नई दिल्ली. देश की बड़ी आईटी कंपनी इन्फोसिस को लेकर दो राहत की खबर आई है. पहले मामले में अमेरिकी एक्सपर्ट्स ने वित्तीय अनियमित्ता के आरोपों का गलत बताया है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि आंकड़ों से पता चलता है कि कोई गड़बड़ी नहीं हुई है. वहीं, दूसरी खबर कर्मचारियों के लिए खुशखबरी लेकर आई है. इन्फोसिस  अपने कर्मचारियों को इन्सेंटिव के तौर पर कंपनी के शेयर देगी. मिड लेवल कर्मचारियों को करीब 22 लाख शेयर दिए जाएंगे. आपको बता दें कि कंपनी ने यह प्रोग्राम कर्मचारियों को लंबे समय तक अपने साथ जोड़ने के लिए बनाया है.

कंपनी की ओर से जारी बयान के मुताबिक, कंपनी के बोर्ड ने एक्सपेंडेड स्टॉक ऑनरशिप प्रोग्राम 2019 को मंजूरी दे दी है. इन्फोसिस सीईओ सलिल पारेख को 10 करोड़ रुपए के शेयर इन्सेंटिव के तौर पर देने का फैसला भी पहले ही हो चुका है. वहीं, सीओओ यू बी प्रवीण राव को 4 करोड़ रुपए के शेयर दिए जाने का ऐलान हुआ था.

 इन्फोसिस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मिड लेवल के 6,949 कर्मचारियों को परफॉर्मेंस के आधार पर इन्सेंटिव के नए प्रोग्राम के तहत शेयर दिए जाएंगे. 1 नवंबर 2019 को सभी चुने गए कर्मचारियों को शेयर दे दीए जाएंगे. साल 2015 की योजना के मुताबिक इन्फोसिस समय के आधार पर शेयर देती थी लेकिन अब परफॉर्मेंस के आधार पर दिए जाएंगे. इन्फोसिस का कहना है कि कर्मचारी हमारी सबसे बड़ी संपत्ति हैं. स्टॉक ऑनरशिप प्रोग्राम के जरिए हम उन्हें कंपनी में हिस्सेदार बनाना चाहता हैं. उन्हें लंबी अवधि में कंपनी की सफलता से फायदा होगा.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।