पलपल संवाददाता, जबलपुर. एमपी में भाजपा के शासनकाल (शिवराज) के दौरान करोंड़ों रुपए का कोयला घोटाला सामने आया है, यह पूरा मामला सीसीआई (काम्पटीशिन कमीशन ऑफ इंडिया) की रिपोर्ट से उजागर हुआ है. यह किसी भी प्रकार के आडिट में पकड़ा जा सकने वाला घोटाला है. 10 साल की इस अवधि में कोयला सप्लाई के 19 बार टेंडर हुए और हर बार  एक ही कंपनी मेसर्स नायर कोल सर्विसेस लिमिटेड को ही मिला, किसी भी दूसरी कंपनी को यह ठेका नहीं मिला. 

4 कंपनियां की मिलीभगत की बात सामने आयी

इस साल 26 हजार मिलियन यूनिट बिजली बनाने वाली एमपी पॉवर मैनेजमेंट कंपनी प्रदेशवासियों को 24 घंटे बिजली देने के सरकार के दावे को मुकम्मल करने की दिशा में काम कर रही है. इस साल 206 लाख यानी 2 करोड़ 6 लाख मिट्रिक टन कोयले के दम पर कंपनी ने इस मुकाम को हासिल किया है. जो कोयला प्रदेश को अर्से से पॉवर दे रहा है, उसी कोयले के नाम पर कई अरबों की काली कमाई कर पैसे भी बनाए गए. जांच रिपोर्ट के मुताबिक इन कंपनियों ने आपसी सहमति के आधार पर बिड प्राइस कम ज्यादा किए.

भारतीय प्रतिस्पर्धा जांच आयोग की रिपोर्ट में खुलासा

 भारतीय प्रतिस्पर्धा जांच आयोग की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि मध्य प्रदेश में एक ही कंपनी ने लगने वाली बोली में हेराफेरी कर 10 साल में 19 बार कोयले के लाइज़निंग टेंडर हासिल किए. आयोग की जांच के मुताबिक, नायर कोल सर्विसेस लिमिटेड को 2004 से 2014 तक 19 बार कोयले की लाइज़निंग के टेंडर मिले और हर बार सबसे कम बिड नायर कोल सर्विसेस लिमिटेड को ही मिली. जांच रिपोर्ट में इस बात की प्रबल संभावना जताई गई कि कोल सप्लाई स्कैम के इस खेल में बिजली महकमे के अधिकारी भी शामिल रहे होंगे.

कोल सप्लाई स्कैम के इस खेल में शामिल कंपनियां 

- मेसर्स नायर कोल सर्विसेस लिमिटेड

- मेसर्स करम चंद थापर एंड ब्रदर्स

- मेसर्स नरेश कुमार एण्ड कंपनी प्राईवेट लिमिटेड

- मेसर्स अग्रवाल एण्ड एसोसिएट्स

- हर बार यही कंपनियां बिड में भाग लेती रहीं लेकिन ठेका नायर कंपनी को ही मिला.

- भारतीय प्रतिस्पर्धा जांच आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक इन कंपनियों के बीच कुछ ई मेल भी मिले हैं, जो इस बात को बताते हैं कि कंपनियों ने आपसी सहमति के आधार पर बिड प्राइस कम और ज्यादा किए.

- आंकड़ों के मुताबिक साल 2002-2003 में एक करोड़ 15 लाख 685 मिट्रिक टन कोयला पॉवर जनरेटिंग कंपनी को सप्लाई हुआ, जबकि 2009-2010 में ये आंकड़ा बढ़कर 1 करोड़ 21 लाख 67 हज़ार मिट्रिक टन हो गया. फिलहाल 2 करोड़ मिट्रिक टन से ज्यादा कोयले की डिमांड को पूरा किया गया है.

विजली अफसरों की मिलीभगत

भाजपा शासन में हुए इस पूरे घोटाला मामले में पूर्व कैबिनेट मंत्री  व विधायक अजय बिश्नोई इस बात को कह रहे हैं कि इसमें किसी सरकार का कोई दोष नहीं है. इस तकनीकी बात को पकडऩा किसी मंत्री के बस का नहीं है. बिजली महकमे के अधिकारी मिलजुलकर इस खेल को खेलते रहे. भारतीय प्रतिस्पर्धा जांच आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक कोयले की लाइज़निंग के लिए ये कंपनियां पूरे देश में यही काम कर रही हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।