आजकल आप उखड़े-उखड़े रहते हैं. दिन भर आपको चिड़चिड़ापन घेरे रहता है और हर बात में आपको गुस्सा आता है तो सावधान हो जाएं. हो सकता है ऐसा आपके सोने के नियम की वजह से हो. कई बार सोने और जागने का एक नियम न होने की वजह से लोगों को मूड स्विंग के साथ ही और भी शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

कुछ दिनों पहले हुए शोध में इस बात का पता चला है कि रात में कम सोने वाले लोग किसी भी बात पर बहुत जल्दी परेशान होने लगते हैं. इसके साथ ही इस तरह के लोगों में तनाव और डिप्रेशन की समस्या भी हो जाती है.

बहुत से लोग जो अनिद्रा के शिकार होते हैं वो सीधे तौर पर डिप्रेशन से घिरे होते हैं. लेकिन डिप्रेशन के शिकार लगभग 15 प्रतिशत लोग बहुत ज्यादा सोते हैं. जिसकी वजह से भी उनकी मानसिक सेहत पर असर पड़ता है. 

अगर आपको ऐसा लगता है कि आपका शरीर पहले की तुलना में कुछ ज्यादा कमजोर या फिर सेंसेटिव हो गया है तो जरूरत है कि आप अपने सोने के तरीकों पर गौर करें. बहुत बार लगातार लंबे समय तक कम सोने की वजह से शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता पर असर पड़ता है जिससे शरीर संवेदनशील हो जाता है.

अगर आप इस भ्रम में रहते हैं कि रात में नींद नहीं पूरी होगी तो दिन में सो लेंगे, तो यह गलत है. क्योंकि ऐसा करने से शरीर का बायोलॉजिकल क्लॉक बिगड़ जाता है क्योंकि वह दिन और रात के हिसाब से प्राकृतिक तौर पर निर्धारित रहता है. जब आप रात में पूरी नींद नहीं लेते हैं तो इसका स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।