सेक्शन 498A IPC पति या उसके सम्बन्धी द्वारा की जाने वाली किसी भी ज़्यादती से समबन्धित है ऐसे में इस सेक्शन के तहत अपराधी तो अधिकतम तीन साल तक की सजा हो सकती है और उस पर साथ ही साथ आर्थिक दंड लगाने का भी प्रावधान है 

FIR दर्ज न होने की स्थिति में आप Section 154(3) Cr.P.C के अंतर्गत SHO के पास अपनी कंप्लेंट ले जा सकती हैं और वह अपनी स्थिति बता सकती हैं इसके साथ साथ आप Superintendent of Police के पास भी गुहार लगा सकती हैं जो की उस ज़िले से सम्बंधित हो, ऐसे में यदि SP आपकी दलील से संतुष्ट होता है तो वो या तो खुद या अपने किसी सबोर्डिनेट से इस केस की तहकीकात कर सकता है 

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।