Google ने अपना आज का Doodle जाने-मानें मनोचिकित्सक डॉ. हरबर्ट क्लेबर को समर्पित किया है. क्लेबर ने अपने जीवनकाल में लोगों को नशे की लत की छुटकारा दिलाने की दिशा में भी काफी काम किया है. इसे उनकी एक उपलब्धि के तौर पर देखा जाता है. गूगल ने आज का डूडल डॉ. क्लेबर के नैशनल अकैडमी ऑफ मेडिसिन में चुने जाने की 23वीं सालगिरह पर बनाया है.

आज के डूडल को मैसाच्युसेट्स के डूडल आर्टिस्ट जैरेट जे. ने बनाया है. इस डूडल में डॉ क्लेबर को मरीज के साथ बैठे दिखाया गया है. यहां वह मरीज की परेशानी को सुनते हुए नोटपैड में कुछ लिखते दिखाए गए हैं. वहीं, मरीज को भी इस डूडल में नशे की लत से बाहर निकलते दिखाया गया है.

डॉ क्लेबर का जन्म 19 जून 1934 को पेनसिलवैनिया के पिट्सबर्घ में हुआ था. साल 1964 में उन्होंने अपनी यूनाइटेड प्बलिक हेल्थ सर्विस को अपनी सेवाएं दी थीं. यहां उनकी ड्यूटी केन्टकी के लेग्जिंग्टन के एक कैदियों के अस्पताल में लगी थी जहां कैदियों को नशे की लत से बाहर निकाला जाता था. इलाज के साथ ही क्लेबर यह जानने की भी कोशिश करते थे कि आखिर किसी व्यक्ति को नशे की लत क्यों लग जाती है.

साल 1968 से साल 1989 तक वे Yale University के ड्रग डिपेंडेंस यूनिट के हेड भी रहे. अमेरिकी प्रेजिडेंट George HW Bush ने उनके काम को काफी सराहा और उन्हें नैशनल ड्रग कंट्रोल पॉलिसी के ऑफिस में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर नियुक्त किया था.

डॉ क्लेबर को अमेरिका के सबसे बेस्ट मनोचिकित्सक के तौर पर जाना जाता है. उन्हें उनके काम के लिए कई बार सम्मानित किया जा चुका है. डॉ क्लेबर का निधन पिछले साल 5 अक्टूबर को हुआ. अपने 84 साल के जीवनकाल में डॉ क्लेबर नशे की लत के ऊपर 250 से ज्यादा किताबें लिखीं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।