टाइप टू डायबिटीज से दुनिया भर में लाखों लोग पीड़ित हैं और ये डायबिटीज ज्यादा खतरनाक होती है, लेकिन यदि सही खानपान और एक्सरसाइज रुटीन का रोज फॉलो किया जाए तो इस बीमारी को कंट्रोल में रखा जा सकता है. कई बार लोगों को ये लगता है कि खाने के कारण ही उनका ब्लडशुगर बढ़ता है और ऐसा सोच कर वह अपना खाना बार-बार स्किप करने लगते हैं, लेकिन ऐसा करके वह यह नहीं जानते कि इससे उनका बल्ड शुगर कम की जगह बढ़ने लगता है. इसलिए आपको यह जानना जरूरी है कि यदि आप बार-बार खाना स्किप करते हैं इसका आपके टाइप टू डायबिटीज पर क्या असर पड़ता है.

डायबिटीज कंट्रोल करने को लेकर इंटरनेट पर एक नहीं तमाम विकल्प या उपाय दिए रहते हैं. डायबिटीक को खुद से कैसे कंट्रोल किया जाए इसका अनेक परिणाम देखने को मिलता है. इस में से एक होता है खाने को स्किप करना भी. डायबिटीज को लेकर कई मिथक इंटरनेट पर मौजूद हैं और इन मिथक की सच्चाई को समझ कर इनसे दूरी बनाना जरूरी है. इस मिथक के कारण लोग खाना स्किप करते हैं कि इससे उनका ब्लडशुगर कम होगा, जबकि यह बिलकुल गलत है.

खाना छोड़ना डायबिटीज कंट्रोल करने का एक सही तरीका नहीं है. चाहे आपको डायबिटीज हो या न हो आपको खाना स्किप करना कई समस्याओं को जन्म दे सकता है. ऐसा करके आप कमजोरी, थकान और अल्पपोषण के शिकार होने लगते हैं. इतना ही नहीं कुछ बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है.

जब आपका शरीर उपवास मोड में होता है तो नींद के कारण या क्योंकि आप खाना नहीं खा रहे होते इसलिए शरीर को अतिरिक्त उर्जा की जरूरत होती है. यह कमी शरीर लिवर द्वारा सेक्रीट होने वाले ग्लुकोज से पूरा करता है. टाइप टू डायबिटीज में जब आप ये सोच कर खाना छोड़ देते हैं कि आपका इससे ब्लडशुगर कम होगा तब लिवर से ग्लूकोज ज्यादा प्रोड्यूज होने लगता है. इसके पीछे यही वजह होती है कि लिवर को यह महसूस नहीं होता कि ब्लड में पहले से शकर्रा और उर्जा के लिए ग्लूकोज मौजूद है. लिवर खान न मिलने पर दोगुना ग्लूकोज प्रोड्यूज करता है.

डायबिटीज की दवा के साथ अगर आप खाना स्किप करते हैं तो इससे कंबाइंड ब्लड में शर्करा का असंतुलन हो सकता है और हाइपोग्लाइसीमिया या लो ब्लडशुगर की दिक्कत सामने आ सकती है. डायबिटीज के लिए दवा में इंसुलिन शॉट्स, पंप या दवाएं शामिल होती हैं जो शरीर द्वारा उत्पादित इंसुलिन के उत्पादन और उपयोग को उत्तेजित करती हैं. जब ये

दवाएं अपना काम करती हैं, तो आपका ब्लड शुगर का स्तर सामान्य हो जाता है. इसलिए जब आप भोजन करना छोड़ देते हैं तो आपके ब्लड शुगर का स्तर बहुत कम हो सकता है. लो ब्लड शुगर का स्तर आपके वर्कआउट रुटीन में हस्तक्षेप करने लगते हैं जो डायबिटीज के सेल्फ-मैनेजमेंट का प्रमुख घटक है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।