सुभाष शिरढोनकर. ऋतिक रोशन अपनी डेब्यू फिल्म ‘कहो न प्यार है’ (2000) से लाखों दिलों की धड़कन बन गये थे. उसके बाद उन्होंने एक से बढ़कर एक कई शानदार फिल्मों की कतार लगा दी थी.

’मोहन जोदारो’ (2016) के बुरी तरह फ्लॉप हो जाने के बाद  ऋतिक रोशन की संजय गुप्ता द्वारा निर्देशित ’काबिल’ (2017) को बॉक्स ऑफिस पर दर्शकों का काफी अच्छा रिस्पांस मिला.

’काबिल’ (2017) के दो साल बाद पिछले साल ऋतिक रोशन की दो फिल्में ’सुपर 30’ (2019) और ’वॉर’ (2019) आईं और दोनों सुपर हिट साबित हुईं. ’सुपर 30’ ने देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी दर्शकों का दिल जीता. इसने घरेलू बाजार में लगभग 140 करोड़ की कमाई की. इसे अब हॉलीवुड में बनाये जाने की तैयारियां चल रही हैं. यह पहली ऐसी भारतीय फिल्म होगी जिसका हॉलीवुड रीमेक बनाया जायेगा.

हिंदी के अलावा तमिल और तेलुगु भाषा में बनी ’वॉर’ (2019) में ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ दोनों ने बेहद चौंकाने वाले स्टंट किए. इस एक्शन थ्रिलर में कबीर के किरदार में ऋतिक का प्रदर्शन बेहद शानदार रहा.

’वॉर’ 300 करोड़ के क्लब में शामिल हुई. इस फिल्म के साथ ऋतिक रोशन सलमान की तरह ओवरसीज के सबसे बड़े स्टार बन चुके हैं.  पिछला साल ऋतिक के लिए सबसे अच्छा रहा.

’जिंदगी न मिलेगी दोबारा’ और ’बैंग बैंग’ में ऋतिक रोशन और कैटरीना ने एक साथ काम किया था. इस जोड़ी को दर्शकों ने काफी पसंद किया था. ऐसे में जब इस जोड़ी का नाम ’सत्ते पे सत्ता’ के रीमेक के लिए सामने आया तो ऋतिक के फैन खुशी से झूम उठे थे लेकिन ऋतिक ने उसे महज अफवाह करार देते हुए उस संभावना को सिरे से खारिज कर दिया.

नितेश तिवारी की ’रामायण’ में ऋतिक रोशन राम के किरदार में और दीपिका पादुकोण को  सीता के किरदार में लिए जाने की चर्चा हुई लेकिन छह महीने गुजर जाने के बावजूद इसकी ऑफिशियल घोषणा नहीं हो सकी है.  साउथ के जाने माने मेकर शंकर की फिल्म के लिए पहले ऋतिक का नाम सामने आया लेकिन अब इसमें शाहरूख की एंट्री हो चुकी है.

बॉलीवुड के ग्रीक गॉड कहे जाने वाले ऋतिक रोशन ने अपने लुक, डांस और एक्शन से दर्शकों को दीवाना बना रखा है. वह बॉलीवुड के सबसे ज्यादा टेलेंटेड एक्टर्स की फेहरिस्त में शुमार हैं. उनकी शानदार और आकर्षक पर्सनेलिटी की हमेशा चर्चा होती रही है.

2019 में दुनिया के मोस्ट हैंडसम पुरूषों की लिस्ट में वह टॉप पर रहे. इसके पहले 2018 में भी वह इसी पोजीशन पर थे. इस तरह पिछले दो साल से लगातार उन्होंने अपनी पोजीशन को मैंटेन रखा है.  इसके पहले 2011-12 में ऋतिक रोशन दुनिया के 50 सबसे सैक्सी एशियन पुरूषों की लिस्ट में टॉप पर रह चुके हैं.

सौरव गांगुली ने यह कहकर ऋतिक का महत्त्व और भी बढा दिया है कि यदि उन पर बायोपिक बनती है तो उनका किरदार निभाने के लिए ऋतिक को लिया जाना चाहिए. इस इंडस्ट्री में कैरियर के दो दशक पूरे कर चुके ऋतिक रोशन इन दिनों अपने होम प्रोडक्शन की ’कृष 4’ के पेपर वर्क में बिजी हैं.

