पलपल संवाददाता, भोपाल. एमपी सरकार द्वारा गठित मठ-मंदिर सलाहकार कमेटी के नये अध्यक्ष के पद पर आज मंगलवार 28 मई को स्वामी सुबुद्धानंद ने पदभार ग्रहण कर लिया. मंत्रालय में उन्हें धर्मस्व मंत्री पीसी शर्मा ने पदभार ग्रहण कराया. इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और मंत्री जयवर्धन सिंह भी मौजूद रहे. सुबुद्धानंद महाराज ज्योतिषपीठ एवं शारदा-द्वारिका पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज के परम शिष्य है, जिन्हें चुनाव से पहले प्रदेश सरकार ने मठ-मंदिर सलाहकार समिति का अध्यक्ष मनोनीत किया गया था.

पदभार ग्रहण करने के बाद महाराज ने कहा कि वचन पत्र को प्रणाम करते हुए बधाई देता हूं. यह महत्वपूर्ण कमेटी है, इसके माध्यम से मंदिरों का सरक्षण होगा. इसमें 11 सदस्य होंगे, एक सचिव होगा और मंदिरों की जानकारी रहेगी. कमेटी की बैठक साल में एक बार होगी.उन्होने कहा कि समय अनुसार बैठक कम या ज्यादा होगी. कमेटी के माध्यम से संस्कृति की रक्षा होगी. 21 हजार पुजारियों का मानदेय बढ़ा दिया गया है. 1 लाख मंदिर शासकीय जमीन पर हैं, उन्हें पट्टे दिए जाएंगे. विभाग में नर्मदा ट्रस्ट की स्थापना की है और नर्मदा पथ का निर्माण होगा.

मठ-मंदिर में जो भी सेवाएं होंगी उनकी पूरा करेंगें-दिग्विजय

दिग्विजय सिंह ने सुबुद्धानन्द को बधाई दी और कहा कि मठ मंदिरों की व्यवस्था जमाने के लिए एक ऐसे व्यक्ति को चुना जिन्होंने अपना पूरा जीवन धर्म के लिए दिया है. मध्यप्रदेश के मठ की जमीन विवाद को सुलझाकर और सरकारी जमीन को मंदिरों के आवंटित कराकर एक अच्छा प्रयास किया गया है.सिंह ने कहा कि मठ मंदिर में जो भी सेवाएं होंगी वो तन मन से पूरी करेंगे. बहुत से ऐसे मंदिर है जहां पूजन नहीं हो रही है, वहां हम कोशिश करेंगे कि रोजाना पूजा हो. जब भगवान की पूजा होती है तभी सुख शांति होती है.

समिति करेगी संरक्षण और विकास -पीसी शर्मा

वहीं जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि मंदिरों का संरक्षण और विकास कर लिए मठ मंदिर समिति की स्थापना की है. इस समिति में 11 सदस्य होंगें और और समिति का कार्यकाल 6 साल का होगा. सुबोधानन्द महाराज के लिए एक सचिव नियुक्त किया जाएगा.समिति के द्वारा पूरे प्रदेश के मठ मंदिर का काम काज देखा जाएगा. समिति के द्वारा मंदिरों की जो भी अनुशंसाएं होगी. उन्हें पूरा किया जाएगा.शर्मा ने कहा कि वचन पत्र के अनुसार 21 हज़ार पुजारियों का वेतन 3 गुना बढ़ाया गया है. 1 लाख मंदिरों को पट्टा देकर समितियां बनेगी. सरकार ने नर्मदा ट्रस्ट की भी स्थापना की है. नर्मदा परिक्रमा के पथ को भी चिन्हित किया जाएगा. 200 किलोमीटर के राम पथ गमन पथ का भी निर्माण समिति के माध्यम से होगा. मंदिरो और देवालयों को सक्षम बनाने के लिए आसपास की भूमि पर अगर कोई व्यापारिक कार्य हो सके तो उसकी भी व्यवस्था की जाएगी.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।