सिओल. साउथ कोरिया में 75 साल की एक महिला ने बॉडी बिल्डिंग कॉम्पिटीशन में दूसरा स्थान हासिल कर सबको हैरत में डाल दिया, जबकि एक बीमारी की वजह से एक साल पहले तक उसके लिए ठीक से चल पाना भी मुश्किल था. इस महिला का नाम लिम जोंग सो है. इन्हें लंबे समय से बैकपेन की समस्या थी. 

डॉक्टरों ने जांच के बाद बताया था कि इन्हें स्पाइनल स्टेनोसिस की बीमारी है. इस बीमारी की वजह से इन्हें दाहिना पैर उठा पाने में भी बहुत दिक्कत होती थी. ट्रीटमेंट के दौरान डॉक्टरों ने उन्हें वेट ट्रेनिंग की सलाह दी. इसके बाद लिम जोंग ने जिम में जाना शुरू किया. वे हफ्ते में तीन दिन जिम जाने लगीं. इससे उन्हें दर्द में काफी आराम महसूस हुआ. वेट ट्रेनिंग से धीरे-धीरे उनका दर्द कम होता चला गया.

पर्सनल ट्रेनर ने कहा बॉडी बिल्डिंग के लिए

एक दिन जिम में उनके पर्सनल ट्रेनर ने कहा कि वह बॉडी बिल्डिंग क्यों नहीं शुरू करतीं. यह सुन कर लिम जोंग हैरत में पड़ गईं. उन्होंने अपने ट्रेनर से कहा कि क्या तुम नहीं जानते कि मेरी उम्र कितनी ज्यादा हो चुकी है और इस उम्र में यह कर पाना संभव नहीं. इसके बाद उनके पर्सनल ट्रेनर ने कहा कि वह कॉम्पिटीशन में हिस्सा लेने और जीतने के लिए उन्हें बॉडी बिल्डिंग करने को नहीं कह रहा, वे चाहें तो फन और एन्जॉयमेंट के लिए यह कर सकती हैं.

इसके बाद लिम जोंग ने बॉडी बिल्डिंग करना शुरू कर दिया. ट्रेनर के सहयोग से उन्हें इसमें काफी सफलता मिली. यहां तक कि उन्हें कॉम्पिटीशन में हिस्सा लेने का ऑफर तक मिलने लगा.

कॉम्पिटीशन में बिकिनी पहनना था जरूरी

लिम जोंग कॉम्पिटीशन में भाग लेना तो चाहती थीं, पर इसके लिए उन्हें बिकिनी पहननी होती. इसके साथ हाई हील के सैंडल भी पहनने होते. इस उम्र में यह पहनना उन्हें पसंद नहीं था, लेकिन उन्होंने कॉम्पिटीशन में भाग लेने का फैसला किया. बिकिनी और हाई हील में वे काफी नर्वस फील कर रही थीं. उन्हें शर्मिन्दगी भी महसूस हो रही थी. पहली बार कॉम्पिटीशन में उन्हें सफलता नहीं मिली.

दूसरी बार मिली सफलता

पहली बार असफलता मिलने के बावजूद लिम जोंग ने कोशिश नहीं छोड़ी. वह ट्रेनिंग में लगी रहीं. दूसरी बार सीनियर कैटेगरी कॉम्पिटीशन (38 साल और उससे ऊपर ) में बॉडी बिल्डिंग में लिम को दूसरा स्थान मिला. जब उन्हें मेडल दिया गया तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था. लिम ने कहा कि साउथ कोरियन सोसाइटी काफी खुली हुई है.

पहले भी वे शॉर्ट्स और पैंट पहनती थीं, पर बिकिनी पहनने का उनका यह पहला मौका था. उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं कि औरतें ये नहीं कर सकतीं, औरतें वो नहीं कर सकतीं, लेकिन मैं कहती हूं कि औरतें वो सब कुछ कर सकती हैं जो वे चाहती हैं. सबके अपने सपने होते हैं और उम्र ज्यादा हो जाने का मतलब यह नहीं कि आप अपने सपनों को पूरा नहीं कर सकें. उन्होंने कहा कि अगर किसी चुनौती को स्वीकार कर लिया जाए तो उम्र उसमें बाधा नहीं बन सकती.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।