250 करोड़ के भारी भरकम बजट वाली बजट वाली फिल्म ’कृष 4’ का निर्देशन ऋतिक के साथ ’काबिल’ (2017) बनाकर अपनी काबिलियत साबित कर चुके संजय गुप्ता करेंगे और इस बार इसमें जबर्दस्त एक्शन और वीएफएक्स का इस्तेमाल किया जायेगा. प्रस्तुत हैं ऋतिक रोशन के साथ की गई बातचीत के

मुख्य अंशः

आपने इस इंडस्ट्री में 20 साल पूरे कर लिये हैं. दो दशक की इस जर्नी को कैसे देखते हैं ?

इसे मैं सिर्फ एक स्टूडेंट के तौर पर ही देखता हूं. यहां हर दिन कुछ न कुछ सीखने का मौका मिलता रहता है. इसलिए मैं खुद को जिंदगी और सिनेमा का एक स्टूडेंट ही मानता हूं. कोई भी नई चीज हो, मुझे उसे सीखने में खुशी मिलती है.

क्या इस दरमियान कभी किसी परेशानी का सामना करना पड़ा ?

मैं खुशकिस्मत रहा कि मुझे ज्यादा परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ा, और ढेर सारी सफलताएं मुझे हासिल होती रही.  अब तक मैं कुछ सबसे बेहतरीन फिल्मों का हिस्सा रहा हूं और मुझे सबसे प्रतिभाशाली लोगों के साथ काम करने का मौका मिला है. मैं 43 साल का हो चुका हूं और अपनी पेशेवर जिंदगी में किसी तरह का बदलाव लाना नहीं चाहता. मुझे लगता है कि मेरा अब तक का सफर बहुत शानदार रहा है. उम्मीद करता हूं  कि आने वाले समय में मुझे और भी सफलताएं मिलेंगी.

क्या आपको कभी इस स्टारडम की कीमत भी चुकानी पड़ी ?

सीधे तौर पर तो नहीं लेकिन इस स्टारडम के कारण कुछ सामाजिक जिम्मेदारियां कंधे पर आ जाती हैं. हमारे द्वारा कही गई हर बात के लिए हमें जवाबदेह होना पड़ता है. इसकी खातिर हमें हमारी निजता का थोड़ा बहुत त्याग भी करना ही पड़ता है. स्टारडम के कारण कुछ चीजों को यदि खोना पड़ा है तो ढेर सारी चीजें हासिल भी की हैं. खोई हुई चीजों के लिए मन में कोई शिकायत नहीं क्योंकि यह एक बहुत छोटी सी कीमत है.

पिछले साल आपके जन्म दिन पर, आपके डैडी ने ’कृष 4’ को 2020 के क्रिसमस पर रिलीज करने की बात कही थी लेकिन अब तक वह शुरू नहीं हो सकी है ?

यह फ्रेंचाइजी हमारे दिल के बेहद करीब है. एक वक्त इस पर काम पूरी तरह रूंक गया था क्योंकि पापा की सेहत लगातार बिगड़ती जा रही थी पर अब वे ठीक हैं. इसकी स्क्रिप्ट फाइनल स्टेज में है. अब यह आगे के प्लान पर निर्भर करता है कि यह इस साल क्रिसमस पर रिलीज हो सकेगी या नहीं. इस बीच यदि कोई और फिल्म शुरू करता हूं तो निश्चित ही इसकी रिलीज डेट को आगे बढ़ाना पड़ेगा.

आप अक्सर रोमांटिक, डांसिंग और एक्शन पर बेस्ड फिल्में करते रहे हैं. पहली बार आपने सोशल मैसेज वाली ’सुपर 30’ की. इस बारे में क्या कहेंगे?

मैं शुरू से सिर्फ मनोरंजक स्क्रिप्ट साइन करने पर ही ध्यान देता रहा हूं. ’सुपर 30’ मैंने इसलिए नहीं की कि उसमें कोई सोशल मैसेज था बल्कि इसलिए की कि इसकी स्क्रिप्ट बेहतरीन थी. मुझे लगा कि मुझे उस शख्स की बायोपिक करनी चाहिए जो इस सोसायटी के लिए इतना कुछ कर रहा है. मेरे पापा हमेशा कहते हैं कि यदि हम समाज को कोई मैसेज देना चाहते हैं तो हमें शार्ट फिल्में बनानी चाहिए न कि फीचर फिल्में और यदि फिल्म ही बनाना है तो वह मनोरंजक होनी चाहिए.

