खबरंदाजी. पीएम नरेन्द्र मोदी को गरीबों के वोट चाहिएं और अमीरों से चुनावी चंदे के नोट चाहिएं, क्योंकि मिडिल क्लास न तो वोट बैंक बन सकता है और न ही नोट बैंक बन सकता है, लिहाजा.... थैंक्यू, मिडिल क्लास!

पीएम मोदी सरकार गरीबों के लिए एक अच्छा काम कर रही है कि उसके लिए मिडिल क्लास में प्रवेश के सारे रास्ते खोल दिए हैं, इतनी योजनाएं हैं कि घर बैठे मिडिल क्लास में आ जाएंगे, लेकिन मिडिल क्लास के लिए अमीर बनने के सारे रास्ते बंद होते जा रहे हैं?

पीएम मोदी सरकार की आर्थिक नीति एकदम साफ है- गरीबों की योजनाओं के लिए मध्यम वर्ग- टैक्स, पेट्रोल, मोटर व्हीकल एक्ट आदि के माध्यम से सरकार के लिए त्याग करेगा, तो अमीर, पार्टी फंड के लिए समर्पित रहेंगे! मंदी कहां बचेगी?

कांग्रेस बेवजह परेशान है कि.... कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती से होने वाले हजारों करोड़ के नुकसान की भरपाई के लिए कहीं मध्यम वर्ग को तो निशाना नहीं बनाया जाएगा! आखिर सरकार स्पष्ट करे कि इसकी भरपाई कहां से होगी?

अरे भाई, राज्यों के चुनाव खाली जेब कैसे लड़ेंगे? अमीरों को कुछ फायदा होगा तभी तो चुनाव में दान-पुण्य का कुछ काम कर पाएंगे!

वैसे भी कांग्रेस बगैर सोचे समझे पीएम मोदी का विरोध करती रही है? वे तो कांग्रेस की नीतियों पर ही आगे बढ़ रहे हैं! वे जब से सत्ता में आए हैं, केवल महात्मा गांधी का ही समर्थन कर रहे हैं, बल्कि कोई साध्वी गांधीजी के खिलाफ बोल दे तो वे उससे मन से नाराज हो जाते हैं?
कोई बता सकता है कि स्वदेशी आंदोलन आजकल कहां है? शायद, गुजरात में झूला झूल रहा है!

पीएम मोदी के कार्यकाल में चीन के सामान के बहिष्कार के नारों के बीच हमने भी उन्हें झूला झुलाया था? कारण स्पष्ट है... देशभक्ति अपनी जगह, चीन-भारत व्यापार अपनी जगह!

जो काम पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी नहीं कर पाई, वह काम पीएम मोदी ने कर दिखाया? वर्ष 2014 से पहले पाकिस्तान विश्व की महाशक्ति था, जिसे पीएम मोदी की सरकार ने ढेर कर दिया! किसी और के शिकार के साथ बहादुर शिकारी की तरह फोटो खिंचवाने का भी अलग आनंद है?

पीएम मोदी के आने से कांग्रेसी नेताओं का क्या नुकसान हुआ? वर्ष 2014 से पहले बीजेपी के पास एक दर्जन से ज्यादा राष्ट्रीय नेता थे, आज कितने हैं? वर्ष 2014 से पहले लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, वसुंधरा राजे, शिवराज सिंह चौहान जैसे मूल बीजेपी नेताओं का सियासी ग्राफ तब कहां था और आज कहां है? तब, राहुल गांधी का सियासी ग्राफ कहां था? आज वे पीएम पद के लिए सियासी चर्चाओं में तो हैं! बताओ, पीएम मोदी के आने से क्या नुकसान हुआ कांग्रेस का?

राम मंदिर के मामले में भी पीएम मोदी ने साफ कर दिया है कि अदालत पर ही वे भरोसा करते हैं, कांग्रेस भी तो यही कह रही है!

केन्द्र सरकार का मानना है कि.... आज के मिडिल क्लास युवाओं में योग्यता का अभाव है, इसलिए नौकरियां नहीं मिल रही हैं? यदि भ्रमित मिडिल क्लास युवा नौकरियों के बजाए पकौड़ा रोजगार पर ध्यान दें तो बेरोजगारी से मुक्ति के साथ-साथ नौकरी से भी ज्यादा लाभ ले सकते हैं!

सियासी सयानों का मानना है कि.... हर गलती कीमत मांगती है, लिहाजा 2019 की गलती की कीमत चुकाइए और सियासी भड़ास निकालने का आनंद लीजिए! वर्ष 2024 में देखेंगे कि नाराज मिडिल क्लास को कैसे मनाया जाए?

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।