लखनऊ. जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के समर्थन करने वाली बीएसपी नेता मायावती ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के कश्मीर पर सवाल उठाए है. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा है कि विपक्षी नेताओं को कश्मीर जाने से पहले सोचना चाहिए था. मायावती ने कहा है कि जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य होने में अभी थोड़ा समय लगेगा. उन्होंने कहा कि इसके लिए थोड़ा इंतजार किया जाए तो बेहतर होगा. मायावती ने कहा है कि विपक्ष का बिना अनुमति के वहां जाना केंद्र और राज्य को राजनीति करने का अवसर देने जैसा है. मायावती ने सोमवार (26 अगस्त) को एक के बाद एक तीन ट्वीट कर करके राहुल गांधी के नेतृत्व में विपक्षी नेताओं के जम्मू कश्मीर जाने पर सवाल उठाए हैं.

मायावती ने अपने पहले ट्वीट में लिखा, 'जैसाकि विदित है कि बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर हमेशा ही देश की समानता, एकता व अखण्डता के पक्षधर रहे हैं इसलिए वे जम्मू-कश्मीर राज्य में अलग से धारा 370 का प्रावधान करने के कतई भी पक्ष में नहीं थे. इसी खास वजह से बीएसपी ने संसद में इस धारा को हटाये जाने का समर्थन किया

लेकिन देश में संविधान लागू होने के लगभग 69 वर्षों के उपरान्त इस धारा 370 की समाप्ति के बाद अब वहां पर हालात सामान्य होने में थोड़ा समय अवश्य ही लगेगा. इसका थोड़ा इंतजार किया जाए तो बेहतर है, जिसको माननीय कोर्ट ने भी माना है.'

मायवती ने आगे कहा, 'ऐसे में अभी हाल ही में बिना अनुमति के कांग्रेस व अन्य पार्टियों के नेताओं का कश्मीर जाना क्या केन्द्र व वहां के गवर्नर को राजनीति करने का मौका देने जैसा इनका यह कदम नहीं है? वहां पर जाने से पहले इस पर भी थोड़ा विचार कर लिया जाता, तो यह उचित होता.'

गौरतलब है कि जम्‍मू और कश्‍मीर से मोदी सरकार की ओर से हटाए गए अनुच्‍छेद 370 के बाद वहां के हालात जानने के लिए विपक्षी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल राहुल गांधी के साथ शनिवार (24 अगस्त) को श्रीनगर पहुंचा था. लेकिन उन्‍हें श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने दिया गया. उन्‍हें 11 अन्‍य विपक्षी नेताओं के प्रतिनिधिमंडल के साथ वापस दिल्‍ली भेज दिया गया था.

राहुल गांधी के साथ श्रीनगर पहुंचने वाले विपक्षी नेताओं के प्रतिनिधिमंडल में डी राजा, शरद यादव, माजिद मेमन और मनोज झा भी शामिल थे. सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी और अन्‍य कांग्रेसी नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर निकलने की अनुमति नहीं थी. जम्‍मू और कश्‍मीर प्रशासन ने राहुल गांधी के दौरे पर आपत्ति जताई है. प्रशासन का कहना है कि हम लोगों को आतंकवाद से बचाने में जुटे हैं. नेताओं के दौरे से जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों को परेशानी होगी.

वहीं लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर तंज कसा है. अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि सत्यपाल मलिक को जम्मू कश्मीर बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष बना देना चाहिए. कांग्रेस नेता ने कहा कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल बीजेपी नेता की व्यवहार तरह कर रहे हैं.

कांग्रेस नेता ने कहा, 'जम्मू कश्मीर में अगर सबकुछ सही है जो विपक्षी नेताओं को जाने क्यों नहीं दिया जा रहा है. राहुल गांधी को भी बुलाकर जाने नहीं दिया गया. राज्यपाल की कथनी और करनी में अंतर है.'

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद राहुल गांधी द्वारा राज्य की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए जाने के पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने उन्हें जम्मू कश्मीर आने का न्योता दिया था. जिसे राहुल गांधी ने स्वीकार करते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक से आने के दिन और समय के बारे में पूछा था.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।