पलपल संवाददाता, जबलपुर. वेस्ट-सेन्ट्रल रेलवे के जनरल मैनेजर सुनील कुमार सिंह ने कहा है कि पूरे पमरे के तीनों रेल मंडलों में ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने के लिए आधारभूत संरचनाओं को मजबूत करने का काम तेजी से चल रहा है, जिससे पमरे में ट्रेनों की स्पीड बढ़ जायेगी. वहीं पूरे भारतीय रेलवे में पमरे का परिचालन लागत लगभग 68 प्रतिशत है, यानी 1 रुपए कमाने में उसे 68 पैसे खर्च करने पड़ रहे हैं. यह बात उन्होंने पत्रकार वार्ता में कही.

इस दौरान पमरे के एडीशनल जीएम शोभन चौधुरी, मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्रीमती प्रियंका दीक्षित, सीओएम मनोज सेठ, सीसीएम एसके दास, सीडीओ आरएन सुनकर, डिप्टी जीएम आशुतोष पांडे आदि मौजूद रहे.

जीएम श्री सिंह ने कहा कि मुंबई-दिल्ली व्हाया कोटा रूट जिसे राजधानी रूट भी कहा जाता है, वहां पर पहले कुछ सेक्शन में 130 की गति से ट्रेन चलाई जाती थी, लेकिन अब उस पूरे रूट पर सभी ट्रेनों को 130 किमी प्रतिघंटा की गति से चलाये जाने की तैयारी की जा रही है, इसके लिए ट्रेक के सुधारीकरण के साथ-साथ एलएचबी कोचों की गाडिय़ां भी बढ़ाई जा रही हैं.

इटारसी-जबलपुर-इलाहाबाद रेलमार्ग पर भी बढ़ेगी स्पीड

एक सवाल के जवाब में श्री सिंह ने कहा कि इटारसी-जबलपुर-इलाहाबाद रेल मार्ग पर भी ट्रेनों की गति बढ़ाने की दिशा में आधारभूत ढांचा क्रमबद्ध ढंग से मजबूत करने का काम चल रहा है, जब काम पूरा हो जायेगा, तब इस मार्ग पर ट्रेनों की गति जो फिलहाल 110 किमी प्रतिघंटा है, उसे बढ़ाया जा सकेगा.

31 मार्च 2020 तक कटनी-सतना विद्युतीकरण हो जायेगा कम्पलीट

पमरे के जीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि इटारसी-जबलपुर कटनी व सतना-मानिकपुर-इलाहाबाद के बीच विद्युतीकरण का काम काफी समय पहले कम्पलीट हो चुका है, सिर्फ कटनी-सतना के बीच का काम बाकी है, जिसे तेजी से पूरा किया जा रहा है, इस कार्य को पूरा करने के लिए 31 मार्च 2020 तक का टारगेट दिया गया है, इस अवधि में यह काम पूरा हो जायेगा.

ब्राडगेज प्रोजेक्ट पूर्ण होने पर जबलपुर से रायपुर व्हाया गोंदिया ट्रेन चलाने पर विचार श्री सिंह ने एक सवाल के जवाब में कहा कि रायपुर के लिए फिलहाल वर्तमान रूट व्हाया कटनी-बिलासपुर पर काफी ट्रेफिक का दबाव है, इस रूट पर नई ट्रेन का संचालन काफी मुश्किल है, लेकिन इतना जरूर है कि जबलपुर-गोंदिया ब्राडगेज प्रोजेक्ट के पूर्ण होने के बाद जबलपुर से व्हाया नैनपुर, बालाघाट, गोंदिया होकर रायपुर के लिए नई ट्रेन संचालन पर विचार किया जायेगा.

ईएमयू ट्रेन भी चलेगी, किंतु शेड का काम पूर्ण होने पर

श्री सिंह ने कम दूरी के यात्रियों के लिए इलेक्ट्रिकल मल्टीपल यूनिट (ईएमयू) ट्रेन चलाने के सवाल के जवाब में कहा कि ईएमयू ट्रेन चलाने की योजना है, लेकिन ईएमयू ट्रेन के शेड का काम पूरा नहीें हो पाया है, जब ईएमयू ट्रेन के रखरखाव करने की व्यवस्था हो जायेगी, तब ईएमयू ट्रेन को चलाया जा सकेगा.

स्पेशल ट्रेन को नियमित चलाने का निर्णय बोर्ड स्तर पर

जबलपुर से पुणे सहित अन्य स्पेशल ट्रेनों को नियमित किये जाने के संबंध में जीएम श्री सिंह ने कहा कि यह निर्णय रेलवे बोर्ड का है, वह ही स्पेशल ट्रेन चलानेो का निर्णय लेता है, उसे नियमित करने का फैसला भी बोर्ड स्तर पर ही होगा, इसलिए जबलपुर-पुणे के नियमित होने का मामला भी बोर्ड के निर्णयों को अधीन है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।