प्राकृतिक सुंदरता, सफाई, झीलों और कई चीजों के लिए मशहूर मध्य प्रदेश की विशेषताएं अनोखी हैं. नवरात्रि के शुभ दिन चल रहे हैं. ऐसा में माना जाता है कि नवरात्र के दौरान मां के मंदिर में दर्शन करने से सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और मां भक्तों के दुखों का निवारण करती हैं. आज हम आपको मध्य प्रदेश के कुछ प्रमुख मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां बड़ी संख्या में भक्त मां के दर्शन करने आते हैं और माता का आशीर्वाद लेकर खुशी-खुशी जाते हैं. इन मंदिरों की काफी मान्यताएं हैं.

उज्जैन का हरसिद्धि दुर्गा मंदिर प्रसिद्ध राजा विक्रमादित्य द्वारा बनाया गया है. मंदिर में दो अद्वितीय देवदार के आकार के लोहे के दीपक हैं. पवित्र मंदिर महाकाल की भूमि के प्रमुख आकर्षण में से एक है. प्राचीन शहर क्षिप्रा नदी के पूर्वी तट पर स्थित है.

शहर के मध्य में स्थित देवी वैशिनी पहाड़ी, जिसे आमतौर पर टेकरी मंदिर के नाम से जाना जाता है, देवी तुलजा भवानी चामुंडा माता और देवी कालिका माता का मंदिर है. मुख्य रूप से देवी के दो तीर्थस्थल हैं जिन्हें छोटी माता (चामुंडा माता) और बड़ी माता (तुलजा भवानी माता) कहा जाता है.

रतनगढ़ माता मंदिर इस गांव में एक लोकप्रिय दुर्गा मंदिर है, जो दतिया क्षेत्र से लगभग 60 किमी दूर स्थित है. मंदिर सिंध नदी के तट पर स्थित है और सड़क पुल से जुड़ा हुआ है.

सलकनपुर का बिजासन माता मंदिर मध्य प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन आकर्षण है, जिसे मध्यप्रदेश पर्यटन ने भी बढ़ावा दिया है . ये मंदिर भोपाल से 70 किमी की दूर सीहोर जिले में स्थित है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।