नई दिल्ली. महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर अभी तक स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है. 50-50 फॉर्मूले पर अड़ी शिवसेना के रूख में अभी भी तल्खी बनी हुई है. बीजेपी व शिवसेना में सीएम पद को लेकर खींचतान के बीच शिवसेना नेता संजय राउत का बड़ा बयान आया है. राउत ने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा. राउत ने कहा कि उनकी पार्टी बीजेपी के बिना भी बहुमत जुटा सकती है. बीजेपी नेताओं पर हमला बोलते हुए शिवसेना सांसद ने कहा कि अहंकार में डूबा कोई भी आदमी या संगठन डूब जाता है.

एक महत्वपूर्ण बयान देते हुए राउत ने कहा कि कांग्रेस भी नहीं चाहेगी कि सत्ता बीजेपी को मिले.संजय राउत ने साथ ही कहा कि जनता शिवसेना का मुख्यमंत्री चाहती है. इससे पहले कांग्रेस विधायक ऋतुराज पाटिल शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मिलने कल देर रात उनके आवास मातोश्री पहुंचे थे. रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऋतुराज पाटिल रात करीब 12 बजे मातोश्री पहुंचे. दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात करीब 2 घंटे तक चली. मातोश्री से बाहर निकलने के बाद पाटिल ने मीडिया के सवालों का जवाब नहीं दिया और चुपचाप गाड़ी में बैठकर निकल गए. आपको बता दें कि ऋतुराज पाटिल महाराष्ट्र के बड़े नेताओं में शुमार डीवाई पाटिल के पोते हैं और उन्हें कांग्रेस की टिकट पर दक्षिण कोल्हापुर सीट से जीत मिली है.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के 24 अक्टूबर को आए नतीजों में बीजेपी 105 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी, वहीं उसकी सहयोगी को 56 सीटें मिली थीं. इस तरह बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने बहुमत का आंकड़ा आसानी से पार कर लिया है, लेकिन दोनों ही दलों के बीच सीएम की कुर्सी को लेकर खींचतान चल रही है. इन चुनावों में शरद पवार के नेतृत्व वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को 54 सीटें मिली थीं जबकि कांग्रेस को 44 सीटों से संतोष करना पड़ा था. इन चुनावों में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन और कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के बीच मुख्य मुकाबला था.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।