पलपल संवाददाता, जबलपुर. इंदौर से जबलपुर आने वाली ओवरनाइट एक्सप्रेस में आरपीएफ के डीआईजी पर छेडख़ानी के मामले में एक नया खुलासा हुआ है, इस ट्रेन में जिस युवक के चलते विवाद हुआ था, वह युवक मयंक कुमार सिंह था, वह किसी अजीत कुमार नामक यात्री की टिकट पर यात्रा कर रहा था, वहीं अजीत दिल्ली में था, उसे जबलपुर बुलाया गया, जो 16 जुलाई मंगलवार की शाम को जबलपुर पहुंच गया, उससे आरपीएफ अधिकारियों द्वारा पूछताछ किये जाने की खबर है. 

इस घटना की खास बात यह है कि अभी तक पमरे के जबलपुर रेल मंडल के एक सीनियर अधिकाारी की धर्मपत्नी द्वारा आरपीएफ डीआईजी विजय खातरकर पर सोमवार 15 जुलाई की तड़के ओवरनाइट एक्सप्रेस के ए-1 कोच में छेडख़ानी का आरोप लगाया गया था, उस घटनाक्रम की तह तक जाने का प्रयास आरपीएफ अपने स्तर पर कर रही है और पल-पल की खबर आरपीएफ मुख्यालय दिल्ली भेजी जा रही है.

अजीत के नाम पर टिकट, मयंक कर रहा था यात्रा

इस जांच में इस बात का पता लगा है कि 17 नंबर बर्थ सीट किसी अजीत कुमार के नाम पर आवंटित हुई थी और उसकी टिकट एचओ कोटा से भोपाल से कन्फर्म की गई थी, जांच में पता चला कि अजीत तो यात्रा नहीं कर रहा था, उससे संपर्क करने पर वह दिल्ली में होना बताया, जिसे जबलपुर बुलाया गया है, जबलपुर पहुंचने पर उससे जानकारी ली गई है, वहीं इस बात का आरपीएफ ने पता लगा लिया है कि अजीत के नाम पर जो युवक यात्रा कर रहा था, उसका नाम मयंक सिंह रजक है और जबलपुर के सिविल लाइन क्षेत्र में रहकर ठेकेदारी करता है और उसका संपर्क सीनियर अधिकारी के परिवार से रहा है. चर्चा इस बात को लेकर हो रही है कि जब युवक ट्रेन में था तो इस घटना  के बाद वह अचानक जबलपुर की बजाय मदन महल स्टेशन में क्यों उतर गया और वह दूसरे की टिकट पर यात्रा क्यों और किसके कहने पर कर रहा था.

दिल्ली भेजी जा रही रिपोर्ट

सूत्रों के मुताबिक छेडख़ानी के मामले में रेल अफसर की पत्नी द्वारा आरपीएफ के डीआईजी पर जो गंभीर आरोप लगाये गये थे, उसकी गूंज दिल्ली तक हुई है. तमाम ऑनलाइन न्यूज पोर्टल, टीवी चैनलों, समाचार पत्रों में इस घटना को प्रमुखता से प्रचारित व प्रसारित किया गया, जो रेलवे की छवि के प्रतिकूल रहा, जिस पर आरपीएफ डीजी ने इस घटना की आंतरिक जांच कराकर उसकी रिपोर्ट दिल्ली तलब की है. अभी तक आरपीएफ ने जो तथ्य जुटाए हैं, उसकी पलपल की जानकारी दिल्ली भेजी जा रही है. सूत्रों की माने तो इस मामले में शीघ्र ही आरपीएफ कोई बड़ा खुलासा कर सकती है, जो रेलवे के परिचालन अधिकारी व उसके परिवार की छवि के प्रतिकूल हो सकती है. हालांकि इस मामले की एफआईआर जीआरपी ने दर्ज कर अपनी जांच शुरू कर दी है, उसमें भी अजीत कुमार व मयंक सिंह के बयान प्रमुख भूमिका अदा करेंगे.

मयंक के फोन, वाट्सएप ने खोले कई राज

सूत्रों  के मुताबिक आरपीएफ ने मयंक सिंह राजपूत का पता लगाया और उससे पूछताछ की. बताया जाता है कि मयंक के मोबाइल फोन ने कई राज का खुलासा किया है, साथ ही वाट्सएप उसकी लगातार चैटिंग ने पूरे मामले के रहस्य से पर्दा उजागर कर दिया है. हालांकि आरपीएफ अधिकारी अभी इस मामले में कुछ कहने से बच रहे हैं, लेकिन माना जा रहा है कि अपने वरिष्ठ अधिकारी पर जो गंभीर आरोप लगाये हैं, उस घटना का दूध का दूध और पानी का पानी करने का निर्णय उच्च स्तर पर लिया जा चुका है और शीघ्र ही मयंक सिंह रजक से ही इसका खुलासा किये जाने की चर्चा है.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।