’वॉर’ आपके पर्सनल एक्शन एंटरटेनर जेनर की फिल्म थी. आप इस किस्म की फिल्में करने के लिए हमेशा बेचैन नजर आते हैं ?

’बैंग बैंग’ और ’धूम 2’ के बाद इस तरह के जेनर की फिल्म की मेरी तलाश लंबी रही. ऐसे में जब ’वॉर’ के बारे में सुना, तब मैंने महज 5 मिनट में ही इसके लिए हां कह दिया था. मुझे लगता है कि एक्शन फिल्मों में थोड़ी इंटेलिजेंस की कमी रह जाती है लेकिन ’वॉर’ सही मायनों में इंटेलिजेंट एक्शन एंटरटेनर थी. एक्शन जब तक इंटेलिजेंट न हो, मजा नहीं आता. मेरी कोशिश रहती है कि ऐसे ही जेनर को ढूंढ कर सकूं.

’सुपर 30’ जैसी परफॉर्मेंस बेस्ड फिल्म या ’वॉर’ जैसी स्टाइलिश फिल्म आपके लिए किस जेनर की फिल्म करना ज्यादा आसान होता है ?

मेहनत तो दोनों में ही होती है. एक्शन फिल्मों में थोड़ी ज्यादा मेहनत होती है क्योंकि इसमें एक्टिंग और इमोशन के साथ आपको कुछ और भी करना होता है. ’सुपर 30’ करते वक्त आप कुछ भी कर सकते हैं लेकिन ’वॉर’ करते वक्त या तो आप ट्रेनिंग ले रहे होते हैं या फिर डॉयंिटग पर होते हैं, इसलिए कुछ तो अलग करना ही पड़ता है. सुपर 30 के दौरान मेरी कमर का साइज 37 इंच था जिसे ’वॉर’ के दौरान सिर्फ 2 महीने में मुझे घटाकर 31 करना पड़ा. आप खुद ही समझ लीजिए कितनी मेहनत का काम है.

आप ही की तरह टाइगर श्रॉफ, डांस और एक्शन दोनों में माहिर है. आज की नौजवान पीढ़ी के दर्शक उन्हें सबसे ज्यादा पसंद करते हैं. उनके साथ ’वॉर’ में काम करने का अनुभव किस तरह का रहा ?

टाइगर मुझे बड़ा भाई मानता है. मैं उसे बचपन से जानता हूं. जब उनके डैडी मेरे डैडी के साथ ’किंग अंकल’ कर रहे थे, उस वक्त टाइगर सेट पर आया करता था. मैं ही उसे संभालता था. आज वह इतना बड़ा हो गया है कि हम साथ काम कर रहे हैं. यह दिल को छू लेने वाली बात है. वह जबर्दस्त एक्टर है और ’वॉर’ में उसने गजब का परफॉर्म किया है. उसका एक्शन स्टाइल बेहद शानदार है. मेरे ख्याल से वह इस इंडस्ट्री का पहला ऐसा एक्टर है जिसने खुद को साबित करने के लिए इतना कम वक्त लिया. उसके साथ मेरा वर्किंग एक्सपीरियंस काफी कमाल का रहा.

दूसरों के मुकाबले कम फिल्में करने के बावजूद अपनी फिल्मों के लिए आप ज्यादा वक्त देते हैं. ऐसे में खुद के लिए कितना वक्त निकाल पाते हैं ?

काम के लायक वक्त तो निकाल ही लेता हूं लेकिन मुझे अक्सर लगता है कि मेरे जीवन में उतना संतुलन नहीं है, जितना होना चाहिए. मैं अपने काम को कुछ इस तरह अरेंज करना चाहता हूं कि बिना किसी रूकावट के अपना काम भी कर सकूं और साथ में अपने लिए ढेर सारा वक्त भी निकाल सकूं लेकिन चाह कर भी ऐसा नहीं कर पा रहा हूं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।