नजरिया. जीवन में आदर्शों का बड़ा महत्व है, खासकर राजनीति में तो यह इसलिए भी बेहद महत्वपूर्ण है कि सियासत में आदर्श दूर्लभ होते हैं! पीएम मोदी वशंवाद से लेकर लाल बत्ती तक के उदाहरणों से भले ही राजनीति में विशेषाधिकार का विरोध करते हों, लेकिन न तो वे वंशवाद का प्रायोगिक विरोध बीजेपी में कर पाए हैं और न ही ऐसे मामलों में अपनों को ही आदर्श व्यवस्थाएं स्वीकार करवा पाए हैं? राजस्थान में वे सीएम अशोक गहलोत के पुत्र को कांग्रेस उम्मीदवार बनाने पर तो निशाना साधते रहे, लेकिन क्या पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बेटे को बीजेपी उम्मीदवार बनने से रोक पाए? यही वजह है कि प्रियंका गांधी वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा ने फेसबुक के जरिए पीएम मोदी पर जोरदार सियासी हमला किया और व्यंग्यबाण चलाते हुए कहा कि- जो लोग शीशे के घरों में रहते हैं वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते.

खबर है कि... पीएम मोदी के भाई प्रहलाद मोदी एक यात्रा के दौरान राजस्थान पुलिस की ओर से एस्कार्ट मुहैया नहीं कराए जाने से नाराज होकर जयपुर के बगरू थाने के बाहर धरने पर बैठ गए थे, इस घटना के बाद रॉबर्ट वाड्रा ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि- जो लोग शीशे के घरों में रहते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते और यही बात हमारे प्रधानमंत्री पर भी लागू होनी चाहिए, जो आए दिन दूसरों पर महत्वपूर्ण होने का तंज कसते रहते हैं.

क्या यही अच्छे दिन हैं जो उनके भाई स्वयं अपने आप को एस्कॉर्ट गाड़ी दिलाने के लिए धरने पर बैठे? इस घटना के बाद रॉबर्ट वाड्रा को पीएम मोदी पर सियासी हमला करने का अवसर मिल गया, उन्होंने कहा कि- मेरी सुरक्षा आधी कर दी गई, जबकि मुझे हर तरफ से खतरा बताया जाता था. मुझे वह समय भी याद है, जब मेरी मां की सुरक्षा में दिए गए दो सुरक्षाकर्मी भी बिल्कुल हटा लिए गए, जबकि उनके घर के बाहर लोगों का तांता लगा रहता है, जो किसी न किसी कारणवश मिलना चाहते हैं.

इसमें किसी भी प्रकार के लोग हो सकते हैं. लेकिन हमने सम्मानपूर्वक सरकार के इस फैसले को माना! रॉबर्ट वाड्रा का कहना है कि- आज प्रधानमंत्री जी के भाई इस बात पर धरने पर बैठे हैं कि उन्हें एस्कॉर्ट गाड़ी चाहिए, यह कितना उचित है? क्या यह नामदार है या कामदार? प्रधानमंत्री जी इन्हीं अच्छे दिनों की चर्चा किया करते थे? क्या आज प्रधानमंत्री जी नहीं कहेंगे- बहुत हुआ? राजनीतिक जानकारों का मानना है कि- सियासत में स्वयं आदर्श प्रस्तुत जितना आसान है, इसके लिए अपने लोगों को तैयार करना उतना ही मुश्किल काम है!

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. RBI के खिलाफ आजादी के बाद पहली बार सरकार ने किया विशेष शक्ति का इस्तेमाल

2. CM योगी का राम मंदिर पर बड़ा बयान- धैर्य रखें, दिवाली पर खुशखबरी दूंगा

3. मध्यप्रदेश स्थापना दिवस विशेष...देखें हैं रंग हजार

4. न्यूनतम वेतन पर 'आप' की जीत, दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले पर SC ने लगाई रोक

5. सार्वजनिक वाहनों में अब जरूरी होगा लोकेशन ट्रेकिंग एवं आपात बटन

6. 50 पैसे का ये दुर्लभ सिक्का आपको दिला सकता है 51 हजार 500 रुपए, जानें कैसे

7. ईज ऑफ डुइंग बिजनेस: भारत 23 पायदान की छलांग लगा 100 से पहुंचा 77 वें स्थान पर

8. दिवाली पर घर जाने के लिए ऐसे कराएं कन्फर्म तत्काल टिकट

9. MeToo:HC ने खारिज की छानबीन के लिए निर्देश की मांग वाली याचिका

10. भारत में आर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने एक दशक में 10 करोड़ नए रोजगार की जरूरत

11. मंगलनाथ की भात पूजा सहित इन उपायों से कर्ज संकट कम होता

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।