मुंबई. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस बुधवार को फिर से राज्य भाजपा विधायक दल के नेता चुने गए. इस बैठक में सभी 105 नवनिर्वाचित भाजपा विधायक उपस्थित थे. वहीं केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पार्टी उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में मौजूद थे. यह बैठक दक्षिण मुंबई के विधान भवन में हुयी. तोमर ने कहा कि विधायक दल की बैठक में किसी अन्य नाम का प्रस्ताव नहीं किया गया.

फड़णवीस ने पार्टी विधायकों को उन पर विश्वास करने और उन्हें राज्य की सेवा करने का एक और मौका देने के लिए धन्यवाद दिया. उन्होंने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को भी धन्यवाद दिया. यह बैठक 24 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद भाजपा और शिवसेना के बीच सत्ता में बराबर की हिस्सेदारी को लेकर टकराव की पृष्ठभूमि में हुई. शिवसेना को 288 सदस्यीय सदन में 56 सीटें मिली हैं जबकि राकांपा को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिलीं.

भाजपा-शिवसेना गठबंधन में मनमुटाव

महाराष्ट्र में चुनावी नतीजे आए एक हफ्ता बीतने को आ रहा है, लेकिन स्पष्ट बहुमत के बाद भी भाजपा-शिवसेना गठबंधन के मनमुटाव के बाद भी सरकार की तस्वीर साफ नहीं हो सकी है. इस बीच भारतीय जनता पार्टी ने अपने विधायक दल की बैठक बुलाकर देवेंद्र फड़णवीस को फिर से राज्य भाजपा विधायक दल का नेता चुन लिया. वहीं, अब शिवसेना के नवनिर्वाचित विधायक बृहस्पतिवार को विधायक दल का नेता चुनेंगे.

शिवसेना के एक नेता ने बुधवार को कहा कि इस संबंध में एक बैठक मध्य मुम्बई स्थित शिवसेना भवन में आयोजित होगी. उद्धव ठाकरे नीत शिवसेना की अगली सरकार में सत्ता बंटवारे को लेकर सहयोगी भाजपा के साथ 24 अक्टूबर से ही खींचतान चल रहा है, जब चुनाव परिणाम घोषित हुए थे. शिवसेना भाजपा के साथ समान अवधि के लिए मुख्यमंत्री पद की मांग कर रही है.

दो निर्दलीय विधायकों का शिवसेना को समर्थन

सूत्रों ने बताया कि दो निर्दलीय विधायकों मंजुला गावित (साकरी) और चंद्रकांत निंबा पाटिल (मुकतैननगर) ने बुधवार को ठाकरे से मुलाकात के बाद शिवसेना को समर्थन देने की घोषणा की. उल्लेखनीय है कि पाटिल ने हाल के चुनाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता एकनाथ खड़से की पुत्री रोहिणी खड़से को हराया है. शिवसेना ने चुनाव में 56 सीटें जीती हैं और अभी तक गावित और पाटिल सहित छह विधायकों का समर्थन हासिल कर चुकी है. इससे 288 सदस्यीय विधानसभा में उसकी संख्या बढ़कर 62 हो गई है.

50-50 फॉर्मूले पर वाकयुद्ध

विधानसभा चुनाव में 105 सीटें जीतने वाली भाजपा को कम से कम छह विधायकों का समर्थन हासिल हुआ है, जिसमें से अधिकतर पार्टी के बागी हैं जिन्होंने निर्दलीयों के तौर पर चुनाव लड़ा था. भाजपा और शिवसेना के बीच बारी-बारी से मुख्यमंत्री के मुद्दे पर वाकयुद्ध चल रहा है. बीजेपी की सहयोगी शिवसेना 50-50 के फॉर्मूले (50-50 Formula) पर अड़ी है. लेकिन, फडणवीस कह रहे हैं किमहाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन की ही सरकार बनेगी लेकिन किसी प्लान B पर काम नहीं हो रहा है. प्लान A ही फाइनल है.'

राउत ने कहा झूठ बोल रहे हैं फडणवीस

50-50 को लेकर फडणवीस के बयान पर शिवसेना के नेता संजय राउत ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि फडणवीस झूठ बोल रहे हैं. शाह-उद्धव के सामने कही बातों की याद दिलाई. इस बीच जनसुराज्य पार्टी के नेता और हाल ही में सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव में नव निर्वाचित विधायक डॉक्टर विनय कुमार कोरे ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की और समर्थन का भरोसा दिया.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।