नजरिया. लगातार हार के बावजूद बिहार में उप-चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर महागठबंधन एकजुट होने के बजाय बिखराव की राह पर है? हालांकि, बिखराव की खबरों के बीच राजद नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने बड़ा बयान दिया है कि- एनडीए को हराने के लिए अभी एक ही विकल्प है कि जितनी भी छोटी पार्टियां हैं वो राजद में विलय कर लें? जब तक हम मजबूत नहीं होंगे एनडीए को नहीं हरा सकेंगे! बिगड़ी बात बनाने के नजरिए से सिंह ने कहा है कि- हमलोग सभी महागठबंधन में हैं और आगे भी रहेंगे.

उनका तो यह भी कहना था कि कोई दो-चार सीट पर जीतकर क्या सरकार बना लेगा? अभी बिगड़ा नहीं हैं, बात होगी और सब कुछ ठीक हो जाएगा? यही नहीं, राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने भी कहा कि- कांग्रेस राजद का नैसर्गिक साथी है. कुछ नेता भले ही कुछ कह रहे हों, परंतु दोनों दलों के नेता साथ ही चुनाव में उतरेंगे! बहरहाल, बिहार में उपचुनाव से पहले अजीब सियासी तस्वीर उभर रही है.

महागठबंधन, जिसे अभी एकजुट होने की जरूरत है, बिखराव की ओर बढ़ रहा है और यदि यही हाल रहा तो उप-चुनाव में तो कुछ नहीं मिलना है, आगे आने वाले विधानसभा चुनाव में भी महागठबंधन की एकता पर प्रश्नचिन्ह लग जाएगा? यदि महागठबंधन में ऐसे ही विवाद चलते रहे तो आपसी विश्वास तो दूर, जनता का भरोसा भी उठ जाएगा!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।