खबरंदाजी. लोकसभा चुनाव को लेकर एग्जिट पोल के जो नतीजे आए हैं, उनके नतीजे में जहां भाजपाई उत्साहित हैं, वहीं विपक्षी आक्रोशित हैं?

जहां एग्जिट पोल समर्थक इन नतीजों पर अपने-आप से भी ज्यादा भरोसा कर रहे हैं, वहीं विरोधियों को लगता है कि सबकुछ प्रायोजित है! इन तोता पोल को लेकर तीन बड़े सवाल हैं...

एक- नरेन्द्र मोदी को एनडीए का निर्विवाद सर्वमान्य नेता स्थापित कर देना, ताकि भविष्य में उनके नाम पर कोई आपत्ति नहीं करे? खासकर बीजेपी को 272 से कम सीटें मिलें तब भी 2014 से बड़ी जीत करार देना?

दो- विपक्षी एकता की गतिविधियों को ब्रेक लगाना, ताकि चुनावी नतीजे आने तक जोश ठंडा पड़ जाए और विपक्षी एकता ढेर हो जाए?

तीन- एनडीए और यूपीए के अलावा के शेष दलों को एनडीए की ओर आने के लिए प्रेरित करना?

इनके अलावा, विपक्षियों को यह डर भी है कि इसकी आड़ में ईवीएम पर नतीजे बदलने की कोई कलाकारी दिखाई जा सकती है? हालांकि, यह आशंका इसलिए ज्यादा वजनदार नहीं है कि इतने बड़े पैमाने पर ईवीएम से छेड़छाड़ आसान नहीं है!

इन आशंकाओं के चलते ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने पार्टी कार्यकर्ताओं को एग्जिट पोल पर न न देने की अपील की, उन्होंने कहा कि- वे अफवाहों और एक्जिट पोल पर ध्यान न दें. यही नहीं, उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे स्ट्रॉन्ग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहें. अपने ऑडियो सन्देश में प्रियंका ने कहा कि- आप लोग अफवाहों और एक्जिट पोल से हिम्मत मत हारिए. यह अफवाहें आपका हौसला तोड़ने के लिए फैलाई जा रही हैं. इस बीच आपकी सावधानी और भी महत्वपूर्ण बन जाती है. स्ट्रांग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहिए और चौकन्ने रहिए. उन्होंने  कहा कि- हमें पूरी उम्मीद है कि हमारी और आपकी मेहनत का फल मिलेगा!

उधर, पश्चिम बंगाल की सीएम और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने भी एग्जिट पोल पर प्रश्नचिन्ह लगाए हैं. कुमारस्वामी का कहना है कि- एग्जिट पोल के जरिए बीजेपी छोटे दलों को 23 मई 2019 के चुनाव परिणामों से पहले ही लुभा रही है. सीएम ममता बनर्जी ने एक्जिट पोल को अटकलबाजी करार देते हुए कहा कि उन्हें ऐसे एग्जिट पोल पर भरोसा नहीं, क्योंकि इस रणनीति का इस्तेमाल ईवीएम में गड़बड़ी करने के लिए किया जाता है?

सियासी सयानों का मानना है कि एग्जिट पोल का इतिहास बताता है कि ये सियासी हवा का रूख तो बता सकते हैं, लेकिन सही-सही हार-जीत और सीटों की संख्या जानना संभव नहीं है, अलबत्ता राजनीतिक गपशप के लिए ये बेहद उपयोगी हैं!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।