चंडीगढ़. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने संवैधानिक संशोधन एक्ट ,राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर ,राष्ट्रीय आबादी रजिस्टर को हास्यास्पद और असंवैधानिक बताते हुए कहा है कि उनके समेत आधा पंजाब भारतीय होने का सबूत देने के लिए जन्म प्रमाण पत्र पेश नहीं कर सकता. उन्होंने आज यहां कहा कि पंजाब के बहुत से लोग पाकिस्तान से आए हैं और क्या केंद्र जन्म सर्टिफिकेट लेने के लिए उनके पाकिस्तान जाने की उम्मीद रखता है.

यहाँ तक कि मेरे पास भी जन्म प्रमाण पत्र नहीं है. जब मेरा जन्म हुआ था, उस समय पर यह बातें नहीं होती थी . नई प्रणाली के तहत तो वह भी संदिग्ध पात्र बन जाएंगे. कैप्टन सिंह ने स्पष्ट किया कि उनकी सरकार ने इन एक्टों का विरोध किया है और पंजाब में आम जनगणना की जायेगी जो धर्म, जाति और नस्ल पर आधारित नहीं होगी.

देश के संविधान एवं इसकी प्रस्तावना की सच्ची भावना के अनुसार विभिन्न धर्मों, जातियों और नसलों के लोग मिलकर रह रहे हैं. अचानक वे मुल्क की इस विलक्षणता को मिटाना चाहते हैं जिसको कतई मंजूर नहीं किया जा सकता.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।