डिब्बा बंद हो गई.

एक आउटसाइडर होने की वजह से तापसी को इस मुकाम तक पंहुचने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा. कैरियर की शुरूआत में एक अपशकुनी लड़की कहकर उन्हें कई फिल्मों से निकाल दिया गया लेकिन तापसी का कहना है कि आउटसाइडर होना ही उनकी सबसे बड़ी ताकत बन गया.

तापसी पन्नू ने जब रश्मि रॉकेट का आइडिया सुनाए इसकी कहानी पसंद आ गई. यह काफी फनी एक एथलीट की कहानी है. तापसी में पेशेंस की बहुत कमी है. उन्हें सब कुछ फटा फट चाहिए. उनसे इंतजार नहीं होता. तापसी को लगता है कि यह उनका माइनस प्वाइंट है.

बड़े डायरेक्टरए तापसी के साथ काम करना चाहते हैं. तापसी को लगता है कि फिल्म मेकर्स को अहसास हो चुका है कि तापसी कुछ अच्छा कर सकती है. यह बात उनका हौसला बढ़ाती है. तापसी को सुपर हीरो बेस्ड हॉलीवुड फिल्म एवेंजर्स सबसे ज्यादा पसंद है. वह भी किसी इंडियन में सुपर हीरो वाला किरदार निभाना चाहती है.

तापसी को पुरूष एवं महिला कलाकारों के बीच काम और प्राइज के अंतर को लेकर भी एतराज है. उनका मानना है कि यदि ऑडियंस फीमेल ओरियंटेड फिल्मों में खूब रूचि लेने लगे हैं तो इस अंतर को कम किया जा सकता है और बॉक्स ऑफिस पर ऐसी फिल्मों को सफलता मिल सकती है.

कहा जा रहा है कि सुषमा स्वराज की बायोपिक के लिए फिल्म के मेकर विद्या बालन को लेने का मन बना रहे हैं लेकिन तापसी ने फिल्म करने की ख्वाहिश जताकर इसमें अपनी टंगड़ी फंसा दी है. फिर भी मेकर को यही लगता है कि उस किरदार के लिए विद्या ज्यादा बेहतर हैं!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।