खसरा क्या है?

मयूबेलेस भी रुबोला के रूप में जाना जाता है और एक प्रकार का वायरल संक्रमण है जो श्वसन प्रणाली को प्रभावित करता है. एक संक्रामक स्थिति, यह बीमारी फैलती है जब कोई व्यक्ति किसी भी संक्रमित लार या श्लेष्म के संपर्क में आता है. यह इस अर्थ में भी वायुमंडल है कि एक संक्रमित व्यक्ति हवा में वायरस को छींक या खांसी छोड़ सकता है.

कारण और जोखिम कारक

खसरा विषाणु कई घंटों तक सतह पर रहने में सक्षम होता है, जिससे संक्रमित कण हवा में रहते हैं और इसके आसपास के किसी भी व्यक्ति को इसके आसपास संक्रमित हो सकता है. संक्रमित व्यक्ति के साथ चम्मच, तौलिए, ब्रश इत्यादि जैसे बर्तन साझा करना संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. अध्ययनों से पता चला है कि विश्व भर में बच्चों के बीच खसरा मौत का मुख्य कारण था. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बताया कि पीड़ितों में से ज्यादातर पीड़ित 5 साल से कम आयु के बच्चे थे. यह रोग ज्यादातर अनचाहे बच्चों में पाया जाता है.

कुछ माता-पिता के पास गलत धारणा है कि टीकाकरण से उनके बच्चों में कुछ दुष्प्रभाव पैदा हो सकते हैं. यह पूरी तरह से सच नहीं है. केवल सबसे दुर्लभ मामलों में टीका बहरापन, मस्तिष्क क्षति, कोमा, बहरापन और आत्मकेंद्रित विशेषताओं के कारण पाया गया है.

जिन बच्चों में उनके आहार में विटामिन ए की कमी है, वे खसरे के जोखिम में हैं

खसरा का निदान और उपचार

एक अनुभवी डॉक्टर आपकी त्वचा पर चकत्ते की जांच करके और बीमारी के लक्षणों की जांच करके मामले को बताने में सक्षम होगा जैसे मुंह, खांसी और गले के आसपास के सफेद धब्बे. आगे की पुष्टि के लिए एक रक्त परीक्षण आयोजित किया जा सकता है. ऐसे में खसरा के इलाज के लिए कोई पर्ची दवा नहीं है. वायरस के लक्षण दो या तीन सप्ताह के भीतर दिखाई देते हैं. डॉक्टर लक्षणों को कम करने और अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली में मदद करने के लिए दवाएं और पूरक लिख सकते हैं.

खसरे के आसपास की जटिलता

एक खसरा टीका प्रशासित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर इलाज नहीं किया जाता है तो स्थिति घातक प्रतिक्रियाओं का कारण बन सकती है. एसोसिएटेड जटिलताओं में कान संक्रमण, ब्रोंकाइटिस, गर्भपात, अंधापन, दस्त और रक्त प्लेटलेट्स में कमी शामिल है.

लक्षण

कान में दर्द और सूजन

त्वचा पर लाल चकत्ते और लाल धब्बे

खाँसी

सूजी हुई आंखें

छींक आना

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।