वायरस के संक्रमण से होने वाले बुखार को वायरल फीवर(Viral Fever) कहते है. वायरल फीवर (Viral Fever) शरीर को प्रभावित करता है. इसे उच्च बुखार, आखों में जलन, सिर दर्द, शरीर में दर्द और कभी कभी जी का मितलाना व उलटी भी होती है. यह बूढों और बच्चों को ज्यादा अपनी चपेट में लेता है क्योंकी उनकी रोग प्रतिरोध क्षमता कम होती है. कुछ लोग स्वयं चिकित्सक बन जाते है और एंटीबायोटिक दवा का प्रयोग करते है जबकि एंटीबायोटिक्स दवा वायरस को नही मार सकती वो केवल हानिकारक वैक्टीरिया को ही मार सकती है.

इसलिए अपने शरीर का नुक्सान ना करे और यदि बुखार 103 F. है तो किसी  अच्छे चिकत्सक की उपस्थिति में वायरल फीवर का उपचार कराए. घरेलू उपचार भी इस स्थिति से निपटने में आप की सहयता कर सकते है. यदि आप वायरल बुखार का आयुर्वेदिक व घरेलू इलाज चाहते है

वायरल बुखार के कारण (Causes of Viral Fever)

1. यह एक व्यक्ति से दूसरें में फैलता है. जब संक्रमित व्यक्ति छींकता है, खास्ता है या बात करता है तो तरल पदार्थ के छोटे फुहार निकलते है. जो सांस द्वारा आप के शरीर में प्रवेश कर सकते है. यदि एक वायरस भी शरीर में प्रवेश कर लेता है तो वह 16 से 48 घंटे में पुरे शरीर को संक्रमित कर देगा.

2. वायरस द्वारा दूषित किसी भी पदार्थ या पैय का प्रयोग करना.

3. संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क मे आने से या तो रक्त द्वारा या यौन रूप से.

4. वायरल बुखार का एक कारण सर्दी भी है मौसम परिवर्तन.

वायरल बुखार के लक्षण (Symptoms of Viral Fever)

1. बुखार का बहुत तेज और फिर कुछ देर के लिए कम होना.

2. शरीर में अत्यधिक थकान का महसूस होना.

3. मांसपेशियों और जोड़ो में दर्द का होना.

4. अत्यधिक ठंड का लगना.

5. उलटी होना, नाक का बंद होना, खांसी, सिरदर्द, दस्त और शरीर पर चितके होना

वायरल बुखार का उपचार (Treatment of Viral Fever)

1. वायरल बुखार के लिए उपचार केवल संक्रमण के लक्षणों को कम करने पर आधारित है.

2. यदि रोगी को तेज बुखार है तो सबसे अच्छा है कि उसकों आराम करना चाहिए.

3. यदि रोगी को अत्यधिक बुखार,सिरदर्द, शरीर में दर्द हो तो चिकित्सक की सलाह लेने में संकोच न करे.

4. खाने में दाल खिचड़ी, सूप और जौ रोटी का प्रयोग करे क्योंकी ये हल्का भोजन होता है जल्दी पचता है और वायरल रोग प्रतिरोधी भी है रोगी को उर्जा देता है.

5. कुछ लोग स्वयं चिकित्सक बनते है और एंटीपैरेरिकिक्स, एनाल्जेसिक्स, एंटीबायोटिक दवा का प्रयोग करते है. ऐसा ना बिना चिकित्सक की सलाह के ये शरीर के लिए हानिकारक है.

6. वायरल बुखार एंटीबायोटिक ठीक नही होगा क्योंकी ये दवा हानिकारक जीवाणुओं के लिए बनी है वायरस के लिए नही.

7. यदि चिकित्सक ने रोगी को एंटीबायोटिक दवा दी है तो उस कोर्स को पूरा करे हो सकता है वो किसी अन्य कारण या रोग के लिए दी गयी हो.

8. यदि बुखार 102F से निचे है तो घर पर ही देखभाल कर सकते है उसे अधिक है तो तुरंत चिकित्सक की साहयता ले.

9. मरीज को स्वच्छ जगह रखे और उसे दूरी बनाकर रहें उसके द्वारा इस्तेमाल की हुए चीजों का इस्तेमाल ना करे.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।