प्रदीप द्विवेदी. हरियाणा में विधानसभा चुनाव संपन्न हो गए हैं. जैसे नतीजे आए हैं, वैसे नतीजों की उम्मीद तो बीजेपी ने की नहीं थी, लेकिन अब करें तो क्या करें? हरियाणा में त्रिशंकु विधानसभा का जनादेश आने से भाजपा को तगड़ा झटका लगा है, कहां तो सियासी अश्वमेघ यज्ञ की तैयारी थी और कहां सबसे बड़ी पार्टी होने के बाद भी भाजपा को सरकार बनाने लायक सीटें नहीं मिली हैं! मजेदार तथ्य यह है कि हरियाणा के राजनीतिक दंगल में दस में से आठ मंत्री ही चुनाव हार गए हैं? केवल कैबिनेट मंत्री अनिल विज और राज्य मंत्री डॉ. बनवारी लाल ही अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे हैं.

इतना ही नहीं, बीजेपी के प्रदेश प्रमुख सुभाष बराला भी चुनाव हार गए हैं. अलबत्ता, इनेलो से अलग होकर बनी पार्टी जजपा, बोले तो.... जननायक जनता पार्टी ने 10 सीटों पर कब्जा जमाया है और पार्टी नेता दुष्यंत चौटाला किंगमेकर की भूमिका में हैं. यह बात अलग है कि कभी सिद्धांतों के लिए पहचानी जाने वाली बीजेपी अब सत्ता की सियासी जोड़-तोड़ के लिए प्रसिद्ध है, लिहाजा कर्नाटक जैसा सियासी नाटक अब हरियाणा में भी चलता रहेगा!

हरियाणा चुनाव

 

*हरियाणा चुनाव का मजा लें राजेंद्र वर्मा खूबड़ू के धारदार व्यंग्यचित्र से....

हरियाणा चुनाव

 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।