मूंगा रत्न मंगल ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है और मंगल एक ऊष्ण ग्रह है. नवरत्नों में से मूंगा रत्न बेहद ही खास है. यह सामान्यतः लाल रंग में पाया जाता है. इसके अलावा सिंदूरी, गुलाबी, सफेद, नीले और काले रंग में भी मूंगा पाया जाता है. अंग्रेज़ी में इसे ‘कोरल’ कहते हैं. जबकि लता के समान होने के कारण प्राचीनकाल में इसे ‘लतामणि’ के नाम से भी जाना जाता था. वहीं संस्कृत में इसे ‘विद्रुम’ कहते हैं. रत्नों का इतिहास धरती के पहाड़ों और चट्टानों के इतिहास से सीधा जुड़ा हुआ है.

लाल मूंगा अधिक मूल्यवान होता है. साथ ही मूंगा रंग भी छोड़ता है. इसकी प्रकृति नाजुक होती है. देखिये इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बाजार में हर चीज़ का एक नकली प्रारूप भी बड़ी आसानी से मिल जाता है. नकली मूंगे में धब्बे, सफेद धारियां, गड्ढे और दोरंगापन जैसे दोष होते हैं. 16वीं शताब्दी में ऐसा विश्वास किया जाता था कि मूंगे की एक टहनी तूफान को शांत कर सकती है. इससे पागलपन का इलाज हो सकता है और यह जादू-टोने आदि से बचाव करता है, साथ ही बच्चों की रक्षा करता है.

किस लग्न वालों को मूंगा धारण करना चाहिए और किस लग्न वालों को नहीं, यानी कि किसके लिये यह फायेदमंद होगा और किसके लिये नुकसानदायक. जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से किन लोगों को नहीं पहनना चाहिए.

मेष राशि

मेष लग्न वालों का मंगल लग्न, यानी शरीर और आठवें घर का स्वामी, यानी लग्नेश और अष्टमेश है. लग्नेश को शुभ माना जाता है तथा अष्टमेश को अशुभ माना जाता है. अष्टम स्थान आयु और मृत्यु से संबंध रखता है, अतः मेष राशी वालों को मूंगा सावधानीपूर्वक किसी सुयोग्य ज्योतिषी की देखरेख में ही पहनना चाहिए.

वृष राशि

वृष लग्न वालों के लिये मंगल सातवें और बारहवें घर का स्वामी होता है, यानी सप्तमेश होता है और सप्तमेश मारकेश है. अतः मूंगा आपके लिये मारक है और व्ययेश भी शुभ नहीं माना जाता है, अतः आपको मूंगा धारण नहीं करना चाहिए.

मिथुन राशि

मिथुन लग्न वालों का मंगल छठे और ग्यारहवें घर का स्वामी होता है, जो कि अकारक हैं. अतः आपको भी मूंगा नहीं पहनना चाहिए. अगर पहनेंगे तो आपको पेट से संबंधी परेशानी हो सकती हैं.

कर्क राशि

कर्क लग्न वालों के लिये मंगल पांचवे और दसवें घर का स्वामी होता है. ये दोनों ही स्थान शुभ हैं. पंचम स्थान विद्या, संतान, गुरु, विवेक, रोमांस और डिसिजन मेकिंग की अबिलीटी आदि से संबंधित है तो वहीं दसवां घर पिता और करियर का है. अतः आप मूंगा पहन सकते हैं. मूंगा पहनने से आपको पंचम स्थान से संबंधित विषयों के शुभ परिणाम तो मिलेंगे ही, साथ ही आपके पिता की बेहतरी होगी और आपको करियर में सफलता मिलेगी.

सिंह राशि

सिंह लग्न वालों का मंगल चौथे और नवे घर का स्वामी होता है. ये दोनों ही स्थान शुभ हैं. चौथे घर का संबंध माता, भूमि, भवन, वाहन और सुख से होता है जबकि नवा घर भाग्य का होता है. अतः आपके लिये मूंगा धारण करना फायदेमंद होगा. मूंगा धारण करने से आपकी किस्मत का सितारा बुलंद होगा और आपको सभी सबंधित विषयों के शुभ परिणाम प्राप्त होंगे.

कन्या राशि

कन्या लग्न वालों के लिये मंगल तीसरे और आठवें घर का स्वामी होता है. त्रिषडायेश अकारक हैं, यानी कि 3, 6 और 11 के मालिक नुकसान कराने वाले होते हैं, साथ ही आठवें घर, यानी कि अष्टमेश को भी अशुभ माना जाता है, लिहाजा कन्या राशि वालों को मूंगा नहीं पहनना चाहिए.

तुला राशि

तुला लग्न वालों के लिये मंगल सेकेण्ड हाऊस, यानी दूसरे और सातवें घर का मालिक होता है और ये दोनों ही स्थान मारकेश हैं. अतः तुला राशि वालों को मूंगा बिल्कुल नहीं पहनना चाहिए.

वृश्चिक राशि

वृश्चिक लग्न वालों के लिये मंगल राशि का स्वामी है, लग्न का स्वामी है. ये स्थान अत्यंत शुभ है, लेकिन साथ ही मंगल छठे घर का भी स्वामी है, जो कि अकारक है. अतः आप कुछ सावधानियों के साथ मूंगा धारण अवश्य कर सकते हैं.

धनु राशि

धनु लग्न वालों का मंगल बारहवें और पांचवें घर का मालिक होता है. बारहवें घर को व्यय स्थान, यानी खर्च बढ़ाने वाला स्थान कहा जाता है. अगर आप मूंगा पहनेंगे तो आपके खर्चें अधिक बढ़ जायेंगे, परन्तु साथ ही पांचवे घर को अत्यंत शुभ स्थान माना जाता है. पंचम स्थान संतान, विद्या, गुरु, रोमांस और विवेक आदि से संबंध रखता है, अतः बारहवें स्थान के व्ययेश होने के बावजूद आप पंचम स्थान से संबंधित विषयों के शुभ परिणाम प्राप्त करने के लिये मूंगा पहन सकते हैं.

मकर राशि

मकर लग्न वालों के लिये मंगल एकादश, यानी ग्यारहवें और चौथे घर का स्वामी है. वैसे तो ग्यारहवां घर आमदनी और कामना पूर्ति का है, परन्तु साथ ही इस घर का स्वामी अकारक है, जबकि मकर लग्न वालों के चौथे घर का मालिक शुभ है. चौथे घर का संबंध माता, भूमि, भवन, वाहन और सुख से होता है. पत्रिका में चौथा घर ग्यारहवें घर से पहले आता है, अतः मकर लग्न वालों आप मूंगा पहन सकते हैं.

कुंभ राशि

कुंभ लग्न वालों का मंगल दसवें और तीसरे घर का मालिक होता है. दसवां घर पिता और करियर का स्थान है. मूंगा पहनने से आपके पिता की तरक्की होगी और आपको करियर में सफलता मिलेगी, लेकिन साथ ही मंगल तीसरे घर का स्वामी होने के कारण अकारक भी है. इसलिए यह आपको हानि करा सकता है. अतः आपको मूंगा पहनना अवॉयड ही करना चाहिए.

मीन राशि

मीन लग्न वालों के लिये मंगल नवे और दूसरे घर का स्वामी होता है. नवा घर भाग्य स्थान का स्वामी है, जबकि सेकेण्ड हाऊस, यानी दूसरे घर का स्वामी होने के कारण मारकेश है. अतः आपको मूंगा नहीं पहनना चाहिए. अगर आप मूंगा पहनेंगे तो आपके स्वास्थ्य की हानि होगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।