मैलवेयर और वायरस हमेशा से स्मार्टफोन्स के लिए खतरनाक साबित हुये हैं. ये मैलवेयर और वायरस स्मार्टफोन में डाउनलोड होने के बाद यूजर की सारी निजी जानकारी चुरा लेते हैं. साईबर सिक्योरिटी कंपनी कैस्पर्सकी की टीम ने एक ऐसे मैलवेयर का पता लगाया है, जो स्मार्टफोन में अपने आप डाउनलोड हो जाता है और स्मार्टफोन में मौजूद सारी जानकारी को एक्सेस कर लेता है. इससे दुनिया 250 करोड़ स्मार्टफोन्स पर खतरा मंडरा रहा है.
 xHelper नाम का वायरस एप्स के जतरिए फोन में घुस जाता है, जो खुद को Trojan-Dropper.AndroidOD.Helper.h के रूप में पेश करता है और दावा करता है कि ये फोन को क्लीन करके परफॉर्मेंस को फास्ट कर देगा.

लेकिन जब आप इसे डाउनलोड करते हैं तो ये फोन पर मैलिशियस सॉफ्टवेयर rojan-Downloader.AndroidOS.Leech.p डाउनलोड कर देता है. इसके बाद Leech.p फोन में HEUR:Trojan.AndroidOS.Triada.dd नाम का सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर देता है और स्मार्टफोन के रूट एकसेस की परमिशन दे देता है.

कैस्पर्सकी के अनुसार ये रूट एक्सेस चीप चाइनीज फोन पर चले जाते हैं, जो कि एंड्रॉयड 6 या एंड्रॉयड 7 पर रन करते हैं. डराने वाली बात ये है कि इस सॉफ्टवेयर के साथ हम कोई छेड़छाड़ नहीं कर सकते हैं और ना ही इसे डिलीट किया जा सकता है. इसलिए एंटीवायरस के लिए इससे ठीक करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है. सिक्योरिटी एक्सपट्र्स ने इस मैलवेयर को बेहद खतरनाक बताया है. ये चुपके से इंस्टॉल होने के बाद ऐप में मौजूद यूजर का सारा डाटा का ऐक्सेस ले लेता है.

इतना ही नहीं, जब भी कोई यूजर इस ऐप या मैलवेयर को अनइंस्टॉल करने की कोशिश करता है, तो ये ऑटोमैटिकली फिर से इंस्टॉल हो जाता है. हालांकि साइबर सिक्योरिटी विशेषज्ञों ने इस मैलवेयर को स्मार्टफोन से हटाने का एक तरीका बताया है. जिसके तहत इसके लिए आपके एंड्रॉयड फोन में रिकवरी मोड सेटअप में जाना होगा. इसके बाद आप ओरिजनल फर्मवेयर से द्यद्बड्ढष्.ह्यश फाइल को बाहर निकालकर इंफेक्टेड फाइल से रिप्लेस कर सकते है. ये प्रोसेस आपको सिस्टम पार्टिशन से सभी मैलवेयर को हटाने से पहले करना है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।