नई दिल्ली. बलूचिस्तान में पाकिस्तान आर्मी के अत्याचारों के खिलाफ और बलूचिस्तान की आजादी के लिए यूं तो दुनियाभर में प्रदर्शन होते ही रहते हैं लेकिन शनिवार लीड्स में अफगानिस्तान-पाकिस्तान मुकाबले के दौरान हेडिंग्ले क्रिकेट ग्राउंड के ऊपर एक छोटे एयरक्राफ्ट की उड़ान ने दुनिया की ताकतों का ध्यान खींचने को मजबूर कर दिया है. इस एयरक्राफ्ट की टेल में एक बैनर बंधा लहरा रहा था. जिस पर लाल काले शब्दों में 'जस्टिस फॉर बलूचिस्तान' और 'हेल्प एंड डिसअपिएरेंसेस इन पाकिस्तान' लिखा था. पाकिस्तान सरकार के खिलाफ बलूचिस्तान का यह विरोध प्रदर्शन अब तक का सबसे अलग तरीके का प्रदर्शन है.

इस प्रदर्शन से ब्रिटिश सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों की पोल खोल दी है. बलूचिस्तानियों का कहना है कि पाकिस्तान में आर्मी ने प्रेस और मीडिया पर कथित तौर पर सेंसरशिप लगा रखी है. मीडिया में सिर्फ वही और उतनी खबरें ही आती हैं जितनी आर्मी को पसंद होती है. बलूचिस्तान, सिंध और पख्तूख्वाह में हो रहे कत्लेआम और औरतों पर जुल्म की खबरें पाकिस्तानी अखबारों या टेलीवीजन का हिस्सा नहीं बनतीं. यही कारण है शायद बलूचिस्तान समर्थकों ने आसमान में बैनर लहराकर अपने ऊपर हो रहे अत्याचारों से न केवल दुनिया को बल्कि पाकिस्तान में रहने वाली आवाम को भी आगाह कराया है.

क्योंकि इस मैच को अधिकांश पाकिस्तानी आवाम देख रही थी.आज की इस घटना का लब्बोलुवाब यह है कि बलूचिस्तान समर्थक तो अपने मकसद में सौ फीसदी कामयाब हो गये. लेकिन ब्रिटेन की सुरक्षा एजेंसियां फेल हो गयीं. ब्रिटेन की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कुछ लोगों ने कहा है कि ये तो बलूचिस्तानी समर्थक थे जिन्होंने जो लाइट एयरक्राफ्ट में बैनर बांध कर मैदान के ऊपर सिर्फ बैनर ही लहराया है. अगर कोई आतंकवादी संगठन होता तो वो किसी अनहोनी घटना का अंजाम भी दे सकता था.

ध्यान रहे, खेल आतंकवादियों के निशाने पर पहले से रहे हैं. ऐसा लग रहा है कि ब्रिटिश खुफिया एजेंसियां सितंबर 1972 में म्यूनिख ओलंपिक की घटना, मार्च 2009 लाहौर में कद्दाफी स्टेडियम पाकिस्तान में श्रीलंका की क्रिकेट टीम पर आतंकी हमला और मई 2002 में कराची में न्यूजीलैण्ड की टीम के होटल के बाहर आतंकी हमले की वारदात को भूल चुकी हैं. लीड्स के मैदान के ऊपर इस विमान उड़ान के बारे में आईसीसी ने कहा है यह एक गैर-अधिकृत विमान था. आईसीसी ने लीड्स एयर ट्रैफिक विभाग से इसकी जांच कराने का आश्वासन दिया है. खेलों की सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखने वालों का कहना है कि यह ब्रिटिश सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों की बड़ी चूक है.

यह मामला सिर्फ एयर ट्रैफिक विभाग तक सीमति नहीं है. इसकी बड़े स्तर जांच होनी चाहिए और सुरक्षा के इंतजामों की समीक्षा होनी चाहिए. इंग्लैंड में खेले जा रहे क्रिकेट विश्वकप के एक मैच के दौरान अफगानिस्तान और पाकिस्तान के समर्थक आपस में भिड़ गए. दरअसल, यह झड़प लीड्स के हेडिंग्ले क्रिकेट ग्राउंड के ऊपर से एक एयरक्राफ्ट गुजरने के बाद हुई जिसके जरिये 'जस्टिस फॉर बलूचिस्तान' का बैनर लहराया जा रहा था. इसके बाद मैच देखने आए पाक और अफगान टीम के फैन्स आपस में भिड़ गए. आईसीसी के मुताबिक, यह एक गैर-अधिकृत विमान था. जिसकी लीड्स एयर ट्रैफिक विभाग द्वारा जांच कराई जाएगी.

बहरहाल, शनिवार को हुई इस घटना पर वर्ल्ड बलूच ऑर्गनाइजेशन ने कहा, 'लीड्स में पाक-अफगानिस्तान विश्वकप मैच के दौरान प्लेन दूसरी बार विमान उड़ा, जिसमें 'जस्टिस फॉर बलूचिस्तान' का बैनर लहराया जा रहा था. हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील करते हैं कि बलूचिस्तान के नागरिक न्याय की मांग कर रहे हैं जिनके साथ दशकों से पाकिस्तानी सेना अत्याचार कर रही है.जहां आसमान में बलूचिस्तान के बैनर वाला हवाई जहाज उड़ा वहीं मैदान के बाहर अफगानिस्तान और पाकिस्तान के प्रशंसकों में भिडंत भी हुई. सुरक्षाकर्मियों ने दोनों देशों के प्रशंसकों को खेदेड़ कर शांति बहाल की.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।